Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजनूहं हिंसा मामले में कॉन्ग्रेस विधायक मम्मन खान सहित 63 पर लगा UAPA: दंगों...

नूहं हिंसा मामले में कॉन्ग्रेस विधायक मम्मन खान सहित 63 पर लगा UAPA: दंगों के दौरान दंगाइयों को बाँटे थे पैसे

हरियाणा पुलिस ने जुलाई 2023 के नूहं दंगों से संबंधित चार मामलों में कॉन्ग्रेस नेता एवं विधायक मम्मन खान सहित 63 लोगों के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) लगाया है। जनवरी 2024 में UAPA के तहत नई धाराएँ जोड़ी गईं।

हरियाणा पुलिस ने जुलाई 2023 के नूहं दंगों से संबंधित चार मामलों में कॉन्ग्रेस नेता एवं विधायक मम्मन खान सहित 63 लोगों के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) लगाया है। जनवरी 2024 में UAPA के तहत नई धाराएँ जोड़ी गईं। पुलिस द्वारा अदालत में दाखिल की गई स्टेटस रिपोर्ट के अनुसार, UAPA के प्रावधानों को 8 जनवरी को तीन FIR (संख्या 253, 257 और 401) में लगाया गया था।

इन मामलों में बीस लोगों को आरोपित बनाया गया है और उनमें से अधिकांश मेवात क्षेत्र के स्थानीय लोग हैं। ये घटनाएँ शोभा यात्रा में दो होम गार्ड और एक हिंदू श्रद्धालु की हत्या के साथ-साथ नूहं साइबर पुलिस स्टेशन पर दंगाई भीड़ द्वारा किए गए हमले से जुड़ी हैं। एक हफ्ते बाद पुलिस ने शिकायत संख्या 149 में भी UAPA लगा दिया था। इसमें फिरोजपुर झिरका के विधायक को 43 अपराधियों में से एक के रूप में नामित किया गया है।

जिस दिन नूहं में हिंसा भड़की थी, उस दिन यानी 31 जुलाई को बड़कली चौक पर यात्रा में शामिल लोगों पर हमले का एफआईआर में विस्तार से जिक्र किया गया है। वर्तमान कार्यवाही में उल्लेखित सभी आरोपित जमानत पर रिहा हैं। हालाँकि, यूएपीए लगाने के बाद उन सभी को एक बार फिर सलाखों के पीछे भेजा जा सकता है, क्योंकि इसमें जेल के बाद कम-से-कम एक वर्ष के लिए जमानत का प्रावधान नहीं है।

कई दंगा पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील मनीष शाडिल्य ने 21 फरवरी 2024 को कहा कि पुलिस के पास अपराधियों को पूछताछ के लिए फिर से बुलाने का अधिकार है। उन्होंने कहा, “उनकी जमानत रद्द की जा सकती है और उन्हें फिर से गिरफ्तार किया जा सकता है।” उन्होंने पिछले साल मम्मन खान को जमानत देने के खिलाफ भी दलील दी थी।

दूसरी ओर, विपक्ष के वकील ताहिर हुसैन रुपदिया ने कहा, “पुलिस के पास UAPA (उनके मुवक्किल के खिलाफ) जोड़ने का कोई आधार नहीं है। हम इसे अदालत में चुनौती देंगे।” हालाँकि आरोप मूल एफआईआर का हिस्सा नहीं थे, लेकिन अदालत के रिकॉर्ड से संकेत मिलता है कि इसे उस शिकायत में जोड़ा गया था, जो आरोपी की जमानत के अनुरोध को अस्वीकार करने के लिए न्यायाधीश के सामने लाई गई थी।

नूहं पुलिस की कार्रवाई छह लोगों की मौत के बाद शुरू हुई, जब इस्लामी कट्टरपंथियों ने विश्व हिंदू परिषद (VHP) और बजरंग दल द्वारा आयोजित एक जुलूस पर हमला किया था। इसके कारण नूहं और आसपास के इलाकों में व्यापक हिंसा और आगजनी हुई। पुलिस रिपोर्ट के अनुसार, दोषियों में से एक ने जाँचकर्ताओं को बताया कि गड़बड़ी से पहले मम्मन खान ने स्थानीय लोगों के माध्यम से उपद्रवियों को पैसे (प्रत्येक 500 रुपए) पहुँचाने की व्यवस्था की थी।

इसके अलावा, दावा किया गया है कि ‘यूथ टीम मम्मन खान’ और ‘आईटी सेल मम्मन खान’ जैसे विधायक के नाम वाले व्हाट्सएप समूहों के माध्यम से भड़काऊ पोस्ट फैलाए गए थे। नूंह के SP नरेंद्र बिजारनिया ने कहा, “उन्होंने नूहं हिंसा के दौरान अफवाह फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। पथराव और वाहनों में आग लगाने में शामिल कुछ संदिग्धों के वह संपर्क में थे। उन पर ब्रजमंडल यात्रा पर हमला करने वालों को पैसे देने का भी आरोप है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -