Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजकश्मीर में 2 गैर-मुस्लिम (छोटा प्रसाद, गोविंद) फिर बने इस्लामी आतंकियों का शिकार, 10...

कश्मीर में 2 गैर-मुस्लिम (छोटा प्रसाद, गोविंद) फिर बने इस्लामी आतंकियों का शिकार, 10 दिनों में ‘बाहरी’ मजदूरों पर दूसरा आतंकी हमला

घटना के बाद सुरक्षाबल इलाके की घेराबंदी करके आतंकियों को खत्म करने की कोशिश में जुटे हैं। आसपास के इलाकों में सक्रिय संदिग्ध लोगों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट में इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन द रजिस्टेंस फ्रंट (TRF) ने ली है।

कश्मीर (Kashmir) में एक बार फिर इस्लामी आतंकियों ने बाहरी लोगों को निशाना बनाते हुए उन पर अंधाधुन फायरिंग की है। फायरिंग में 2 गैर-स्थानीय श्रमिक घायल हो गए हैं। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी है।

घटना अनंतनाग जिले के रक्ख मोमिन इलाके की है। घायल मजदूरों की पहचान छोटा प्रसाद और गोविंद के तौर पर हुई है। दोनों उत्तर प्रदेश के कुशीनगर के रहने वाले हैं। 30 वर्षीय छोटा के पेट में गोली लगी है। वहीं गोविंद के कूल्हे में गोली लगी है। इलाज के लिए दोनों को जीएमसी अनंतनाग शिफ्ट कर दिया गया है।

बता दें कि पिछले 10 दिनों में दक्षिण दूसरे राज्यों के श्रमिकों पर यह दूसरा आतंकी हमला है। इससे पहले 3 नवंबर को अनंतनाग में एक निजी स्कूल के पास बिहार और नेपाल के दो श्रमिकों पर आतंकियों ने हमला किया था।

शनिवार रात को आतंकियों ने जिला अनंतनाग में बिजबेहाड़ा के पास रक्ख मोमिन इलाके में दो मजदूर जा रहे थे। इसी दौरान आतंकियों ने नजदीक से उन पर गोलियाँ बरसा दीं। गोली लगते ही दोनों मजदूर जख्मी होकर गिर गए। उन्हें मरा समझकर आतंकी वहाँ से भाग निकले।

गोलियों की आवाज सुनकर आसपास के गश्त कर रहे सुरक्षाकर्मी मौके पर पहुँच गए और घायलों को स्थानीय लोगों की मदद से अनंतनाग के मेडिकल कालेज अस्पताल पहुँचाया। अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ इकबाल ने बताया कि दोनों मजदूरों की हालत स्थिर है।

घटना के बाद सुरक्षाबल इलाके की घेराबंदी करके आतंकियों को खत्म करने की कोशिश में जुटे हैं। आसपास के इलाकों में सक्रिय संदिग्ध लोगों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट में इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन द रजिस्टेंस फ्रंट (TRF) ने ली है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -