Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजजज के बेटे का जूता चोरी, खोज रही राजस्थान पुलिस: गहन जाँच जारी, खंगाले...

जज के बेटे का जूता चोरी, खोज रही राजस्थान पुलिस: गहन जाँच जारी, खंगाले जा रहे CCTV फुटेज… जाँच अधिकारी भी नियुक्त

राजस्थान की जयपुर पुलिस ने फ़ौरन ही केस दर्ज करके चोरी हुए जूतों की जाँच शुरू कर दी। हेड कॉन्स्टेबल मनीराम को जाँच अधिकारी नियुक्त कर दिया गया।

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक मंदिर के बाहर से एक जज के बेटे के जूते चोरी हो गए। इस मामले में थाने में शिकायत दर्ज करवाई गई। पुलिस ने फ़ौरन ही FIR दर्ज कर के जूतों की तलाश शुरू कर दी है। चोरी हुए जूतों की कीमत 10 हजार रुपए बताई जा रही है। फिलहाल, राजस्थान पुलिस CCTV फुटेज आदि खँगालते हुए जूतों की तलाश में जुट गई है। वहीं एक पुलिस हेड कॉन्स्टेबल को इस केस का जाँच अधिकारी भी नियुक्त कर दिया गया है। घटना रविवार (20 अगस्त 2023) की बताई जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना जयपुर के माणक चौक थानाक्षेत्र की है और जिनके बेटे के जूते चोरी हुए हैं वह जज जगेंद्र कुमार है। जगेंद्र कुमार अलवर जिले के पॉक्सो कोर्ट में जज हैं। जयपुर के ही महेश नगर इलाके में रहने वाले जज जगेंद्र कुमार अग्रवाल 20 अगस्त की रात करीब 8 बजे परिवार सहित चाँदनी चौक स्थित ब्रजनिधि मंदिर गए थे। मंदिर में उनका एक परिवारिक कार्यक्रम था। लगभग 2 घंटे बाद रात लगभग 10 बजे जगेंद्र कुमार अपने बेटे कृष्णा और पत्नी के साथ मंदिर से बाहर निकले। तब उन्होंने पाया कि मंदिर की सीढ़ियों के नीचे रखे उनके बेटे कृष्णा के जूते गायब थे।

उस समय न्यायाधीश जगेंद्र मंदिर से परिवार सहित चले गए। बाद में उन्होंने अपनी शिकायत डाक के जरिए पुलिस को भेजी। शुक्रवार (25 अगस्त 2023) को यह शिकायत पुलिस को रिसीव हुई। पुलिस ने फ़ौरन ही केस दर्ज करके चोरी हुए जूतों की जाँच शुरू कर दी। हेड कॉन्स्टेबल मनीराम को जाँच अधिकारी नियुक्त कर दिया गया। आस-पास के CCTV फुटेज भी खँगाले जाने लगे। फिलहाल अभी तक जूतों के बारे में कोई सुराग नहीं लगा है।

वहीं इस मामले में जयपुर पुलिस की गहन जाँच जारी है। माणक चौक थाना अधिकारी गुरु भूपेंद्र सिंह ने मीडिया से बातचीत के दौरान इस घटना की पुष्टि की है। गायब हुए जूते एक मशहूर ब्रांड के बताए जा रहे हैं। यह मामला सोशल मीडिया पर भी चर्चा का विषय बना हुआ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -