Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'होली, काफिरों का त्योहार…मत मनाओ': जामिया में कट्टरपंथियों ने लगाए 'अल्लाह-हू-अकबर'के नारे, प्रशासन को...

‘होली, काफिरों का त्योहार…मत मनाओ’: जामिया में कट्टरपंथियों ने लगाए ‘अल्लाह-हू-अकबर’के नारे, प्रशासन को ‘हिजड़ा’ कहा

होली भारत का एक प्रसिद्ध त्योहार है, जिसमें लोग अपने प्रेम और भाईचारा को प्रदर्शित करते हैं और एक-दूसरे को रंग लगाते हैं। इसका किसी धर्म से कोई ताल्लुक नहीं है। रंग का धर्म से ताल्लुक हो भी नहीं सकता, लेकिन कट्टरपंथी तत्व गैर-इस्लामी बताकर हंगामा करते नजर आए।

केंद्र सरकार के अधीन आने वाले दिल्ली की प्रमुख यूनिवर्सिटी जामिया मिलिया इस्लामिया (Jamia Milia Islamia University) में छात्रों द्वारा होली खेलने पर जमकर बवाल काटा गया। इस दौरान अल्लाह-हू-अकबर और नारा-ए-तकबीर के भड़काऊ नारे लगाए गए।

जामिया यूनिवर्सिटी के जामिया नगर स्थित परिसर के कई वीडियो सामने आए हैं। पत्रकार स्वाति गोयल शर्मा द्वारा शेयर की गई एक वीडियो में कुछ लोग अल्लाह हू अकबर के नारे लगाते नजर आ रहे हैं। वहीं, वीडियो में सुनाई दे रहा है कि ‘रंग लगाते हो तुम लोग, शर्म नहीं आती’। इस दौरान हिंदुओं को त्योहार मानने से रोका गया।

दरअसल, होली से पहले जामिया में ‘रंगोत्सव’ नाम से बुधवार (1 मार्च 2023) को होली मिलन का कार्यक्रम रखा गया था। इसका आयोजन गेट नंबर 13 के पास अंसारी ऑडिटोरियम के पास किया गया था। इस दौरान विद्यार्थियों को भड़काऊ नारे लगाकर होली खेलने से मना किया गया।

स्वाति गोयल ने एक अन्य ट्वीट में कट्टरपंथी तत्वों द्वारा कैंपस में होली ना मनाने देने की अपील करते हुए कई पोस्ट लिखी गई है। पोस्ट में होली को काफिरों का त्योहार कहा गया है। इसमें हदीस का भी उदाहरण दिया गया है।

ऐसे ही एक अन्य वीडियो में कुछ असामाजिक तत्व होली खेलने वालों को लेकर हंगामा कर रहे हैं। इसके साथ ही कैंपस में इसकी अनुमति देने पर जामिया प्रशासन को भी हिजड़ा कह दिया। वीडियो में इन तत्वों को हंगामा करते देखा जा सकता है।

होली भारत का एक प्रसिद्ध त्योहार है, जिसमें लोग अपने प्रेम और भाईचारा को प्रदर्शित करते हैं और एक-दूसरे को रंग लगाते हैं। इसका किसी धर्म से कोई ताल्लुक नहीं है। रंग का धर्म से ताल्लुक हो भी नहीं सकता, लेकिन कट्टरपंथी तत्व गैर-इस्लामी बताकर हंगामा करते नजर आए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -