Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीति'किसानों पर दर्ज सारे मुकदमे हों वापस' : राकेश टिकैत 31 जनवरी को फिर...

‘किसानों पर दर्ज सारे मुकदमे हों वापस’ : राकेश टिकैत 31 जनवरी को फिर करेंगे ‘विरोध’, किया ऐलान

राकेश टिकैत ने कहा, “31 जनवरी को पूरे देश में 'विरोध दिवस' मनाया जाएगा। हमारी माँग है कि केंद्र उनके द्वारा दिल्ली में एमएसपी पर किए गए वादे को पूरा करे। और साल भर के विरोध के दौरान किसानों पर दर्ज मामले भी रद्द करें।”

राम मंदिर को देखकर भड़कने वाले राकेश टिकैत ने सोमवार (31 जनवरी 2022) को ‘विश्वासघात दिवस’ मनाने का ऐलान किया है। किसान नेता टिकैत ने रविवार (30 जनवरी 2022) को कहा कि 9 दिसंबर 2021 को सरकार द्वारा किए गए वादों के एक पत्र के आधार पर किसानों ने विरोध प्रदर्शन वापस ले लिया था, लेकिन जो वादे उनसे किए गए थे वो अब तक पूरे नहीं हुए।

राकेश टिकैत ने ऐलान किया कि सरकार द्वारा किसानों से वादाखिलाफी के खिलाफ 31 जनवरी को देशव्यापी ‘विश्वासघात दिवस’ मनाया जाएगा। समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, “31 जनवरी को पूरे देश में ‘विरोध दिवस’ होगा। हमारी माँग है कि केंद्र उनके द्वारा दिल्ली में एमएसपी पर किए गए वादे को पूरा करे। और साल भर के विरोध के दौरान किसानों पर दर्ज मामले भी रद्द करें।”

बता दें कि इससे पहले राकेश टिकैत ने कई मीडिया चैनलों से बातचीत के दौरान 31 जनवरी को वादाखिलाफी दिवस मनाने का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि वो 31 जनवरी को पूरे देश में बड़े अधिकारियों को ज्ञापन देंगे और वादा खिलाफी दिवस मनाया जाएगा।

राम मंदिर देख भड़के राकेश टिकैत

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के मद्देनजर किसान नेता राकेश टिकैत के राजनीति संबंधी बयान आने बंद नहीं हो रहे। हाल में उन्हें इंडिया टीवी ने अपने शो ‘चुनाव मंच’ में अतिथि के तौर पर बुलाया था, जहाँ इस मुद्दे पर बात हो रही थी कि आखिर ‘किसानों का मुख्यमंत्री कौन है’ लेकिन यहाँ भी टिकैत का रवैया राजनीतिक ही देखने को मिला।

बीच शो में राकेश टिकैत इस बात पर चिल्ला पड़े कि आखिर उनके पीछे लगे बैकग्राउंड में राम मंदिर की तस्वीर क्यों दिखाई जा रही है। उन्होंने कहा कैमरा और कलम पर अब बंदूक का पहरा है इसीलिए शो में राम मंदिर को दिखाया जा रहा है। इसके बाद उनकी आवाज तेज होती गई और वह चैनल पर प्रचार करने का आरोप लगाते रहे। उनके समर्थकों ने पीछे से हल्ला करना शुरू कर दिया। इसी बीच एंकर ने किसान नेता का ये रवैया भांपते हुए उन्हें फटकार लगाई और समझाया कि अगर वो मेहमान हैं चैनल के तो इसका मतलब ये नहीं है कि वो कुछ भी अनाप-शनाप बोलेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -