Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजशिवसेना के प्रभुत्व वाली BMC ने नहीं किया सहयोग, फिर भी RSS कार्यकर्ताओं ने...

शिवसेना के प्रभुत्व वाली BMC ने नहीं किया सहयोग, फिर भी RSS कार्यकर्ताओं ने बदल डाली बीच की तस्वीर

कुछ दिनों पहले संघ का एक कार्यकर्ता बीच पर घूमने आया था। उसने वहाँ काफी कचरा देखा। इसके बाद संघ के छात्र कार्यकर्ताओं की बैठक में इस बात को उठाया गया। इसके बाद बीच पर स्वच्छता अभियान चलाने का फैसला किया गया।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कॉलेज स्टूडेंट आर्गेनाईजेशन ‘महाविद्यालयीन विद्यार्थी’ ने मुंबई के प्रभादेवी नगर स्थित समुद्री बीच पर साफ़-सफाई का कार्य किया। रविवार (फरवरी 16, 2020) को दादर चौपाटी और प्रभादेवी नगर, दोनों क्षेत्र में स्थित बीचों पर साफ़-सफाई का कार्य किया गया। दोनों बीच पर संघ कार्यकर्ताओं ने सुबह 8 बजे से लेकर 10 बजे तक स्वच्छता कार्य किया। इस कार्य में कुल 50 आरएसएस कार्यकर्ता शामिल थे। इनमें बजरंग दल और स्थानीय कॉलेजों के एनएसएस यूनिट के कुछ छात्र भी शामिल थे, जिन्होंने इस स्वच्छता अभियान में अपना योगदान दिया।

हालाँकि, इसके लिए शिवसेना के प्रभुत्व वाली बृहन्मुम्बई महानगरपालिका को सूचना दे दी गई थी लेकिन वो लोग साजोसामान के साथ काफ़ी देर से पहुँचे। उन्हें एक सप्ताह पूर्व ही इस कार्यक्रम के सम्बन्ध में सूचित कर दिया गया था। बीएमसी ने छात्रों को सिर्फ़ ग्लव्स ही उपलब्ध कराए, जिससे उन्हें साफ़-सफाई के काम में देरी हुई। बीच पर चारों तरफ कचरा पड़ा हुआ था और ऐसा लग रहा था जैसे यहाँ कई दिनों से साफ़-सफाई का कार्य हुआ ही न हो।

प्रभादेवी बीच, संघ
बीच की सफाई के दौरान संघ कार्यकर्ता
बीच की सफाई करते संघ कार्यकर्ता

बीएमसी से बास्केट्स मुहैया कराने को कहा गया था, लेकिन उनके ढुलमुल रवैए के कारण छात्रों को बास्केट नहीं मिल सका। इससे उन्हें ख़ासी परेशानी हुई। छोटे-छोटे प्लास्टिक व अन्य कचरों को झुक कर उठाने और फिर उन्हें थैलों में डालने के कारण इस काम में और भी देरी हुई। बीच पर कई काँच के टुकड़े पड़े हुए थे, जिनसे छात्रों के घायल होने का ख़तरा था। बीच से 100 मीटर की दूरी पर ही सार्वजनिक शौचालय उपलब्ध है, फिर भी कई लोगों ने वहीं पर मल-मूत्र त्याग रखे थे। उनके संपर्क में जाने पर साफ़-सफाई का कार्य कर रहे छात्रों को संक्रमण होने का भी ख़तरा था।

दरअसल, कुछ दिनों पहले संघ का एक कार्यकर्ता बीच पर घूमने आया था। उसने वहाँ काफी कचरा देखा। इसके बाद संघ के छात्र कार्यकर्ताओं की बैठक में इस बात को उठाया गया। इसके बाद बीच पर स्वच्छता अभियान चलाने का फैसला किया गया। समुद्र भी उफान के कारण वहाँ कचरे छोड़ जाता है, इसलिए नियमित साफ़-सफाई आवश्यक है। कार्य संपन्न होने के बाद संघ कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रगान गाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,145FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe