Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाज1 पाइप के सहारे चल रही है उत्तरकाशी की सुरंग में 40 जिंदगी, अब...

1 पाइप के सहारे चल रही है उत्तरकाशी की सुरंग में 40 जिंदगी, अब 3 फीट व्यास वाले पाइप से मजदूरों को बाहर निकालने का प्लान

पहले मलबा हटाकर इन्हें निकालने का प्रयास किया गया था लेकिन बराबर नया मलबा आने के कारण विशेषज्ञों को दूसरी योजना बनानी पड़ी। इसके पश्चात मलबे के किनारे से एक पाइप डालकर मजदूरों तक पहुँचने की योजना बनाई गई।

उत्तरकाशी में सिल्कयारा सुरंग के भीतर फँसे 40 मजदूरों को अब लगभग 3 फीट व्यास वाले पाइपों से निकालने का प्रयास किया जा रहा है। घटनास्थल पर पाइप पहुँचाए जा चुके हैं। उन्हें मलबे के बीच से मजदूरों तक पहुँचाया जाएगा।

यह मजदूर 12 नवम्बर को सुबह 5:30 बजे इस सुरंग में अचानक मलबा आने से फँस गए थे। तब से ही NDRF, SDRF, राज्य पुलिस समेत तमाम एजेंसियाँ इनके रेस्क्यू में लगी हुई हैं। सभी मजदूर अभी सुरक्षित हैं और रेस्क्यू टीम से बात कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार, पहले मलबा हटाकर इन्हें निकालने का प्रयास किया गया था लेकिन बराबर नया मलबा आने के कारण विशेषज्ञों को दूसरी योजना बनानी पड़ी। इसके पश्चात मलबे के किनारे से एक पाइप डालकर मजदूरों तक पहुँचने की योजना बनाई गई। अगर टीम पहले मलबा हटाने में सफल हो जाती और नया मलबा ना आता तो इन्हें कल निकाल लिया गया होता।

इसी के लिए सुरंग के बाहर 900 मिलीमीटर व्यास वाले पाइप लाए गए हैं और उन्हें मशीनों के जरिए अब मलबे के बीच से गुजारा जाएगा। इस बीच मजदूरों को खाना, पानी, ऑक्सीजन और दवाइयों की सप्लाई एक अन्य पाइप के माध्यम से हो रही है।

मौके पर मौजूद NDRF के कमान्डेंट मणिकांत मिश्रा ने मजदूरों से वॉकीटॉकी के माध्यम से बात की है। उन्होंने मजदूरों को भरोसा दिलाया है कि वह उन्हें जल्द ही निकाल लेंगे। मौके पर राज्य सरकार के बड़े अधिकारियों समेत उत्तरकाशी प्रशासन मौजूद है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी मामले पर नजर बनाए हुए हैं। उनसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी बात की है। एक टीम भी इस समय उत्तरकाशी सुरंग हादसे की जाँच के लिए गठित की गई है जो कि घटनास्थल पर पहुँच कर जायजा ले रही है। टीम ने उस पहाड़ी का भी दौरा किया है जिसके अंदर से होकर यह सुरंग गुजर रही है।

घटनास्थल पर मलबा काटने वाली मशीन लगाई गई है, इसको स्थापित करने के लिए पहले पूजा भी की गई

यहीं पर बाहर एक अस्थायी अस्पताल भी स्थापित किया गया है। फँसने वाले मजदूरों में उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार के मजदूर शामिल हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -