Thursday, May 6, 2021
Home देश-समाज 20 मार्च के बाद मरकज छोड़ना चाहते थे, मगर मौलाना साद ने रोके रखा:...

20 मार्च के बाद मरकज छोड़ना चाहते थे, मगर मौलाना साद ने रोके रखा: 166 जमातियों ने दिया बयान

क्राइम ब्रांच की अब तक की जाँच में उनके पास काफी सबूत हैं, जिससे मालूम पड़ता है कि पुलिस के नोटिस दिए जाने के बाद मरकज में जमातियों को जानबूझकर रोका गया। मगर, जाँच को पक्का करने के लिए क्राइम ब्राँच ने इन 166 जमातियों के बयान को दर्ज किया।

कोरोना महामारी के बीच तबलीगी जमात का खुलासा होने के बाद से निजामुद्दीन मरकज के ख़िलाफ दिल्ली पुलिस सबूत इकट्ठा करने में जुटी है। ऐसे में दिल्ली की क्राइम ब्रांच की पड़ताल में एक नया खुलासा हुआ है।

दरअसल, मामले की जाँच में जुटी पुलिस ने 166 जमातियों का बयान दर्ज किया है। जो मार्च माह में मरकज में हुए कार्यक्रम में मौलाना साद और उसके बेटों के साथ वहाँ मौजूद थे।

एबीपी न्यूज के अनुसार, पूछताछ में इन जमातियों ने बताया कि कोरोना वायरस के बारे में मालूम पड़ते ही 20 मार्च के बाद वे मरकज़ से जाना चाहते थे, मगर मौलाना साद ने उन्हें रोके रखा।

खबर की मानें तो क्राइम ब्रांच की अब तक की जाँच में उनके पास काफी सबूत हैं, जिससे मालूम पड़ता है कि पुलिस के नोटिस दिए जाने के बाद मरकज में जमातियों को जानबूझकर रोका गया। मगर, जाँच को पक्का करने के लिए क्राइम ब्राँच ने इन 166 जमातियों के बयान को दर्ज किया। 

गौरतलब है कि इससे पहले मरकज मामले में कार्रवाई करते हुए दिल्ली पुलिस ने तबलीगी जमात के 700 विदेशी जमातियों के डॉक्यूमेंट सीज किए थे। ताकि ये लोग देश छोड़कर कहीं न भाग सकें और इनसे इस मामले में पूछताछ की जा सके कि आखिरकार इन्होंने किस आधार पर वीजा हासिल किया और किसने वीजा दिलाने में उनकी मदद किसने की थी।

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच इस समय हर एंगल की जाँच करके मौलाना साद पर शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है और जमात से जुड़ी सभी जानकारी गृह मंत्रालय को भेजी जा चुकी है जिससे जमातियों पर आवश्यक कार्रवाई हो सके।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स का ये भी कहना है कि मौलाना साद जानबूझ कर अपना कोविड 19 टेस्ट सरकारी अस्पताल से नहीं करवाना चाहता, क्योंकि वो जानता है कि जैसे ही सरकारी अस्पताल से कराए हुए कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट नेगेटिव आती है तो क्राइम ब्रांच उसको पूछताछ के लिए बुला सकती है।

याद दिला दें कि मरकज मामला खुलने के बाद मौलाना साद का एक ऑडियो वायरल हुआ था। उस ऑडियो में साद जमातियों को मरकज में रुकने का दबाव बना रहा था और कह रहा था कि मरने के लिए मस्जिद से बेहतर कोई जगह नहीं है। इस ऑडियो में उसे जमातियों को ये कहते स्पष्ट सुना गया था कि अल्लाह पर भरोसा करो,अल्लाह कोई मुसीबत इसलिए ही लाता है कि देख सके कि इसमें मेरा बंदा क्या करता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

महाराष्ट्र पुलिस में दलाली और उद्धव-पवार का नाम: जिस महिला IPS ने खोले पोल, उनकी गिरफ्तारी पर HC की रोक

IPS अधिकारी रश्मि शुक्ला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचीं, जहाँ FIR रद्द कर के पुलिस को कोई सख्त कदम उठाने से रोकने का निर्देश देने की दरख़्वास्त की गई।

CM केजरीवाल या उनके वकील – कौन है झूठा? दिल्ली में ऑक्सीजन पर एक ने झूठ बोला है – ये है सबूत

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट को लेकर दिल्ली सरकार से जुड़ी दो विरोधाभासी जानकारी सामने आई। एक खबर में बताया गया कि दिल्ली सरकार ने...

बंगाल में अब दलित RSS कार्यकर्ता की हत्या, CM ममता बनर्जी की घोषणा – मृतकों को मिलेंगे 2-2 लाख रुपए

बंगाल में एक RSS कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई। ईस्ट बर्दवान के केतुग्राम की में 22 वर्षीय बलराम मांझी की हत्या कर दी गई।

बंगाल हिंसा के ये कैसे जख्म: किसी ने नदी में लगाई छलांग तो कोई मॉं का अंतिम संस्कार भी नहीं कर सका

मेघू दास हों या बीजेपी के अनाम बूथ अध्यक्ष या फिर दलित भास्कर मंडल। टीएमसी के गुंडों से प्रताड़ित इनलोगों के जख्म शायद ही भर पाएँ।

80 साल की महिला से लेकर पशु प्रेमी तक… बंगाल के वे लोग जो TMC की जीत के बाद हिंसा की भेंट चढ़ गए

पश्चिम बंगाल में TMC की जीत के बाद कुछ लोगों की हत्या केवल इसलिए कर दी गई क्योंकि वे एक खास पार्टी से जुड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

बेशुमार दौलत, रहस्यमयी सेक्सुअल लाइफ, तानाशाही और हिंसा: मार्क्स और उसके चेलों के स्थापित किए आदर्श

कार्ल मार्क्स ने अपनी नौकरानी को कभी एक फूटी कौड़ी भी नहीं दी। उससे हुए बेटे को भी नकार दिया। चेले कास्त्रो और माओ इसी राह पर चले।

नेशनल जूनियर चैंपियन रहे पहलवान की हत्या, ओलंपियन सुशील कुमार को तलाश रही दिल्ली पुलिस

आरोप है कि सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

पेड़ से लटके मिले BJP के गायब कार्यकर्ता, एक के घर बमबारी: ममता ने 29 IPS बदले, बंगाल हिंसा पर केंद्र को रिपोर्ट नहीं

ममता बनर्जी ने शपथ लेते ही 16 जिलों के SP को इधर-उधर किया है। अधिकतर ऐसे हैं, जिन पर चुनाव आयोग ने भरोसा नहीं जताया था।

बंगाल हिंसा के कारण सैकड़ों BJP वर्कर घर छोड़ भागे असम, हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा- हम कर रहे इंतजाम

बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद उपजी राजनीतिक हिंसा के बाद सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं ने बंगाल छोड़ दिया है। असम के मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने खुद इसकी जानकारी दी है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,365FansLike
89,604FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe