Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाज'भारत में पूरी तरह बैन हो BBC, डॉक्यूमेंट्री की हो NIA जाँच': सुप्रीम कोर्ट...

‘भारत में पूरी तरह बैन हो BBC, डॉक्यूमेंट्री की हो NIA जाँच’: सुप्रीम कोर्ट में PIL, कहा- विकास हजम नहीं हो रहा, चला रहे अपना एजेंडा

याचिका में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश का समग्र विकास हो रहा। यह भारत विरोधी लॉबी खासकर बीबीसी को हजम नहीं हो रहा। देश की शांति और अखंडता को प्रभावित करने के इरादे से वह अपना एजेंडा चला रही है।

ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन (BBC) के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका (PIL) दायर की गई है। इसमें बीबीसी को भारत में पूरी तरह प्रतिबंधित करने की माँग की गई है। साथी ही ब्रिटिश मीडिया कंपनी की प्रोपेगेंडा डॉक्यूमेंट्री और इसमें शामिल पत्रकारों की NIA जाँच की माँग की गई है।

याचिका हिंदू सेना के अध्यक्ष विष्णु गुप्ता और बीरेंद्र कुमार सिंह ने अधिवक्ता बरुण कुमार सिन्हा के माध्यम से दायर की है। कहा है कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश का समग्र विकास हो रहा। यह भारत विरोधी लॉबी खासकर बीबीसी को हजम नहीं हो रहा। देश की शांति और अखंडता को प्रभावित करने के इरादे से वह अपना एजेंडा चला रही है।

याचिका में बीबीसी के कई भारत विराधी लेखों का भी उल्लेख किया गया है। इनके जरिए बीबीसी पर भारत और भारत सरकार विरोधी दुष्प्रचार का आरोप लगाया गया है। उल्लेखनीय है कि बीबीसी की प्रोपेगेंडा डॉक्यूमेंट्री ‘इंडिया-द मोदी क्वेश्चन’ पर बैन को भी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। इस पर 6 फरवरी 2023 को सुनवाई करने के लिए शीर्ष अदालत राजी भी हो चुका है।

दरअसल, इस प्रोपेगेंडा डॉक्यूमेंट्री में BBC ने गुजरात दंगों का दोष वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर डालने की कोशिश की है। यही नहीं, उनकी छवि इस्लाम विरोधी भी दिखाने की कोशिश की है। दो पार्ट में बनाई गई BBC की इस सीरीज में प्रधानमंत्री मोदी और भारत के मुस्लिमों के बीच तनाव की बात कही गई है। बीबीसी ने मोदी सरकार के देश के मुस्लिमों के प्रति रवैए, कथित विवादित नीतियाँ, कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने और नागरिकता कानून को लेकर भी सवाल उठाए गए हैं।

इस डॉक्यूमेंट्री की कई जगहों पर वामपंथी, कॉन्ग्रेसी और इस्लामी संगठन जबरन स्क्रीनिंग भी कर चुके हैं। इसके कारण पिछले दिनों देश के कई यूनिवर्सिटी से विवाद की खबरें भी आईं थी। इनमें जेएनयू, जामिया, हैदराबाद यूनिवर्सिटी, पुदुच्चेरी यूनिवर्सिटी जैसे शिक्षण संस्थान शामिल हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -