Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'तुम काफिर हिंदुओं को हम अंजाम तक पहुँचाएँगे': कन्हैया लाल को रियाज और गौस...

‘तुम काफिर हिंदुओं को हम अंजाम तक पहुँचाएँगे’: कन्हैया लाल को रियाज और गौस मोहम्मद ने कैसे काटा, FIR से चौंकाने वाले खुलासे

"मैं पहुँचा तो देखा कि मेरे पिता की लाश दुकान के बाहर पड़ी है और आस-पास काफी खून बिखरा है। उनकी गर्दन पर गहरे घाव थे। साथ ही उनके हाथों और सिर पर भी वार किया गया था।"

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया लाल साहू की 28 जून 2022 को बर्बर तरीके से हत्या कर दी गई थी। मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने टेलर शॉप में घुसकर उन्हें काट डाला था। हत्यारों ने घटना का खौफनाक वीडियो भी बनाया था। इस मामले में कन्हैया लाल के 20 वर्षीय बेटे ने जो FIR दर्ज कराई है, उससे भी कई हैरान करने वाले खुलासे होते हैं।

इसके मुताबिक हमले से पहले उनसे इस्लामी हत्यारों ने कहा था कि तुमने हमारे नबी के खिलाफ लिखा इसलिए तुम्हें जीने का कोई अधिकार नहीं। तुम काफिर हिन्दुओं को हम अंजाम तक पहुँचाएँगे। न्यूज़ 18 के अनुसार दर्ज एफआईआर में कन्हैया लाल के बेटे के हवाले से कहा गया है, “ये 2 हत्यारे देश के लोगों में आतंक और तनाव फैलाने के साथ निर्मम हत्याएँ करने का एक गैंग चलाते हैं। इन्होने पूरी प्लानिंग के साथ मेरे पिता की हत्या कर दी। इसके बाद इन्होने बाकी लोगों को भी धमकी दी है।”

अपनी शिकायत में कन्हैयालाल के बेटे ने कहा गई, दिन में करीब 3:30 पर एक रिश्तेदार ने मुझे फोन कर बताया कि मेरे पिता की दुकान के अंदर 2 लोगों ने हत्या कर दी है। मैं पहुँचा तो देखा कि मेरे पिता की लाश दुकान के बाहर पड़ी है और आस-पास काफी खून बिखरा है। उनकी गर्दन पर गहरे घाव थे। साथ ही उनके हाथों और सिर पर भी वार किया गया था। मेरी दुकान के एक स्टाफ राजकुमार ने मुझे बताया कि 2 लोग कुर्ता सिलवाने दुकान में आए थे। कुछ देर बाद उन्होंने अपने कपड़ों में छिपे हथियार बाहर निकाल लिए और मेरे पिता पर धमकी देते हुए हमला कर दिया।”

FIR के मुताबिक दुकान में मौजूद 2 कर्मचारियों ने कन्हैयालाल को बचाने की कोशिश की थी। लेकिन उन दोनों पर भी हमला कर दिया गया। इस दौरान एक कर्मचारी ईश्वर सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए। उनका इलाज चल रहा है। शिकायत में हत्यारों द्वारा शेयर किए गए वीडियो का भी जिक्र है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र को भी धमकी दी गई है।

गौरतलब है कि कन्हैया लाल का अंतिम संस्कार 29 जून को किया गया। इस दौरान जन सैलाब उमड़ पड़ा था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक उनके शरीर पर घाव के 26 निशान थे। सभी घाव धारदार खंजर के थे। इसमें 8 से 10 घाव गर्दन के पास मिले। साथ ही हाथों, सिर व शरीर के कुछ अन्य हिस्सों पर भी वार किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -