Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजनीरज प्रजापति के लिए ऑपइंडिया ने जुटाए ₹32 लाख: CAA समर्थन रैली में मुस्लिम...

नीरज प्रजापति के लिए ऑपइंडिया ने जुटाए ₹32 लाख: CAA समर्थन रैली में मुस्लिम भीड़ ने मार डाला था

ऑपइंडिया के प्रयासों के बाद जनता ने अब तक लगभग 32.5 लाख रुपए का सहयोग किया है। इसमें से 11.4 लाख रुपए क्राउडकैश के जरिए जुटाए गए, जबकि बाकी धनराशि लोगों ने दिवंगत नीरज की पत्नी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किया। परिवार ने इसके लिए जनता का धन्यवाद किया है।

नीरज प्रजापति का नाम याद है? लोहरदगा में 23 जनवरी को सीएए के समर्थन में आयोजित हुई रैली पर मुस्लिमों के हमले में घायल होने के बाद नीरज प्रजापति की मृत्यु हो गई थी। लोहरदगा सदर अस्पताल, राँची ऑर्किड हॉस्पिटल और फिर रिम्स में उनका इलाज चला, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। वो देवी-देवताओं की मूर्तियाँ व अन्य पेंटिंग्स बना कर अपना व परिवार का गुजर-बसर करते थे। बेटे की मृत्यु की ख़बर सुन कर नीरज के पिता को भी गहरा सदमा लगा था, जिसके बाद उन्हें रिम्स के आईसीयू में भर्ती कराया गया था।

चूँकि, परिवार की माली हालत ठीक नहीं है और दिवंगत नीरज द्वारा बनाई गई माँ सरस्वती की प्रतिमाएँ बिक नहीं पाईं, ऑपइंडिया ने परिवार की मदद के लिए क्राउडफंडिंग अभियान चलाया। दिवंगत नीरज राम प्रजापति की पत्नी के बैंक अकाउंट डिटेल को जारी किया गया और सार्वजनिक रूप से हमनें जनता से अपील करते हुए कहा कि वे अपनी-अपनी क्षमतानुसार सहयोग करें। नीरज प्रजापति की एक 9 साल की बेटी है और 3 वर्ष का बेटा है, जिनके भरण-पोषण हेतु लोगों द्वारा सहयोग स्वरूप दी गई राशि का अहम योगदान होगा।

ऑपइंडिया के संपादक अजीत भारती ने एक वीडियो के जरिए लोगों को दिवंगत नीरज के परिवार की व्यथा बताई और उनकी पत्नी दिव्या कुमारी के बैंक अकाउंट डिटेल्स सार्वजनिक करते हुए सहयोग की अपील की। परिवार काफ़ी ग़रीबी में जी रहा था और नीरज की पत्नी के पास अपना पैन नंबर तक नहीं था। बाद में परिजनों ने मिल कर उनका पैन अकाउंट बनवाया।

हालाँकि, इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को कोई बदल नहीं सकता लेकिन नीरज प्रजापति के परिवार, ख़ासकर बच्चों की शिक्षा-दीक्षा और रहन-सहन के लिए वित्त की ज़रूरत थी। सरकार ने मुआवजा देने से इनकार कर दिया तो ऑपइंडिया के प्रयासों के बाद जनता ने अब तक लगभग 32.5 लाख रुपए का सहयोग किया है। इसमें से 11.4 लाख रुपए क्राउडकैश के जरिए जुटाए गए, जबकि बाकी धनराशि लोगों ने दिवंगत नीरज की पत्नी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किया। परिवार ने इसके लिए जनता का धन्यवाद किया है।

ऑपइंडिया भी इस सहयोग के लिए जनता का आभार प्रकट करता है। अभी हालिया दिल्ली दंगों में आपने देखा ही होगा कि मुस्लिम भीड़ द्वारा मारे गए हिन्दुओं के परिवारों की कहीं भी सुनवाई नहीं हो रही है। नीरज प्रजापति का मामला तो मीडिया के भी नहीं उठाया और उन्हें झारखण्ड की हेमंत सोरेन सरकार ने कोई मदद नहीं मिली। उलटा उन पर दबाव बनाया गया कि वो सीएए समर्थन रैली में मुस्लिम भीड़ द्वारा मारे जाने की बात मीडिया में न बोलें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe