Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजप्रवासी मजदूरों का हरसंभव सहायता कर रही योगी सरकार को आपके सहयोग की जरूरत...

प्रवासी मजदूरों का हरसंभव सहायता कर रही योगी सरकार को आपके सहयोग की जरूरत – ये रहा बैंक डिटेल

जो लोग उत्‍तर प्रदेश सरकार की ओर से जारी 'मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष' में मदद करना चाहते हैं वह Central Bank of India के खाता संख्‍या 1378820696 पर अपनी मदद भेज सकते हैं। इस कोष में जमा की गई राशि आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 G के तहत पूर्ण रूप से कर रहित यानी कि टैक्स फ्री होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने भी कोरोना से लड़ने को आम जन से सहयोग माँगा है। योगी आदित्‍यनाथ ने भी ‘मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष’ की शुरुआत की है। इस राहत कोष में लोग मदद के लिए राशि भेज सकते हैं। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।

मुख्‍यमंत्री ने ट्वीट के माध्‍यम से कहा, “कोरोना वायरस महामारी से संघर्ष में सरकार व समाज की सम्मिलित शक्ति की आवश्यकता है। मेरी आप सभी से अपील है कि ‘मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष’ द्वारा पीड़ितों की सहायता व उन्हें राहत प्रदान करने हेतु अपनी सामर्थ्य के अनुसार सहयोग करें और हम सभी के इस महासंघर्ष को शक्ति प्रदान करें।”

जो लोग उत्‍तर प्रदेश सरकार की ओर से जारी ‘मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष’ में मदद करना चाहते हैं वह Central Bank of India के खाता संख्‍या 1378820696 पर अपनी मदद भेज सकते हैं। इस कोष में जमा की गई राशि आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 G के तहत पूर्ण रूप से कर रहित यानी कि टैक्स फ्री होगी। इस संबंध में मुख्यमंत्री के विशेष सचिव सुरेंद्र सिंह द्वारा रविवार (मार्च 29, 2020) को पत्र जारी किया गया। 

यूपी मुख्यमंत्री द्वारा जारी पत्र

पत्र में उन्होंने कहा है कि इस संकट की घड़ी में प्रदेश सरकार सभी नागरिकों को आर्थिक मदद पहुँचा रही है। संक्रमित व संदिग्ध मरीजों के नि:शुल्क इलाज के साथ-साथ भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए भी आवश्यक प्रबंध किए जा रहे हैं। मानवीय संवेदनाओं का उत्कृष्ट व अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करते हुए अनेक औद्योगिक, व्यापारिक व सामाजिक संगठन मदद के लिए आगे आए हैं। प्रदेश सरकार इनके सहयोग व योगदान के लिए कृतज्ञ है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री कार्यालय में मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष नामक कोष है। इसमें जनता या स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा दिया गया दान/ चंदा जमा होता है। इसका उपयोग पीड़ितों की सहायता व राहत प्रदान करने में किया जाता है। 

उन्होंने दान देने के लिए बैंक का खाता नंबर व अन्य जानकारियाँ भी दीं हैं। इस पीड़ित सहायता कोष का सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में खाता संख्या 1378820696 है। खाते का नाम CHIEF MINISTER’S DISTRESS RELIEF FUND और ब्रांच का नाम C.B.I. CANTT. ROAD, LUCKNOW है। इसका IFSC कोड CBINO281571 और ब्रांच कोड 281571 है। इसके साथ ही जो लोग विदेशों में रह रहे हैं, वो अगर इस राहत कोष में दान देना चाहते हैं तो उसके लिए SWIFT CODE भी जारी किया है। विदेशी लोग SWIFT CODE- CBININBBLKO का इस्तेमाल कर मदद कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को कोष का आम लोगों में व्यापक प्रचार-प्रसार करने का आग्रह किया है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक (DGP) ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष में 1 लाख रुपए का दान दिया है। इसके साथ ही महामारी के रूप में फैल चुके कोरोना संक्रमण से जंग में बड़ा दिल दिखाते हुए तमाम प्रदेशवासी आगे आए हैं। उन्होंने इस आपदा में व्यवस्थाओं को मजबूत करने के लिए अपनी क्षमता के अनुसार आर्थिक सहयोग सरकार को दिया है। गरीब-मजदूरों, किसान, वृद्ध और महिलाओं को भरण पोषण भत्ता देने के साथ ही सभी कोरोना संक्रमित मरीजों का नि:शुल्क इलाज करा रही सरकार ने इस सहयोग को काफी अहम माना है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहयोग देने वालों का आभार जताया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe