Friday, February 26, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे डियर रेख्ता, हम अगर किसी त्योहार को ‘खून की नदी बहाने का त्योहार’ लिख...

डियर रेख्ता, हम अगर किसी त्योहार को ‘खून की नदी बहाने का त्योहार’ लिख दें तो सुलग जाएगी

रेख्ता के जरिए कुछ मजहबी आयोजनों को भी लोगों को समझाया जाना चाहिए। ऐसे त्योहार, जिनसे मिलता-जुलता शब्द 'दरिया-ए-ख़ूँ' हो सकता है। और यदि रेख्ता ऐसा नहीं कर सकता तो इसे हिंदी में 'खून की नदी बहाने का त्योहार' बताया जाना चाहिए। लेकिन ऐसा करने से गंगा-जमुनी तहजीब को ठेस लगने का भी भय है।

रेख्ता ने दीपावली के त्योहार पर भी अपने मजहबी मानसिक मवाद को साहित्य का रंग देने की कोशिश करते हुए इसे ईद बताया है। रेख्ता ने एक पोस्टर के जरिए दिवाली और इससे जुड़े कुछ प्रचलित शब्दों को उर्दू शब्दकोश देने की कोशिश की और इसी बहाने इसमें मजहबी अजेंडा को साध लिया।

रेख्ता ने इस पोस्टर में जो शब्द दिए वो दिवाली, उपहार, उत्सव, छुट्टियाँ…. तो थे ही, साथ ही इनमें सबसे आखिर में ‘वायु प्रदूषण’ भी था। बड़ी ही चालाकी से रेख्ता ने यह पोस्टर बाजार में उतारा और दिवाली को ईद बताने के साथ ही इससे जुड़े शब्द में ‘एयर पॉल्यूशन’ भी जोड़ा गया। लेकिन रेख्ता के इस पोस्टर में अभी एक अधूरापन है।

जो एक शब्द रेख्ता इस पोस्टर में जोड़ना भूल गया वह था- मजहबी अजेंडा! रेख्ता को अजेंडा शब्द को भी उर्दू शब्दकोश में जगह देनी चाहिए। इसके साथ ही, ऐसी कई शब्द और भी हैं, जिन्हें उर्दू शब्दकोश में जगह चाहिए मगर फतवे और कट्टरपंथियों के भय से शायद रेख्ता ऐसा करने से डरता है।

मजहबी चेतना के ध्वजवाहकों को इसमें कुछ कट्टर मजहबी टार और पशुओं के खून से सने हुए ‘आयोजनों’ को भी लोगों को समझाने योग्य बनाना चाहिए। कुछ ऐसे त्यौहार, जिनसे मिलता-जुलता शब्द ‘दरिया-ए-ख़ूँ’ हो सकता है। और यदि रेख्ता ऐसा नहीं कर सकता, तो इसे हिंदी में ‘खून की नदी बहाने का त्योहार’ बताया जाना चाहिए। लेकिन ऐसा करने से गंगा-जमुनी तहजीब को ठेस लगने का भी भय है। गंगा-जमुनी तहजीब की गली बेहद संकरी और इकतरफा ही रही है। दिवाली की अमावस को ईद बताना सेक्युलर और प्रोग्रेसिव है जबकि किसी एक मजहबी त्योहार की साहित्यिक व्याख्या इस देश के सेक्युलर फेब्रिक को तहस-नहस करने के लिए काफी है।

वास्तव में, रेख्ता का मकसद दीपावली की शुभकामना देने का कभी नहीं रहा। यह हर त्योहार के इस्लामीकरण की ही एक कड़ी है। यह उसी विचारधारा की विष्ठा है, जो इस बात पर जोर देने का प्रयास करती है कि अकबर के शासन में यहाँ दीपावली मनाई जाती थी। मगर इस बात पर जोर देना वह भूल जाते हैं कि दिवाली तो भारत में तब भी मनाई जाती थी जब अकबर भ्रूण की अवस्था में भी नहीं रहा होगा। दिवाली इस देश में अकबर से पहले भी थी और उसके बाद भी हमेशा मनाई जाती रहेगी। हिन्दुओं का यह पवित्र त्योहार रेख्ता की कलाबाजी से पहले भी मौजूद था, और रेख्ता के बाद भी रहेगा। इसके बीच मजहबी और वाम-उदारवादी प्रोपगेंडा के लिए कोई जगह नहीं रहती।

इसी तरह, हिंदी भी उर्दू के बिना कहीं श्रेष्ठ और सम्पन्न भाषा रही है और आगे भी रहेगी। भारत को उर्दू ने नहीं बल्कि उर्दू को भारत ने शरण दी है यह बात दिमाग से निकाली नहीं जानी चाहिए। ताजमहल का महिमामंडन, बिरयानी, रसगुल्ले से लेकर जलेबी तक का ‘मुगलीकरण’ कर सांस्कृतिक वर्चस्व की जंग को अब भाषा के वर्चस्व में बदलने का कारनामा लेफ्ट-लिबरल्स को भी खूब लुभाता है।

रेख़्ता का वह पोस्टर जिसमें दिवाली को ईद बताया गया है

उर्दू-हिंदी को मौसेरी बहनें बताने वालों के शब्दकोश में दीपावली के लिए भी एक शब्द नहीं है। जिस संस्कृति का झंडाबरदार बनने रेख्ता निकला है, वह ‘संस्कृति’ होली से लेकर दिवाली तक में अपनी मौजूदगी ठूँसकर किसी तरह प्रासंगिक बने रहना चाहती है।

अगर दीपावली ‘ईद-ए-चरागाँ’ है तो फिर रेख्ता इस बात का जवाब क्यों नहीं देता कि अमावस की रात कौन सा चाँद निकलता है जो दीपावली को ईद बता दिया गया? जिस उर्दू का शब्दकोश इकलौते त्योहार के ही इर्दगिर्द शुरू होने से पहले ही समाप्त हो जाता है, उसे किसी हिमालयी सभ्यता के कंधे से कंधा मिलाने की ठरक को शांत करने से पहले अपने खुद के विकास पर मेहनत करनी चाहिए।

इसके अलावा, दिवाली के मिलते-जुलते शब्दों में ‘एयर पॉल्यूशन’ को जगह देने से पहले ‘खून से सनी गलियों’ के लिए एक दूसरी आसमानी किताब तैयार की जानी चाहिए। वह ‘सभ्यता’ और संस्कृति के क्रूर उदाहरण मिलता-जुलता भी नहीं बल्कि उस आयोजन का ही परिचय भी है, रेख्ता को उस पर गर्व होना चाहिए क्योंकि आखिर वह उस संस्कृति का हिस्सा है। यह भी स्पष्ट किया जाना आवश्यक है कि दिवाली से अगर प्रदूषण होता है तो बकरियों को रेतने से कौन सी आकशगंगा की ओजोन परत आकर पृथ्वी के चारों और सुरक्षा कवच खड़े कर देते हैं?

दिवाली की बधाई के बहाने अपने मजहबी अजेंडा को परोसने पर रेख्ता की खूब फजीहत भी हुई। यही वजह है कि रेख्ता ने भरपूर गालियाँ खाने के बाद अपना ये पोस्टर भी हटा लिया। हालाँकि, उस पोस्टर में एक अधूरापन है। अभी कुछ मजहबी त्योहारों के नामकरण की कमी रेख्ता के शब्दकोश में बनी हुई है। अगले सीजन से पहले रेख्ता को उनके नामकरण पर मेहनत करनी चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

3 महीनों के भीतर लागू होगी सोशल, डिजिटल मीडिया और OTT की नियमावली: मोदी सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

आपत्तिजनक विषयवस्तु की शिकायत मिलने पर न्यायालय या सरकार जानकारी माँगती है तो वह भी अनिवार्य रूप से प्रदान करनी होगी। मिलने वाली शिकायत को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और 15 दिन के अंदर निराकरण करना होगा।

भगोड़े नीरव मोदी भारत लाया जाएगा: लंदन कोर्ट ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, जताया भारतीय न्यायपालिका पर विश्वास

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने नीरव की मानसिक सेहत को लेकर लगाई गई याचिका को ठुकरा दिया। साथ ही ये मानने से इंकार किया कि नीरव मोदी की मानसिक स्थिति और स्वास्थ्य प्रत्यर्पण के लिए फिट नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

28 दिनों तक हिंदू युवती को बंधक बना कर रखने वाला सलमान कुरैशी गिरफ्तार: जीजा मुईन, दोस्त इमरान ने की थी मदद

सलमान कुरैशी की धर पकड़ में जुटी पुलिस को मुखबिर से बुधवार को तीसरे पहर सलमान और युवती के आइएसबीटी पर पहुँचने का पता चला था। जिसके बाद दबिश देते हुए पुलिस ने बस से आरोपित को युवती के साथ उतरते ही पकड़ लिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe