Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजभाजपा नेता सना उर्फ हिना खान को मारकर पप्पू ने नदी में फेंका, नहीं...

भाजपा नेता सना उर्फ हिना खान को मारकर पप्पू ने नदी में फेंका, नहीं मिल पाया शव: 1 अगस्त को जबलपुर से हुई थीं लापता, जाँच जारी

सना खान ने 6 महीने पहले ही बिलहरी निवासी ढाबा संचालक पप्पू से शादी की थी। 35 वर्षीय सना और पप्पू दोनों पहले से शादीशुदा हैं। सना का एक बच्चा है, जिसे छोड़कर वह पप्पू के पास जबलपुर आ गई थी। सना खान से नजदीकी के चलते पप्पू भी अपनी पत्नी से अलग रहने लगा।

महाराष्ट्र भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की नगर महामंत्री सना उर्फ हिना खान की मध्य प्रदेश के जबलपुर में हत्या कर दी गई है। वह करीब एक सप्ताह से लापता थी। पुलिस ने इस मामले में आरोपित पति अमित साहू उर्फ पप्पू को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि आरोपित ने बताया है कि उसने सना की हत्या कर शव को हिरण नदी में फेंक दिया था। हालाँकि, सना खान का शव अभी तक बरामद नहीं हुआ है। पुलिस को इस हत्या में किसी और के भी शामिल होने का अंदेशा है।  

पुलिस ने ऐसे सुलझाई लापता होने की गुत्थी 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बीजेपी नेता सना खान 1 अगस्त 2023 को अपनी माँ को बताकर जबलपुर के लिए निकली थीं। परिजनों का दावा है कि वह ढेर सारे बेशकीमती जेवरात पहन कर निकलीं थीं। 2 अगस्त को सना ने अपने एक रिश्तेदार इमरान को फोन कर जबलपुर पहुँचने की सूचना दी।

कहा जा रहा है कि इसी दिन शाम को सना ने इमरान से फोन पर बातचीत करते हुए अपने पति अमित द्वारा मारपीट की बात कही। तब से ही उनका फोन बंद आ रहा था। वहीं, इस मामले की जानकारी इमरान ने उनकी माँ को दे दी थी। इसके बाद सना खान 1 अगस्त 2023 से लापता थीं।

सना के परिजनों ने जबलपुर में आकर सना की तलाश शुरू की। लेकिन, जब उनका कुछ पता नहीं चला तो परिजनों ने उनकी हत्या की आशंका जताते हुए इस मामले में शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने पति पर ही हत्या का आरोप लगाया, जिसके आधार पर जबलपुर और नागपुर पुलिस ने मिलकर सना की खोज शुरू की। मोबाइल के लोकेशन के आधार पर सना खान और अमित की तलाश की जा रही थी।

आखिरकार, शुक्रवार (11 अगस्त 2023) को पुलिस की तलाश खत्म हो गई। इस पूरे मामले में जबलपुर और नागपुर पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में सप्ताह भर में ही पर्दाफाश कर दिया। पुलिस ने इस मामले में बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि सना खान की हत्या हो गई है और मुख्य आरोपित अमित उर्फ पप्पू को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस पूछताछ में अमित ने सना खान की हत्या की बात को कबूल कर लिया है। अमित ने पुलिस को बताया है कि सना को उसने पहले अपने मकान में ही डंडा मारकर मौत के घाट उतार दिया था। हत्या के बाद सना की लाश को उसने जबलपुर से तकरीबन 45 किलोमीटर दूर हिरण नदी के पुल से नीचे फेंक दिया। 

हत्या के कारण का नहीं हुआ खुलासा 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस आरोपित अमित को लेकर घटनास्थल पर जाँच-पड़ताल कर रही है, लेकिन उसके सामने बड़ी चुनौती सना की लाश को ढूँढना है। पुलिस के मुताबिक, सना और अमित पति-पत्नी थे। उनके बीच लंबे समय से पैसों को लेकर विवाद चल रहा था। इसी विवाद के चलते सना खान नागपुर से जबलपुर अमित से मिलने आई थी। इस मुलाकात के दौरान ही दोनों के बीच विवाद हुआ।

हालाँकि, इस पूरे मामले में पुलिस अभी तक किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुँची है कि आरोपित पति ने भाजपा नेता की हत्या किस कारण से की है। पुलिस को इसमें किसी और के भी शामिल होने का अंदेशा है। इसको ध्यान में रखते हुए आगे की जाँच की जा रही है। हालाँकि, हत्या की एक बड़ी वजह पैसे को लेकर विवाद भी बताया जा रहा है। 

6 माह पहले ही अमित उर्फ पप्पू साहू से हुई थी शादी

सीएसपी तुषार सिंह ने बताया कि नागपुर के मानकपुर इलाके से ताल्लुक रखने वाली सना खान ने 6 महीने पहले ही बिलहरी निवासी ढाबा संचालक पप्पू से शादी की थी। उन्होंने बताया कि 35 वर्षीय सना और पप्पू दोनों पहले से शादीशुदा हैं। सना का एक बच्चा है, जिसे छोड़कर वह पप्पू के पास जबलपुर आ गई थी। उधर, सना खान से नजदीकी का पता चलते ही पप्पू का उसकी पत्नी से विवाद होने लगा था। इसके बाद वह अपनी पत्नी से अलग रहने लगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल है या झटका… मीट की दुकान के बाहर लिखो: जयपुर नगर निगम ने जारी किया आदेश, शिव मंदिर के पास और काँवड़ियों के...

जयपुर नगर निगम ने कावंडियों के रास्ते में और शिव मंदिर के निकट खुले में मीट बिक्री पर रोक लगाने की बात कही है।

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -