Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजताजिया के लिए तोड़ी मूर्तियाँ, JCB से उखाड़ा ब्रह्मदेव स्थान का पीपल: बरेली में...

ताजिया के लिए तोड़ी मूर्तियाँ, JCB से उखाड़ा ब्रह्मदेव स्थान का पीपल: बरेली में मोईन, साकिर, इकरार सहित 7 को UP पुलिस ने दबोचा

बरेली में ताजियों के लिए मंदिर को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। वहीँ मीडिया रिपोर्ट में मंदिर में रखी मूर्तियों को खंडित करने और दानपात्र बाहर फेंक देने की बात भी सामने आई है।

बरेली में मुहर्रम जुलूस के दौरान भोजीपुरा में दुकानों में जमकर पत्थरबाजी का बवाल थमा भी नहीं था कि हिन्दुओं की आस्था पर चोट करने का एक दूसरा मामला भी सामने आया है। मंगलवार (9 अगस्त, 2022) की देर रात मुस्लिम समुदाय के लोगों ने शेरगढ़ में ताजियों के लिए जेसीबी लगाकर वर्षों पुराने मंदिर के ब्रह्मदेव स्थान पर खड़े पीपल के पेड़ की मोटी शाखा तोड़वा दिया। मीडिया रिपोर्ट में यह बताया जा रहा है कि मंदिर में रखी मूर्तियाँ और दानपात्र फेंक दिया। जिससे हिन्दू समाज में जबरदस्त आक्रोश है। वहीं इस मामले में 7 मुस्लिम आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

क्या है पूरा मामला

रिपोर्ट के अनुसार, बताया जा रहा है कि शेरगढ़ थानाक्षेत्र के मवई काजियान गाँव में किच्छा नदी के पार कई गाँवों के ताजिए आते हैं। बताया जा रहा है कि ताजिया के जुलुस के दौरान जहाँ पेड़ों की टहनियाँ पहले ही काँट-छाँट दी गई थीं। वहीं रात 12 बजे के बाद कुछ उपद्रवियों ने सड़क किनारे वर्षों पुराने मंदिर के ब्रह्मदेव स्थान पर खड़े पीपल के पुराने वृक्ष की मोटी डालियों को ट्रैक्टर और जेसीबी से बाँधकर उखाड़ दिया। साथ ही मंदिर को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। वहीँ मीडिया रिपोर्ट में मंदिर में रखी मूर्तियों को खंडित करने और दानपात्र बाहर फेंक देने की बात भी सामने आई है।

मामले में कंचनपुर के ग्रामीणों का आरोप लगाया है कि ब्रह्मदेव स्थल पर खड़े पीपल के मोटे टहने को साजिशन योजनाबद्ध तरीके से गिराया गया है। मंदिर में उपद्रव और तोड़फोड़ की सूचना से हिन्दू समुदाय के लोग भड़क गए उन्होंने इसकी जानकारी पुलिस को दी। वहीं हिन्दू समुदाय के लोग आरोपितों पर कार्रवाई के लिए सड़कों पर उतर आए। कहा जा रहा है कि माहौल बिगड़ता देखकर पुलिस ने तुरंत ही मुकदमा लिख लिया। इसके बाद एक्शन लेते हुए अंबरपुर के ग्राम प्रधान व जेसीबी के मालिक समेत 29 लोगों को हिरासत में लिया। इस मामले में पुलिस उनसे पूछताछ में जुटी है।

हालाँकि, इस मामले में कहा जा रहा है कि किसी भी दशा में हंगामा ना खड़ा हो, इसको लेकर अधिकारी तुरंत ही मौके पर पहुँच कर क्षतिग्रस्त हुए मंदिर की मरम्मत करा दी है। साथ कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया, “इस मामले में सम्बंधित थाना शेरगढ़ पर मामला दर्ज कर 07 आरोपितों बुन्दन, शक्खन खाँ, मोईन ख़ाँ, साकिर अली, इकरार अहमद, छोटे, रहीस खाँ को गिरफ्तार कर लिया गया है। आगे उनपर नियमानुसार विधिक कार्यवाही की गई है।”

गौरतलब है कि इस घटना के अलावा भी एक दूसरे मामले में बरेली में मुहर्रम जुलूस के दौरान भोजीपुरा के मझौआ गंगापुर में दुकानों में जमकर पत्थरबाजी की गई। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी सामने आया है। इसमें आप देख सकते हैं कि कैसे लोगों ने दूसरे समुदाय की दुकानों को निशाना बनाया है और वहाँ जमकर पथराव किया। पथराव करने वालों में महिलाएँ भी शामिल हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों पक्षों में करीब आधे घंटे तक पत्थरबाजी होती रही, जिसको लेकर वहाँ अफरा-तफरी मच गई थी।

वहीं एकदूसरे मामले में बरेली जिले के हाफिजगंज में रविवार (7 अगस्त, 2022) की शाम को काँवड़ियों को टक्कर मारकर भाग रहे बाइक सवार युवकों को पकड़ने के दौरान जमकर हंगामा हुआ था। जिसमें दो शिवभक्त घायल हो गए थे। एक्सीडेंट से गुस्साए काँवड़ियों ने सड़क पर काँवड़ रखकर तीन घंटे तक जाम लगा दिया था। बता दें कि मामले की सूचना मिलने पर पहुँची पुलिस जब काँवड़ियों को समझा रही थी, इसी दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पथराव कर दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -