Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाज'उनके' डर से बच्चों के साथ घर में दुबके रहते हैं, रात भर नींद...

‘उनके’ डर से बच्चों के साथ घर में दुबके रहते हैं, रात भर नींद नहीं आती: महिलाओं ने सुनाया अपना दर्द – ग्राउंड रिपोर्ट

"मजहबी लोगों ने अपने घरों में अब भी हथियार जमा कर के रखे हैं, जिसकी जाँच होनी चाहिए नहीं तो आगे और भी खतरा बढ़ सकता है। हमारे घर में डंडे भी हों तो हम उसे कचरा समझ के फेंक देते हैं। लेकिन वो लोग..."

दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों में महिलाओं के साथ भी ज्यादतियाँ की गईं। करावल नगर में हिन्दू समाज की बेटियों के साथ अश्लीलता की गई। शिव विहार में महिलाएँ अपने घरों में दुबकी बैठी हुई थीं क्योंकि अगर दंगाई इस्लामी भीड़ वहाँ स्थित ‘प्राचीन हनुमान मंदिर’ के बगल वाले नाले को पार कर जाती तो उनके साथ बहुत बुरा हो सकता था। अपने घर की बहू-बेटियों को बचाने के लिए हिन्दू समाज के लोग ईंट-पत्थर खाते रहे, जबकि फैसल फ़ारूक़ के राजधानी स्कूल के ऊपर से पत्थरबाजी, बमबारी और गोलीबारी होती रही। मंदिर को बचाने के लिए युवाओं ने पूरा जोर लगाया।

इसी क्रम में सैकड़ों घायल हुए। ऑपइंडिया की टीम ग्राउंड पर पहुँची और हमने वहाँ कई महिलाओं से बातचीत कर उनके मन की बात जानी। कई पुरुषों ने कैमरे के सामने सच्चाई बताने से इनकार कर दिया (उनका डर जायज भी है) लेकिन महिलाओं ने हिम्मत दिखाते हुए हमसे बातचीत की और खुल कर अपने अनुभव तो साझा किए ही, दंगाई भीड़ की क्रूरता को भी सामने रखा। ग़रीब घर की एक महिला ने बताया कि हिन्दू लोगों की कहीं और कोई नहीं सुनता।

एक अन्य दलित महिला ने बताया कि समुदाय विशेष के लोग आकर कहते हैं कि उनके घरों को आग के हवाले कर देंगे लेकिन कोई उन पर कार्रवाई नहीं करता। महिलाओं ने बताया कि अगर उनके घर के पुरुष बाहर डटे नहीं रहते तो दंगाई भीड़ उनके घरों में घुस जाती। एक अन्य महिला ने बताया कि उस क्षेत्र के समुदाय विशेष को सब पता था कि क्या होने वाला है जबकि हिन्दू अनजान थे। महिला ने हमसे बातचीत करते हुए कई बड़े खुलासे किए। उन्होंने ऑपइंडिया की टीम से कहा:

“समुदाय विशेष के लोग अपने बच्चों को स्कूल से पहले ही लेकर चले गए थे। हमें काफ़ी देर से ये चीजें पता चलीं। आख़िर इन्हें कैसे पता चला कि कुछ होने वाला है? ऐसा इसीलिए, क्योंकि सब इनकी ही सोची-समझी साजिश थी। राजधानी स्कूल में दिखावटी तोड़फोड़ हुई है। असली नुकसान तो हिन्दुओं को हुआ है। हम सब बहुत डरी हुई हैं। हमें रात-रात भर नींद नहीं आती है। वो लोग छोटे-छोटे पर पथराव करते हैं। हम निहत्थे लोग हैं। हमारे घर में डंडे भी हों तो हम उसे कचरा समझ के फेंक देते हैं। उनके पास काफ़ी सारे हथियार होते हैं। हमारे पास अपने बच्चों को लेकर घरों में दुबके रहने के अलावा कोई चारा नहीं है।”

ऑपइंडिया की टीम से बातचीत करती शिव विहार, प्रेम नगर और प्रेम विहार की महिलाएँ

ये महिलाएँ शिव विहार, प्रेम नगर, प्रेम विहार और उसके आसपास के इलाक़ों की हैं। उन्होंने बताया कि हिन्दुओं के घर के लोग रोजमर्रा के काम और अपनी ड्यूटी के कारण दिन भर घर से बाहर रहते हैं और अगर ऐसे समय में दंगाई भीड़ हमला करती है तो वो भला उनका सामना कैसे करेंगी? महिलाओं ने कहा कि ये सब सोची-समझी साज़िश थी, ताकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की भारत यात्रा के दौरान उपद्रव किया जा सके।

महिलाओं ने पुलिस की भी आलोचना की। उन्होंने बताया कि जब मजहबी भीड़ दंगे कर रही थी, तब पुलिस कह रही थी कि उनके पास हथियार इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं है। लोग पुलिस ने नाराज़ दिखे। वहाँ कुछ युवा भी उपस्थित थे और उन सबने बताया कि समुदाय विशेष के लोगों ने अपने घरों में अब भी हथियार जमा कर के रखे हैं, जिसकी जाँच होनी चाहिए नहीं तो आगे और भी खतरा बढ़ सकता है।

इन महिलाओं की सरकार व प्रशासन से माँग है कि उनकी सुरक्षा के तगड़े बंदोबस्त किए जाएँ। उन्हें उम्मीद है कि जब मीडिया में ये ख़बर आएगी तो उनकी आवाज़ सुनी जाएगी और उन्हें दंगाइयों के भय से मुक्ति दिलाने की दिशा में प्रयास किया जाएगा। हालाँकि, उस क्षेत्र में अभी भी तनाव व्याप्त है और अफवाहों का बाजार गर्म है। हिन्दू अपनी जली हुई दुकानों की मरम्मत में लगे हुए हैं।

…अब निकला 8वाँ शव: दिल्ली हिंदू विरोधी दंगों में नालों से लाशें मिलने का सिलसिला जारी

स्कूल से पहले चले गए थे बच्चे, हिन्दू बच्चों को बनाया बंधक: दंगाइयों ने मुआवजे के लिए ख़ुद की दुकानें तोड़ीं

‘मारो सालों को’: मेरी आँखों के सामने मेरे दोस्त की गर्दन में गोली मार दी, दुकान लूट कर फूँक डाला

‘बता…तुझ पर पेट्रोल डालें या गाड़ियों पर’ जब दंगाइयों ने रखी हिन्दू दुकानदार की जान बख्शने की शर्त: ग्राउंड रिपोर्ट

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोज के ₹300, शराब के साथ शबाब भी: देह व्यापार का अड्डा बना टिकरी बॉर्डर, टेंट में नंगे पड़े रहते हैं ‘किसान’

किसान आंदोलन के नाम पर फर्जी किसान टीकरी बॉर्डर शराब और लड़कियों के साथ झाड़ियों के पीछे अय्याशी करते देखे जा सकते हैं।

‘तब तक आराम नहीं… जब तक ओलंपिक स्वर्ण नहीं’ – लवलिना बोरगोहेन ने चोट लगने पर कहा, अब मंजिल की ओर

टोक्यो ओलंपिक में लवलीना बोरगोहेन ने देश के लिए दूसरा मेडल पक्का कर लिया है। लवलीना ने क्वाटर फाइनल में ने चीनी ताइपे की बॉक्सर को हरा...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,980FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe