Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजहिन्दू बच्ची को स्कूल से उठा ले गया मुस्लिम युवक, फिर किया बलात्कार: सब्जी...

हिन्दू बच्ची को स्कूल से उठा ले गया मुस्लिम युवक, फिर किया बलात्कार: सब्जी बेचता था आरोपित, गुजरात पुलिस ने ट्रेन से दबोचा

गिरफ्तारी के बाद पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया है कि आर्यन बलोच उनकी बेटी के नाम पर सोशल मीडिया अकाउंट चला रहा है। उसके पास नाबालिग की तस्वीरें हैं और उनके जरिए वह उनकी बेटी को ब्लैकमेल करता था।

लव जिहाद के मामले और हिंदू महिलाओं और लड़कियों पर अत्याचार बढ़ रहे हैं। इस बीच राजकोट में 9वीं कक्षा में पढ़ने वाली 13 साल की हिंदू नाबालिग को एक मुस्लिम युवक द्वारा अगवा करने का मामला सामने आया है। आरोप है कि आरोपित काफी समय से नाबालिग का पीछा कर रहा था और जब वह स्कूल पहुँची तो गेट से ही उसने नाबालिग का अपहरण कर लिया। हालाँकि, अपहरण के बाद दर्ज की गई शिकायत के आधार पर पुलिस ने तुरंत कार्रवाई की और आरोपित को द्वारका जाने वाली ट्रेन से गिरफ्तार कर लिया। 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राजकोट के हुडको मार्केट में सब्जी बेचने वाले आर्यन शशीफ बलोच नाम के एक मुस्लिम युवक ने 9वीं कक्षा में पढ़ने वाली 13 साल की हिंदू लड़की का अपहरण कर लिया। घटना वाले दिन दोपहर 12 बजे जब नाबालिग स्कूल जा रही थी तो आरोपित ने उसका पीछा किया और उसे स्कूल के गेट से उठा लिया। फिर नाबालिग के चाचा ने इस मामले में भक्तिनगर थाने में शिकायत दर्ज कराई तो पुलिस तुरंत एक्शन मोड में आ गई और घटना की रात आरोपित को राजकोट रेलवे स्टेशन से द्वारका जाने वाली ट्रेन से उठा लिया। 

नाबालिग को स्कूल से उठा ले गया था आरोपित 

नाबालिग के चाचा की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक, उनकी 13 साल की भतीजी कोठारिया रोड स्थित एक स्कूल में 9वीं कक्षा में पढ़ती है। पिछले 30 अक्टूबर, 2023 को लड़की की दादी उसे दोपहर में स्कूल छोड़ने गई, लेकिन जब शाम को वापस लेने गई तो नाबालिग नहीं मिली। इसके बाद चिंतित परिवार ने नाबालिग की तलाश की लेकिन वह नहीं मिली,  जिसके बाद तुरंत ही मामले की सूचना भक्तिनगर पुलिस स्टेशन को दी गई। जिसके बाद भक्तिनगर पुलिस ने संदेह के आधार पर आरोपित के पिता से पूछताछ की तो पता चला कि आरोपित व्यवसाय दुकान या घर पर मौजूद नहीं है। 

इस बीच सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल लोकेशन के आधार पर जाँच करते हुए पुलिस को पता चला कि आरोपित आर्यन शशीफ बलोच के फोन की वर्तमान लोकेशन राजकोट रेलवे स्टेशन थी, और यह भी पता चला कि आरोपित नाबालिग के साथ भागने के लिए द्वारका जाने वाली ट्रेन में बैठा था। जिसके बाद पुलिस ने आरोपित को ट्रेन से ढूँढ़कर गिरफ्तार कर लिया और नाबालिग को छुड़ा लिया। नाबालिग के चाचा की शिकायत पर पुलिस ने आर्यन बलोच के खिलाफ आईपीसी की धारा 363, 354 (k) और POCSO एक्ट की धारा 8 के तहत मामला दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। 

मामले पर अधिक जानकारी के लिए हमने भक्तिनगर पुलिस स्टेशन से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन अधिकारियों की व्यस्तता के कारण संपर्क नहीं हो सका। 

सब्जी बेचता है आरोपित 

बता दें कि नाबालिग के चाचा ने भी शिकायत में कहा है कि आरोपित और उसके पिता हुडको मार्केट में उनकी दुकान के पास सब्जी बेचने का कारोबार करते हैं। नाबालिग अक्सर दुकान पर आती थी, जिसके कारण आर्यन बलोच की नजर उस पर पड़ गई। वह नाबालिग के स्कूल आते-जाते समय उसके घर के पास एक पान की दुकान पर बैठता था। इससे पहले भी उसने नाबालिग को बात करने के लिए बुलाया था, लेकिन जब परिवार को इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने आरोपित को डाँटकर भगा दिया। 

आरोपित की गिरफ्तारी के बाद पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया है कि आर्यन बलोच उनकी बेटी के नाम पर सोशल मीडिया अकाउंट चला रहा है। उसके पास नाबालिग की तस्वीरें हैं और उनके जरिए वह उनकी बेटी को ब्लैकमेल करता था। इसके साथ ही परिवार की यह भी माँग है कि नाबालिग का मेडिकल टेस्ट कराया जाए ताकि रेप की पुष्टि हो सके।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -