Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'मैं ही ले लेता हूँ हार की जिम्मेदारी, लेकिन राहुल को रहने दो अध्यक्ष':...

‘मैं ही ले लेता हूँ हार की जिम्मेदारी, लेकिन राहुल को रहने दो अध्यक्ष’: कॉन्ग्रेस का बकरा

इसके बाद राहुल गाँधी ने कहा कि उन्हें इसी बात का दुख है कि उनके इस्तीफे की बात के बाद भी किसी मुख्यमंत्री, महासचिव या प्रदेश अध्यक्षों ने हार की जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा नहीं दिया।

लोकसभा चुनाव में हुई कराई हार के बाद से कॉन्ग्रेस के अंदरूनी रुझान सामने आने लगे हैं। लेकिन लगता है कॉन्ग्रेस की अब इस हार की जिम्मेदारी किसी एक के सर फोड़ने की तलाश पूरी होने ही वाली है। हार के बाद किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री या फिर किसी भी राज्य के अध्यक्ष द्वारा जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा न देने की वजह से राहुल गाँधी विशेषतौर पर दुखी चल रहे हैं।

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की दिल्ली में कॉन्ग्रेस नेताओं के साथ बैठक के बाद आखिरकार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ लोकसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस की हार की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार हो चुके हैं। उन्होंने कहा है कि, “मैं इस हार के लिए जिम्मेदार हूँ।”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कमलनाथ ने कहा, “कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने सही कहा है। मैं नहीं जानता कि कॉन्ग्रेस की इस हार के लिए कौन जिम्मेदार है, लेकिन मैंने पहले इस्तीफे की पेशकश की थी। हाँ, मैं हार का जिम्मेदार हूँ। मुझे दूसरे नेताओं के बारे में पता नहीं है।”

जब कमलनाथ से कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के इस्तीफा देने पर अड़े रहने का सवाल पूछा गया तब उन्होंने जवाब देते हुए कहा, “कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पद के लिए राहुल गाँधी सही व्यक्ति हैं।” और जब कमलनाथ से यह पूछा गया कि राहुल गाँधी के बाद कॉन्ग्रेस पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष कौन बनेगा? तब उन्होंने जवाब दिया कि इस बात की जानकारी उन्हें नहीं है।

लोकसभा चुनाव 2019 में कॉन्ग्रेस के हार के बाद राहुल गाँधी ने इस्तीफे की पेशकश कर दी थी, लेकिन पार्टी ने उनके इस्तीफे को अस्वीकार कर दिया। इसके बाद राहुल गाँधी ने कहा कि उन्हें इसी बात का दुख है कि उनके इस्तीफे की बात के बाद भी किसी मुख्यमंत्री, महासचिव या प्रदेश अध्यक्षों ने हार की जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा नहीं दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -