Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजकाशी के अस्सी घाट पर स्कूल ड्रेस में खुलेआम सुट्टा मारती दिखीं छात्राएँ, टोकने...

काशी के अस्सी घाट पर स्कूल ड्रेस में खुलेआम सुट्टा मारती दिखीं छात्राएँ, टोकने पर उलटे उलझ पड़ीं: पर्यटन स्थल पर पार्टी से बिफरे लोग

जब वहाँ कुछ लोगों ने छात्राओं को ऐसा करने से मना किया तो वे समझाने वाले लोगों से ही उलझ पड़ी। दरअसल, ये छात्राएँ फेयरवेल पार्टी मनाने अस्सी घाट पहुँची थी।

वाराणसी के मशहूर अस्सी घाट का एक वीडियो सोशल मीडिया (Social video) पर वायरल हो गया है। वीडियो में चार-पाँच छात्राएँ यहां सीढ़ियों पर सिगरेट का कश लगाते देखी जा सकती हैं। किसी ने इस वीडियो को रिकॉर्ड कर लिया और इसे सोशल मीडिया पर डाल दिया। हालाँकि, वीडियो दूर से रिकॉर्ड किया गया है। इसीलिए, इसमें छात्राओं को चेहरा साफ तौर नजर नहीं आ रहा है।

एक सोशल मीडिया यूजर ने कहा, “प्रशासन ने घाट पर सिगरेट पीने पर रोक लगाई है। माता पिता को समझाओ, उसके बाद उसे वीडियो भेजो।”

एक रिपोर्ट के अनुसार, जब वहाँ कुछ लोगों ने छात्राओं को ऐसा करने से मना किया तो वे समझाने वाले लोगों से ही उलझ पड़ी। दरअसल, ये छात्राएँ फेयरवेल पार्टी मनाने अस्सी घाट पहुँची थी और काफी देर तक बड़ी ही बेशर्मी से सिगरेट का कश लगाती रहीं। उल्लेखनीय है कि सार्वजनिक जगहों और पर्यटन स्थलों पर धूम्रपान करने पर ‘तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (सीओटीपीए)’ 2003 के तहत कार्रवाई का प्रावधान है।

छात्राओं के इस व्यवहार की लोग काफी आलोचना कर रहे हैं। लोग स्कूल प्रबंधन के साथ माता-पिता की परवरिश पर भी सवाल उठा रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, भले ही छात्राओं का चेहरा वीडियो में स्पष्ट तौर पर नहीं दिख रहा है, लेकिन स्कूल ड्रेस से पता चलता है कि ये छात्राएँ लहरतारा इलाके में स्थित एक स्कूल में पढ़ती हैं।

हालाँकि, स्कूल प्रबंधन का कहना है कि छात्राएँ इतनी दूर फेयरवेल मनाने नहीं जा सकती है। प्रबंधन ने आगे कहा कि ड्रेस देखकर तो यही लग रहा है कि छात्राएँ उसी के स्कूल की है। छात्राओं की पहचान कराई जा रही है। पहचान होने के बाद इनपर कार्रवाई की जाएगी। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -