Monday, March 8, 2021
Home देश-समाज दंगा पीड़ितों के नाम पर पैसा खाने वाली तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग में दिखी,...

दंगा पीड़ितों के नाम पर पैसा खाने वाली तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग में दिखी, लगाई ‘क्लास’

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने वार्ताकार नियुक्त किए हैं। उनके पहुॅंचने से पहले ही एक विडियो सामने आया है। इसमें तीस्ता महिलाओं को वार्ताकारों के सवालों के लिए तैयार करती नजर आ रही है।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में दिल्ली के शाहीन बाग में 2 महीने से ज्यादा से धरना चल रहा है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार बुधवार (19 फरवरी 2020) को प्रदर्शनकारियों से बात करने शाहीन बाग पहुँचे। इस बातचीत से मीडिया को दूर रखा गया।

हालाँकि, तीनों वार्ताकार अपने-अपने तरीके से शाहीन बाग में बैठे लोगों को सुनने-समझने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन, जिस शिद्दत से वे अपना काम कर रहे हैं, क्या वाकई उन्हें वास्तविक प्रतिक्रिया जानने को मिलेगी? ये सवाल इसलिए क्योकिं, सुप्रीम कोर्ट द्वारा इन वार्ताकारों की नियुक्ति के बाद शाहीन बाग से एक विडियो सामने आया है। इसमें खुद को ‘सामाजिक कार्यकर्ता’ कहने वाली तीस्ता सीतलवाड़ वहाँ बैठी महिला प्रदर्शनकारियों को सवाल समझाकर तैयार करती नजर आ रही हैं। इस विडियो को भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्विटर पर शेयर किया है।

अमित मालवीय ने बुधवार (फरवरी 19, 2020) को ट्वीट करते हुए लिखा, “..तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को समझा रही हैं कि सुप्रीम कोर्ट के वार्ताकार उनसे क्या सवाल पूछेंगे। देखिए ये आंदोलन कितना स्वाभाविक और प्रायोजित है?”

2 मिनट के इस विडियो में देखा जा सकता है कि एक लड़की कुछ सवालों की सूची तैयार करके महिलाओं को समझा रही हैं। बताया जाता है कि वार्ताकार उनसे ये सवाल पूछ सकते हैं। वीडियो में तीस्ता को लड़की के ठीक पीछे खड़े देखा जा सकता है और लड़की के हर वाक्य के बाद उनके भाव देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिस प्रकार किसी परीक्षा से पहले शिक्षक अपने छात्रों से पूछते हैं कि सवाल समझने में उन्हें कोई दिक्कत तो नहीं है, उसी प्रकार तीस्ता भी प्रदर्शनकारियों से इसी भाव से सवाल ठीक है कि नहीं पूछती दिख रही हैं।

गौरतलब है कि विडियो में महिला प्रदर्शनकारियों को जो सवाल समझाएँ जा रहे हैं। वो इस प्रकार हैं-

  • क्या शाहीन बाग आंदोलन की जगह बदलने से आंदोलन कमजोर होगा?
  • अगर जगह बदलने की बात होती है तो महिलाओं की हिफाजत की जिम्मेदारी कौन लेगा?
  • आंदोलन की वजह से कुछ पब्लिक को दिक्कत हो रही है, इसके बारे में हमें क्या करना है?
  • आधा रास्ता खोलने से मसला हल होगा क्या?
  • क्या शाहीन बाग आंदोलन का रंगरूप बदलने से आंदोलन कमजोर होगा?

वीडियो में नजर आ रही लड़की द्वारा सवाल समझाए जाने के बाद तीस्ता सीतलवाड़ माइक सॅंभालती दिखती हैं और प्रदर्शनकारियों को सवालों को समझाती हैं। जब कोई महिला उनसे रंगरूप का मतलब पूछती है, तो वे बताती हैं कि रंग-रूप का मतलब है कि आप लोग यहाँ पर 24 घंटे ना बैठें, हफ्ते में एक बार या दो बार आए, कभी-कभी शाम को ही आएँ।

बता दें, तीस्ता सीतलवाड़ और उनके पति 1.4 करोड़ रुपए का फंड गबन करने के मामले में सुर्खियों में रह चुके हैं। इन पर आरोप था कि साल 2002 के दंगा पीड़ितों की मदद के लिए इन्होंने अपने एनजीओ के जरिए पैसा इकट्ठा किया। लेकिन बाद में अपनी सुविधाओं और खर्चे की पूर्ति के लिए उसका इस्तेमाल कर लिया। ये आरोप उस दौरान प्रकाश में आया था, जब गुलबर्ग हाउसिंग सोसायटी के एक निवासी ने इस मामले में शिकायत की थी।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से हाल ही में वकील संजय हेगड़े, साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीवुल्लाह को वार्ताकार के रूप में नियुक्त किए गया हैं। ये सभी प्रदर्शनकारियों से उनकी जगह बदलने की अपील करेंगे। उनकी बात सुनेंगे और फिर सुप्रीम कोर्ट को इससे अवगत कराएँगे। यहाँ गौर करने वाले बात है कि इन वार्ताकारों में संजय हेगड़े ऐसे वकील हैं, जिन्हें कई बार झूठी खबरें फैलाते पकड़ा जा चुका है। इसके कारण उनका ट्विटर अकॉउंट भी सस्पेंड हुआ था और उन्होंने इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट तक ले जाने की बात की थी।

विरोध का अधिकार, सड़क बंद करने का नहीं… बातचीत से हल नहीं तो एक्शन की खुली छूट: शाहीन बाग पर SC

शाहीन बाग के मास्टरमाइंड शरजील इमाम का होगा वॉयस टेस्ट, देशविरोधी भाषणों से किया जाएगा मिलान

शरजील ने कबूली हिंसा भड़काने की बात, चार्जशीट हुई फाइल: ‘कन्हैया परमिशन’ में फिर उलझाएँगे केजरीवाल?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,968FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe