Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिनंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी के काफिले पर हमला, मीडियाकर्मियों को भी बनाया निशाना

नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी के काफिले पर हमला, मीडियाकर्मियों को भी बनाया निशाना

इसके अलावा पश्चिम बंगाल के केशपुर में भाजपा उम्मीदवार प्रीतीश रंजन कोनार के काफिले पर भी हमला हुआ है। रंजन की भी गाड़ियों पर पथराव किया गया।

पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम से बीजेपी उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी के काफिले पर हमला करने की खबर सामने आ रही है। शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक सतेंगबाड़ी क्षेत्र में शुभेंदु के काफिले को निशाना बनाया गया। बंगाल की जिन 30 सीटों पर दूसरे चरण में आज (अप्रैल 1, 2021) मतदान हो रहा है, उनमें एक नंदीग्राम भी है। इस हमले में अधिकारी के काफिले में मौजूद कुछ गाड़ियों को नुकसान हुआ। घटना के बाद अधिकारी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में जंगलराज है।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, नंदीग्राम के कमलपुर के बूथ नंबर 170 पर मीडियाकर्मियों पर हमला हुआ है। शुभेंदु अधिकारी ने हमले को लेकर कहा, “ये पाकिस्तानियों के काम हैं। ‘जय बांग्ला’ बांग्लादेश का स्लोगन है। एक निश्चित पार्टी के वोटर ऐसे कार्यों को अंजाम दे रहे हैं।”

इंडिया टीवी के अनुसार, घटना में उनका कैमरामैन जख्मी हो गया। मीडिया चैनल ने एक वीडियो शेयर की है, इसमें उपद्रवी उनकी गाड़ी पर पत्थर फेंकते दिख सकते हैं।

इसके अलावा पश्चिम बंगाल के केशपुर में भाजपा उम्मीदवार प्रीतीश रंजन कोनार के काफिले पर भी हमला हुआ है। रंजन की भी गाड़ियों पर पथराव किया गया। इधर, वेस्ट मिदनापुर में बीजेपी के तन्मय घोष ने आरोप लगाया कि उनकी कार पर टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने हमला किया है। इतना ही नहीं बीजेपी की महिला एजेंट को भी मारा गया है। बीजेपी नेता का कहना है कि जब वो पुलिस स्टेशन गए तो उनकी शिकायत भी दर्ज नहीं की गई।

वहीं आज ही नंदीग्राम के एक नंबर ब्लॉक में एक भाजपा कार्यकर्ता का फंदे से लटकता शव मिला। तृणमूल कॉन्ग्रेस पर उसकी हत्या कर शव को फंदे से लटकाने का आरोप लगा है। भाजपा नेताओं का कहना है कि TMC के गुंडों ने उदय दुबे को मार कर लटका दिया, जबकि तृणमूल ने भाजपा पर लाशों की राजनीति खेलने का आरोप मढ़ा है।

बता दें कि पश्चिम बंगाल और असम में आज दूसरे चरण के लिए मतदान हो रहा है। बंगाल की 30, असम की 39 सीटों पर वोट डल रहे हैं। गुरुवार सुबह से ही कई सीटों पर ईवीएम में गड़बड़ी और हिंसा की खबरें आ रही हैं। इस दौरान तृणमूल कॉन्ग्रेस और भारतीय जनता पार्टी ने एक दूसरे पर वोटरों को धमकाने का आरोप भी लगाए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe