Wednesday, September 29, 2021
Homeदेश-समाजकल्याण सिंह की हालत गंभीर: लेखक आसिफ रेयाज ने कहा - 'एक विवादित ढाँचा...

कल्याण सिंह की हालत गंभीर: लेखक आसिफ रेयाज ने कहा – ‘एक विवादित ढाँचा गिरने जा रहा है’

सोशल मीडिया पर लोग उनके स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं लेकिन लेखक आसिफ रेयाज ने वहाँ भी जहर उगला। उसने खुद को 'इमकानात की दुनिया' और 'मुज़फ्फरनगर कैम्प में' नामक पुस्तकों का लेखक बताया है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की हालत गंभीर है। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है। बताया गया है कि लगातार अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टरों की निगरानी में उनका इलाज चल रहा है। राजधानी लखनऊ में स्थित ‘संजय गाँधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज’ ने बताया कि कल्याण सिंह के स्वास्थ्य व इलाज से जुड़े सभी पहलुओं का निरीक्षण निदेशक प्रोफेसर आरके धीमान ही कर रहे हैं।

ANI ने अस्पताल के हवाले से ट्विटर पर इस खबर को प्रकाशित किया। वहीं आसिफ रेयाज नाम के व्यक्ति ने इसके रिप्लाई में आपत्तिजनक व संवेदनहीन टिप्पणी करते हुए लिखा, “एक विवादित ढाँचा गिरने जा रहा है।” अपने ट्विटर बायो में उसने खुद को ‘इमकानात की दुनिया’ और ‘मुज़फ्फरनगर कैम्प में’ नामक पुस्तकों का लेखक बताया है। ट्विटर प्रोफ़ाइल के अनुसार, वो देश की राजधानी दिल्ली में रहता है।

कल्याण सिंह को लेकर आसिफ रियाज़ का आपत्तिजनक कमेंट

ऊपर संलग्न किए गए स्क्रीनशॉट में आप उसकी टिप्पणी देखते हैं। दरअसल, बाबरी-विध्वंस को लेकर कल्याण सिंह को जिम्मेदार मानते हुए उसने इस तरह की आपत्तिजनक टिप्पणी की है। वो ‘नक्श-ए-राख’ नामक एक ब्लॉग भी चलाता है। जहाँ एक तरफ लोग कल्याण सिंह जैसे नेता के स्वास्थ्य गिरने से दुःखी हैं और उनके जल्दी ठीक होने की कामना कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ इसने इस तरह की टिप्पणी की है। कल्याण सिंह राजस्थान के राज्यपाल भी रहे हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री के रूप में कल्याण सिंह के पहले कार्यकाल के दौरान ही बाबरी विध्वंस हुआ था। मुख्यमंत्री बनने के बाद ही उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ अयोध्या जाकर ये संकल्प लिया था कि वहाँ एक भव्य राम मंदिर का निर्माण कराया जाएगा। अयोध्या को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की कवायद उन्होंने तभी शुरू कर दी थी और इसके लिए भूमि अधिग्रहण भी किया गया था। उनके कार्यकाल के दौरान ही राम मंदिर की ‘आधारशिला’ रखी गई थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe