Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजजम्मू कश्मीर में स्मार्ट बिजली मीटर लगाए जाने के खिलाफ सड़क पर उतरीं महिलाएँ,...

जम्मू कश्मीर में स्मार्ट बिजली मीटर लगाए जाने के खिलाफ सड़क पर उतरीं महिलाएँ, घंटों हाइवे पर फँसे रहे वाहन

बारामूला जिले के पट्टन में स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का विरोध कर रहे लोगों ने श्रीनगर-बारामूला हाइवे को जाम कर दिया। इससे सैकड़ों वाहन घंटों तक हाइवे पर फँसे रहे।

जम्मू-कश्मीर के बारामूला, अनंतनाग और श्रीनगर में स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का विरोध हो रहा है। विरोध कर रहे लोगों ने हाथों में स्मार्ट मीटर लेकर विरोध करने के साथ ही सड़क जाम कर भी विरोध किया है। वहीं, कुछ महिलाओं ने स्थानीय गीत गाते हुए भी विरोध प्रदर्शन किया है। विरोध कर रहे लोग स्मार्ट बिजली मीटर लगाए जाने के आदेश वापसी की माँग कर रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बारामूला जिले के पट्टन में स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का विरोध कर रहे लोगों ने श्रीनगर-बारामूला हाइवे को जाम कर दिया। इससे सैकड़ों वाहन घंटों तक हाइवे पर फँसे रहे। हालाँकि बाद में जम्मू-कश्मीर पुलिस तथा स्थानीय प्रशासनिक अमले ने मौके पर पहुँचकर विरोध कर रहे लोगों को आश्वासन दिया कि उनकी शिकायतों को उच्चस्तरीय अधिकारियों तक पहुँचाया जाएगा।

पट्टन में स्मार्ट मीटर लगाने का विरोध कर रहीं खालिदा बेगम ने कहा है, “नए टैरिफ के अनुसार बिजली बिल का भुगतान करना हमारे लिए बेहद मुश्किल है। यहाँ की नब्बे फीसदी आबादी मजदूर है।”

वहीं एक अन्य प्रदर्शनकारी फातिमा बानो का कहना है, “ज्यादातर परिवार आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के हैं। हम बिजली की बढ़ी हुई कीमतें बर्दाश्त नहीं कर सकते। यहाँ के ज्यादातर लोग मजदूरी करते हैं। बेहद कम कमाई होती है। हम स्मार्ट मीटर के अनुसार बिजली बिल नहीं दे सकते। स्मार्ट मीटर से हमारे परिवारों पर बोझ बढ़ेगा। इससे हमारे बच्चों की शिक्षा और आजीविका प्रभावित होगी।”

इसी प्रकार अनंतनाग जिले के बिजबेहरा में भी स्मार्ट मीटर लगाने का विरोध हुआ। यहाँ भी स्थानीय लोगों ने विरोध करते हुए रास्ता बंद कर दया था। हालाँकि बाद में पुलिस विभाग ने मौके पर पहुँचकर मामला शांत कराया। बिजबेहरा में प्रदर्शन करने वाली एक महिला ने कहा है, “आम कश्मीरियों को परेशान करने के लिए एक के बाद एक आदेश क्यों जारी किए जाते हैं? हम गरीब मजदूर वर्ग से ताल्लुक रखते हैं और मुश्किल से एक दिन में 500 रुपये कमाते हैं। बिजली बिल अधिक आएगा तो कैसे भरेंगे।”

वहीं, श्रीनगर के रैनावाड़ी इलाके में महिलाओं ने हाथ में स्मार्ट मीटर लेकर विरोध प्रदर्शन किया। विरोध कर रहे लोगों ने स्थानीय जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल चिकित्सालय के पास की रोड को जाम कर दिया था। इस दौरान विरोध कर रही महिलाएँ स्थानीय ‘वानवुन’ गीत गाते हुई देखी गईं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -