Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजनूहं की जलाभिषेक यात्रा में शामिल नहीं थे शक्ति सैनी, चौराहे पर मिली लाश:...

नूहं की जलाभिषेक यात्रा में शामिल नहीं थे शक्ति सैनी, चौराहे पर मिली लाश: ग्रामीण ने बताया- शोएब मिष्ठान्न भंडार में करते थे काम

ऑपइंडिया ने इस मामले की पुष्टि के लिए SHO नगीना को कॉल किया। उन्होंने कहा, "बताएँगे। केस रजिस्टर कर दिया है इस मामले में।" इसके बाद उन्होंने खुद को बेहद व्यस्त बताते हुए फोन काट दिया।

हरियाणा के नूहं में 31 जुलाई 2023 (सोमवार) को हिन्दू संगठनों द्वारा निकाली गई जलाभिषेक यात्रा पर इस्लामी भीड़ ने हमला किया था। इस हिंसा में होमगार्ड के 2 जवानों सहित कुल 3 लोगों की मौत हो गई। इलाके में धारा 144 लगाई गई है।

ताजा जानकारी के मुताबिक, 1 अगस्त 2023 को हरियाणा के नगीना इलाके से और 3 शव बरामद हुए हैं। इसमें से 2 शवों की पहचान नहीं हो पाई है। तीसरा शव 34 वर्षीय शक्ति सैनी का बताया जा रहा है। शक्ति सैनी नगीना में मिठाई की दुकान में काम करते थे।

हरियाणा शिवसेना शिंदे गुट के पदाधिकारी रितुराज ने ऑपइंडिया को बताया कि मृतक शक्ति सैनी के पिता का नाम सोमपाल है। वह मुस्लिम बहुल भाड़स गाँव का रहने वाला था। शक्ति सैनी मिठाई की दुकान में काम कर अपने परिवार का भरण-पोषण करता था। रितुराज ने बाकी 2 शवों के भी हिन्दुओं का होने की आशंका जताई। हालाँकि, आधिकारिक तौर पर दोनों शवों की पहचान के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कुछ अन्य लाशों के खेतों से बरामद होने की अपुष्ट खबर भी सुनाई देने की जानकारी दी।

रितुराज ने हमें आगे बताया कि आशंका इस बात की जताई जा रही है कि हमले के दौरान शक्ति सैनी अपनी दुकान पर मौजूद थे। उन्हें दुकान से अपहरण कर कहीं और ले जाया गया और बाद में मारकर बड़कली चौराहे पर फेंक दिया गया। इसी चौक पर वह मिठाई दुकान है जिसमें शक्ति काम करते थे। शक्ति के ग्रामीण अंशुल सैनी ने ऑपइंडिया को बताया कि इस दुकान का नाम शोएब मिष्ठान भंडार है। दुकान मालिक शोएब साकरस गांव का रहने वाला है। उनके अनुसार जब शक्ति की लाश मिली तो उसके सिर पर चोट और घाव देखे गए।

जिस भाड़स गाँव के शक्ति सैनी रहने वाले थे, वह मुस्लिम बाहुल्य है। रितुराज ने पूरे नगीना को ही मेवात का हिस्सा बताते हुए मुस्लिम बाहुल्य बताया। गुरुग्राम के ही ऑपइंडिया ने इस मामले की पुष्टि के लिए SHO नगीना को कॉल किया। उन्होंने कहा, “बताएँगे। केस रजिस्टर कर दिया है इस मामले में।” इसके बाद उन्होंने खुद को बेहद व्यस्त बताते हुए फोन काट दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -