Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजदशरथ महल में जीवंत होगा रामलला का बचपन, योगी सरकार ने सँवारा: अखिलेश राज...

दशरथ महल में जीवंत होगा रामलला का बचपन, योगी सरकार ने सँवारा: अखिलेश राज में धूल फाँकती रह गई थी फाइल

अयोध्या के नवनिर्मित राम मंदिर में 22 जनवरी 2024 को होने वाली रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियाँ अंतिम चरण में हैं। इसी के साथ प्रभु श्रीराम से जुड़े ऐतिहासिक चिह्नों को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार संरक्षित करने का प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में जल्द ही अयोध्या में स्थित दशरथ महल नए रूप में नजर आएगा।

अयोध्या के नवनिर्मित राम मंदिर में 22 जनवरी 2024 को होने वाली रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियाँ अंतिम चरण में हैं। इसी के साथ प्रभु श्रीराम से जुड़े ऐतिहासिक चिह्नों को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार संरक्षित करने का प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में जल्द ही अयोध्या में स्थित दशरथ महल नए रूप में नजर आएगा।

यूपी की योगी सरकार ने दशरथ महल की वह आभा लौटाई है, जो कभी त्रेता युग में हुआ करती थी। कहा जाता है कि महाराज दशरथ ने त्रेता युग में इस महल की स्थापना की थी। इस दशरथ महल में आने वाले लोगों को प्रभु श्रीराम के बाल्यकाल के चरणों की अनुभूति होगी। योगी सरकार ने दशरथ महल को सँवारने का कार्य फरवरी 2021 में शुरू किया था।

दशरथ महल में योगी सरकार ने सत्संग भवन, नया प्रवेश द्वार, रात्रि विश्राम गृह और श्रद्धालु सहायता केंद्र बनाया है। इन सब पर ₹3 करोड़ का खर्चा किया है। इसमें बाकी कामों को 22 जनवरी 2024 तक पूरा कर लिया जाएगा। दरअसल, दशरथ महल को संवारने की योजना अखिलेश सरकार के दौरान वर्ष 2013 में भी आई थी लेकिन वह मात्र कागजों पर ही सिमट कर रह गई।

साल 2013 में ₹2.4 करोड़ से इसके विकास को लेकर प्रस्ताव आया था, लेकिन यह एक मेज से दूसरे मेज तक घूमता रहा। लालफीताशाही और इसको विकसित करने की इच्छा ना होने के चलते कभी भी महल का विकास संभव नहीं हो सका। हालाँकि, योगी सरकार ने इसका अधिकांश काम पूरा करा लिया है।

दशरथ महल में बनाए गए यात्री रात्रि निवास और श्रद्धालु सहायता केंद्र का काम पूरा हो चुका है। प्रवेश द्वार का काम भी लगभग पूरा है। अब सत्संग भाव को लेकर काम चल रहा है। सत्संग भवन को लेकर अब कई स्तर पर काम किया जा रहा है। सत्संग भवन में स्टेज को पहले ही बना लिया गया है।

यहाँ पर नए तरीके से टाइल, खिड़की और दरवाजों का काम चल रहा है। कहा जा रहा है कि इस सत्संग भवन में एक बार में 300 से 350 श्रद्धालु एक साथ बैठकर कीर्तन कर सकेंगे। सत्संग भवन को लेकर काम 1 दिसम्बर 2023 को चालू हुआ था, जिसे 22 जनवरी 2024 तक पूरा किया जाना है।

यहाँ नई तरीके की लाइटिंग का भी कम किया गया है। दीवालों पर नई पेंटिंग बनाई गई हैं। इन पेंटिंग में प्रभु राम के जीवन से जुड़ी हुई कथाएँ उकेरी गई हैं। प्रवेश द्वार को भी इसी हिसाब से बनाया गया है। अयोध्या आने वाले श्रद्धालु यहाँ आकर रात्रि में रुक सकेंगे और सहायता भी पा सकेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -