Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजबग्गा के खिलाफ दर्ज FIR रद्द करने का हाई कोर्ट का आदेश: उठाने के...

बग्गा के खिलाफ दर्ज FIR रद्द करने का हाई कोर्ट का आदेश: उठाने के लिए घर पहुँच गई थी पंजाब पुलिस, केजरीवाल पर ट्वीट को लेकर लिया था एक्शन

बग्गा को पकड़ने के लिए पंजाब पुलिस की एक टीम 6 मई को दिल्ली आई थी। बग्गा ने बताया था कि लगभग 50 पुलिसकर्मी बिना वर्दी के एक दर्जन प्राइवेट वाहनों में आए थे। पुलिस वालों पर बग्गा और उनके पिता के साथ मारपीट तथा पगड़ी खींचने का आरोप भी लगा था।

भाजपा नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। उनके खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने का आदेश दिया है। यह FIR पंजाब पुलिस ने 11 मार्च 2022 को दर्ज की थी। बग्गा पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए आपत्तिजनक भाषा प्रयोग करने का आरोप लगाया गया था।

बग्गा की याचिका पर बुधवार (12 अक्टूबर 2022) को जस्टिस अनूप चिटकारा ने सुनवाई की। उन्होंने कहा कि बग्गा के ट्वीट में ऐसा कुछ नहीं था जो कोई आतंकी गतिविधि जैसा हो। ट्वीट में किसी की धार्मिक भावनाओं को भड़काने जैसा भी कुछ नहीं है।

अदालत ने FIR को निरस्त करने का आदेश दिया। याचिका में मोहाली के SAS नगर स्थित साइबर क्राइम थाने में IPC की धारा 153- A, 505, 505(2)और 506 के तहत दर्ज FIR को निरस्त करने की अपील की गई थी।

गिरफ्तार करने दिल्ली आ गई थी पंजाब पुलिस

‘द कश्मीर फाइल्स’ पर अरविंद केजरीवाल की टिप्पणी के विरोध में भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया था। इस प्रदर्शन में शामिल बग्गा का एक बयान वायरल हुआ था। उन्होंने कहा था कि केजरीवाल के माफ़ी माँगने तक भाजपा कार्यकर्ता उन्हें चैन से नहीं बैठने देंगे। 25 मार्च को बग्गा ने एक ट्वीट करते हुए लिखा था, “जब 10 लाख ह#मी मरते होंगे तो एक अरविंद केजरीवाल पैदा होता होगा।” बाद में उन्होंने कहा था कि 10 लाख को 10 करोड़ पढ़ा जाए।

इस बयान के आधार पर पटियाला में आप कार्यकर्ता राम कुमार झा ने FIR दर्ज करवाई थी। इस FIR के जवाब में बग्गा ने 27 मार्च 2022 को कहा था, “1 नहीं 100 FIR करना, लेकिन केजरीवाल अगर कश्मीरी हिंदुओ के नरसंहार को झूठा बताएगा तो मैं बोलूँगा। अगर केजरीवाल कश्मीरी हिंदुओ के नरसंहार पर ठहाके लगाएगा तो मैं बोलूँगा। चाहे उसके लिए मुझे जो अंजाम भुगतना पड़े, मैं तैयार हूँ। मैं केजरीवाल को छोड़ने नहीं वाला। नाक में नकेल डाल के रहूँगा उसके।”

बाद में इसी केस में SIT का गठन किया गया। मोहाली साइबर क्राइम थाने पर बग्गा के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें पकड़ने के लिए 6 मई 2022 को पंजाब पुलिस की टीम दिल्ली आई। बग्गा ने उस समय आरोप लगाया था कि लगभग 50 पुलिसकर्मी बिना वर्दी के एक दर्जन प्राइवेट वाहनों में थे। पुलिस वालों पर बग्गा और उनके पिता के साथ मारपीट और पगड़ी खींचने का आरोप लगा था। हालाँकि इस पुलिस टीम को हरियाणा पुलिस ने रास्ते में रोक लिया और बग्गा को वापस दिल्ली ले आया गया। इस दौरान पंजाब पुलिसकर्मियों पर दिल्ली में अवैध रूप से बग्गा की गिरफ्तारी का केस भी दर्ज हुआ था। 8 अप्रैल 2022 को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने पंजाब पुलिस को बग्गा के खिलाफ प्रयोग किए गए तौर तरीकों पर लताड़ भी लगाई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -