Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजदंगा पीड़ितों के नाम पर पैसा खाने वाली तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग में दिखी,...

दंगा पीड़ितों के नाम पर पैसा खाने वाली तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग में दिखी, लगाई ‘क्लास’

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने वार्ताकार नियुक्त किए हैं। उनके पहुॅंचने से पहले ही एक विडियो सामने आया है। इसमें तीस्ता महिलाओं को वार्ताकारों के सवालों के लिए तैयार करती नजर आ रही है।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में दिल्ली के शाहीन बाग में 2 महीने से ज्यादा से धरना चल रहा है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार बुधवार (19 फरवरी 2020) को प्रदर्शनकारियों से बात करने शाहीन बाग पहुँचे। इस बातचीत से मीडिया को दूर रखा गया।

हालाँकि, तीनों वार्ताकार अपने-अपने तरीके से शाहीन बाग में बैठे लोगों को सुनने-समझने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन, जिस शिद्दत से वे अपना काम कर रहे हैं, क्या वाकई उन्हें वास्तविक प्रतिक्रिया जानने को मिलेगी? ये सवाल इसलिए क्योकिं, सुप्रीम कोर्ट द्वारा इन वार्ताकारों की नियुक्ति के बाद शाहीन बाग से एक विडियो सामने आया है। इसमें खुद को ‘सामाजिक कार्यकर्ता’ कहने वाली तीस्ता सीतलवाड़ वहाँ बैठी महिला प्रदर्शनकारियों को सवाल समझाकर तैयार करती नजर आ रही हैं। इस विडियो को भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्विटर पर शेयर किया है।

अमित मालवीय ने बुधवार (फरवरी 19, 2020) को ट्वीट करते हुए लिखा, “..तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को समझा रही हैं कि सुप्रीम कोर्ट के वार्ताकार उनसे क्या सवाल पूछेंगे। देखिए ये आंदोलन कितना स्वाभाविक और प्रायोजित है?”

2 मिनट के इस विडियो में देखा जा सकता है कि एक लड़की कुछ सवालों की सूची तैयार करके महिलाओं को समझा रही हैं। बताया जाता है कि वार्ताकार उनसे ये सवाल पूछ सकते हैं। वीडियो में तीस्ता को लड़की के ठीक पीछे खड़े देखा जा सकता है और लड़की के हर वाक्य के बाद उनके भाव देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिस प्रकार किसी परीक्षा से पहले शिक्षक अपने छात्रों से पूछते हैं कि सवाल समझने में उन्हें कोई दिक्कत तो नहीं है, उसी प्रकार तीस्ता भी प्रदर्शनकारियों से इसी भाव से सवाल ठीक है कि नहीं पूछती दिख रही हैं।

गौरतलब है कि विडियो में महिला प्रदर्शनकारियों को जो सवाल समझाएँ जा रहे हैं। वो इस प्रकार हैं-

  • क्या शाहीन बाग आंदोलन की जगह बदलने से आंदोलन कमजोर होगा?
  • अगर जगह बदलने की बात होती है तो महिलाओं की हिफाजत की जिम्मेदारी कौन लेगा?
  • आंदोलन की वजह से कुछ पब्लिक को दिक्कत हो रही है, इसके बारे में हमें क्या करना है?
  • आधा रास्ता खोलने से मसला हल होगा क्या?
  • क्या शाहीन बाग आंदोलन का रंगरूप बदलने से आंदोलन कमजोर होगा?

वीडियो में नजर आ रही लड़की द्वारा सवाल समझाए जाने के बाद तीस्ता सीतलवाड़ माइक सॅंभालती दिखती हैं और प्रदर्शनकारियों को सवालों को समझाती हैं। जब कोई महिला उनसे रंगरूप का मतलब पूछती है, तो वे बताती हैं कि रंग-रूप का मतलब है कि आप लोग यहाँ पर 24 घंटे ना बैठें, हफ्ते में एक बार या दो बार आए, कभी-कभी शाम को ही आएँ।

बता दें, तीस्ता सीतलवाड़ और उनके पति 1.4 करोड़ रुपए का फंड गबन करने के मामले में सुर्खियों में रह चुके हैं। इन पर आरोप था कि साल 2002 के दंगा पीड़ितों की मदद के लिए इन्होंने अपने एनजीओ के जरिए पैसा इकट्ठा किया। लेकिन बाद में अपनी सुविधाओं और खर्चे की पूर्ति के लिए उसका इस्तेमाल कर लिया। ये आरोप उस दौरान प्रकाश में आया था, जब गुलबर्ग हाउसिंग सोसायटी के एक निवासी ने इस मामले में शिकायत की थी।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से हाल ही में वकील संजय हेगड़े, साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीवुल्लाह को वार्ताकार के रूप में नियुक्त किए गया हैं। ये सभी प्रदर्शनकारियों से उनकी जगह बदलने की अपील करेंगे। उनकी बात सुनेंगे और फिर सुप्रीम कोर्ट को इससे अवगत कराएँगे। यहाँ गौर करने वाले बात है कि इन वार्ताकारों में संजय हेगड़े ऐसे वकील हैं, जिन्हें कई बार झूठी खबरें फैलाते पकड़ा जा चुका है। इसके कारण उनका ट्विटर अकॉउंट भी सस्पेंड हुआ था और उन्होंने इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट तक ले जाने की बात की थी।

विरोध का अधिकार, सड़क बंद करने का नहीं… बातचीत से हल नहीं तो एक्शन की खुली छूट: शाहीन बाग पर SC

शाहीन बाग के मास्टरमाइंड शरजील इमाम का होगा वॉयस टेस्ट, देशविरोधी भाषणों से किया जाएगा मिलान

शरजील ने कबूली हिंसा भड़काने की बात, चार्जशीट हुई फाइल: ‘कन्हैया परमिशन’ में फिर उलझाएँगे केजरीवाल?

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

ताकि किसी का न हो रघुवंशी और रंगनाथाचार्य जैसा हाल… मोदी सरकार ने 58 साल पहले RSS पर लगे बैन को हटाया, कॉन्ग्रेसी तिलमिलाए

कॉन्ग्रेस को आरएसएस से समस्या हमेशा से थी। यही वजह है कि उन्होंने समय-समय पर इस संगठन को दबाने का प्रयास किया, लेकिन अदालत में दावे फुस्स हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -