Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिकायम है PM मोदी का जलवा, फिर बने विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता: 78%...

कायम है PM मोदी का जलवा, फिर बने विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता: 78% अप्रूवल रेटिंग, बायडेन-ट्रुडो को टॉप-5 में भी जगह नहीं

'मॉर्निग कंसल्ट' की इस रिपोर्ट में सुपर पावर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक तथा फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की रेटिंग चौंकाने वाली रही।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता सातवें आसमान पर है। वह एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता चुने गए हैं। ‘मॉर्निंग कंसल्ट’ द्वारा जारी ताजा सर्वे के अनुसार, पीएम मोदी को 78 फीसदी ग्लोबल लीडर अप्रूवल रेटिंग मिली है। इस तरह वह दुनिया भर के 22 देशों के नेताओं को पीछे छोड़ते हुए इस लिस्ट में टॉप पर हैं।

रिसर्च कंपनी ‘मॉर्निंग कंसल्ट’ ने यह रेटिंग रिपोर्ट 10 मई से लेकर 16 मई 2023 के बीच सर्वे कर जारी की है। इस लिस्ट में जहाँ एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले नंबर पर हैं। वहीं, दूसरे नंबर पर स्विट्जरलैंड के राष्ट्रपति एलेन बर्सेट हैं। उन्हें 62% अप्रूवल रेटिंग मिली। इस सूची में तीसरे नंबर पर मेक्सिको के राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर हैं। उन्हें भी 62% अप्रूवल रेटिंग पॉइंट मिले। हालाँकि, उन्हें नकारने वालों की संख्या अधिक रही।

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री एंथनी अल्बानीज 53% रेटिंग के साथ चौथे और इटली की प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी 49% रेटिंग के साथ पाँचवें तथा ब्राजील के राष्ट्रपति लूला डी सिल्वा भी 49% रेटिंग के साथ पाँचवें स्थान पर हैं।

‘मॉर्निग कंसल्ट’ की इस रिपोर्ट में सुपर पॉवर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक तथा फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की रेटिंग चौंकाने वाली रही। एक ओर जहाँ जो बाइडेन 42% रेटिंग के साथ 7वें स्थान पर रहे। वहीं, ऋषि सुनक टॉप 10 में भी जगह नहीं बना सके। वह 33% रेटिंग के साथ 13वें स्थान पर रहे। वहीं, इमैनुएल मैक्रों 25% रेटिंग के साथ 20वें स्थान पर रहे।

कैसे होता है सर्वे…

सर्वे रिपोर्ट तैयार करने के लिए मॉर्निंग कंसल्ट प्रतिदिन 20000 से अधिक लोगों से बातचीत करता है। इस बातचीत में मिले जवाबों के आधार पर ग्लोबल लीडर का डेटा तैयार किया जाता है। इस सर्वे के लिए अमेरिका में 45000 लोगों की राय ली गई है। वहीं अन्य देशों में 500 से 5000 के बीच लोगों से बातचीत की गई है। अलग-अलग देशों में वहाँ की जनसंख्या व अन्य चीजों को देखते हुए अलग-अलग स्तर पर सर्वे होता है। भारत में जिन लोगों से बातचीत की गई वह पढ़ा-लिखा वर्ग था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -