Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजहिन्दू देवी-देवताओं की तस्वीरें नाले में फेंक ईसाई बन गया रवींद्र, अब घर में...

हिन्दू देवी-देवताओं की तस्वीरें नाले में फेंक ईसाई बन गया रवींद्र, अब घर में 100 हिन्दुओं को जुटा कर करवा रहा था येशु का गुणगान: लाइब्रेरी की आड़ में ₹500 देकर धर्मांतरण

लाखन सिंह के आरोप है कि घर के अंदर हिन्दुओ को ईसाई बनाया जा रहा था। यहाँ लोगों को 500 रुपए भी दिए जा रहे थे। जिस घर में यह सब कार्यक्रम चल रहा था उसका मालिक कोई रवींद्र कुमार है।

राजस्थान के भरतपुर स्थित एक गाँव में में ईसाई धर्मांतरण की घटना को ले कर हंगामा खड़ा हो गया। ‘विश्व हिन्दू परिषद’ (VHP) कार्यकर्ता विरोध जताते हुए घटनास्थल पर पहुँचे। धर्मांतरण के लिए बुलाए गए लोगों की संख्या लगभग 100 बताई जा रही है। इस दौरान हिन्दू संगठन के सदस्यों की आरोपितों से हाथापाई भी हुई है। पुलिस ने केस दर्ज कर के 20 महिलाओं सहित कुल 28 संदिग्धों को हिरासत में ले लिया है। मामले की जाँच चल रही है। घटना शुक्रवार (5 जुलाई, 2024) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला भरतपुर जिले के थाना क्षेत्र मथुरागेट का है। शुक्रवार को हिन्दू संगठन ने सदस्यों को रेलवे फाटक नंबर 39 एरिया में बने एक घर में धर्मांतरण की सूचना मिली। इस सूचना पर विश्व हिन्दू परिषद के जिलाध्यक्ष लाखन सिंह आने साथियों के साथ सिमको फैक्ट्री के पास बने इस घर में पहुँचे। घर के अंदर लगभग 100 लोग मौजूद दिखे। जमावड़े की वजह पूछने पर एक महिला ने सफाई के तौर पर वहाँ लाइब्रेरी चलने की बात कही। हालाँकि विहिप के कार्यकर्ता इस जवाब से संतुष्ट नहीं हुए।

लाखन सिंह के आरोप है कि घर के अंदर हिन्दुओं को ईसाई बनाया जा रहा था। यहाँ लोगों को 500 रुपए भी दिए जा रहे थे। जिस घर में यह सब कार्यक्रम चल रहा था उसका मालिक कोई रवींद्र कुमार है। रवींद्र मूल रूप से भरतपुर शहर के ही पास एक गाँव अजान का रहने वाला है। बताया जा रहा है कि रवींद्र पहले हिन्दू था लेकिन कुछ समय पहले ईसाई बन गया। तब उसने अपने घर से हिन्दू देवी-देवताओं की तस्वीरें और मूर्तियाँ निकाल कर नाले में फेंक दी थीं। इस हरकत का अजान गाँव के निवासियों ने विरोध किया था।

कहा जा रहा है कि तब से रवींद्र भरतपुर शहर में रह कर ईसाइयत का प्रचार करते हुए अन्य हिन्दुओं को भी धर्मांतरित कर रहा था। बताया जा रहा है कि रवीन्द्र के घर के बाहर चर्च फाउंडेशन का बैनर लगा था। यहीं पर WMF मानवाधिकार महासंघ कार्यालय का भी बोर्ड लगा है। शुक्रवार को हिन्दू संगठन के सदस्यों को अपने घर में देख का रवींद्र आग-बबूला हो गया। वह विहिप कार्यकर्ताओं से उलझ गया जिस से दोनों तरफ से हाथापाई हुई। इस हाथापाई में 1 व्यक्ति घायल हो गया है। एक महिला ने अपने साथ अभद्रता किए जाने का भी आरोप लगाया है।

मामले की जानकारी होते ही पुलिस मौके पर पहुँची। पुलिस ने विवाद शाँत करवाया। हिन्दू संगठनों ने जहाँ मामले में धर्मान्तरण की शिकायत दर्ज करवाई है तो वहीं रवींद्र् के परिजनों ने अपने साथ मारपीट का आरोप लगाया है। पुलिस ने कुल 28 लोगों को हिरासत में लिया है जिसमें 20 महिलाएँ हैं। मामले की जाँच व अन्य जरूरी कार्रवाई की जा रही है। विहिप नेता लाखन सिंह ने बताया कि कुछ दिनों पहले भी भरतपुर की सोनार हवेली में धर्म परिवर्तन की घटना सामने आई थी। तब इसकी जाँच के लिए SIT का गठन हुआ था। हालाँकि आरोप है कि SIT ने आरोपितों पर कोई कार्रवाई नहीं की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -