Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिपहले सुनाई MP की 3 लड़कियाँ, अब वे हो गए कन्याकुमारी के कुछ बच्चे:...

पहले सुनाई MP की 3 लड़कियाँ, अब वे हो गए कन्याकुमारी के कुछ बच्चे: कश्मीर की बर्फबारी में राहुल गाँधी का मेमोरी लॉस

"सुबह-सुबह 6 बजे, जब हम यात्रा के लिए निकलते हैं, तीन गरीब बच्चे मेरे पास आ गए। फटी हुई टी-शर्ट थी और जब मैंने उन्हें पकड़ा, हाथ लगाया फोटो के लिए, क्योंकि वो फोटो लेना चाहते थे।"

अपने अजीबोगरीब बयानों से सुर्खियाँ बटोरने वाले कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ सोमवार (30 जनवरी, 2023) को श्रीनगर में खत्म हो गई। इस दौरान वह जैकेट पहने हुए नजर आए। उन्होंने कहा, “जब मैं कन्याकुमारी से आगे बढ़ रहा था, तब मुझे ठंड लग रही थी। मैंने कुछ बच्चे देखे। वे गरीब थे, उन्हें ठंड लग रही थी, वे मजदूरी कर रहे थे और काँप रहे थे। मैंने सोचा ठंड में ये बच्चे स्वेटर-जैकेट नहीं पहन पा रहे हैं तो मुझे भी नहीं पहनना चाहिए।”

इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर हमला बोला। उन्होंने ​कहा कि पीएम मोदी, अमित शाह और आरएसएस के लोगों ने हिंसा नहीं देखी है, वे डरते हैं। बकौल राहुल गाँधी, भाजपा का कोई नेता यहाँ पैदल ऐसे नहीं चल सकता, इसलिए नहीं कि जम्मू-कश्मीर के लोग उन्हें चलने नहीं देंगे, बल्कि इसलिए क्योंकि वो डरते हैं।

वायनाड से कॉन्ग्रेस सांसद के श्रीनगर में दिए गए बयान के बाद सोशल मीडिया पर उनका पुराना बयान वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने ठंड में टी-शर्ट पहनने और स्वेटर नहीं पहनने का कारण केरल की तीन लड़कियों को बताया था। यह वीडियो 9 जनवरी 2023 का है।

इसमें वह कहते हैं, “सब लोग मेरी टी-शर्ट के पीछे पड़ गए। इनको अभी तक ये बात समझ नहीं आ रही है। कह रहे हैं कि टी-शर्ट क्यों पहना है? ये सफेद टी-शर्ट क्यों पहना है? इसको सर्दी नहीं लगती। सबसे पहले में आपको ये बता दूँ कि मैं टी-शर्ट क्यों पहनता हूँ। यात्रा शुरू हुई। केरल में भयंकर गर्मी, ऐसा लग रहा था कि टी-शर्ट उतार दो। उस वक्त पसीने आ रहे थे। ह्यूमिडिटी अधिक थी। केरल में काफी गर्मी लगी। फिर हम मध्य प्रदेश की ओर बढ़े, वहाँ ठंड लगने लगी।”

राहुल गाँधी ने अपनी बात को जारी रखते हुए आगे कहा, “सुबह-सुबह 6 बजे, जब हम यात्रा के लिए निकलते हैं, तीन गरीब बच्चे मेरे पास आ गए। फटी हुई टी-शर्ट थी और जब मैंने उन्हें पकड़ा, हाथ लगाया फोटो के लिए, क्योंकि वो फोटो लेना चाहते थे। वो लड़कियाँ थीं। एक इस साइड और एक उस साइड। जैसे मैंने उनको पकड़ा वो ठंड से काँप रही थीं। मैंने उन्हें देखा तो उन्होंने पतली सी टी-शर्ट पहनी हुई थी। उस दिन मैंने निर्णय ले लिया कि जब तक मैं नहीं कापूँगा, तब तक मैं टी-शर्ट नहीं पहनूँगा। जब काँपना शुरू हो जाएगा, जब जबरदस्त कठिनाई होगी, तब जाकर मैं स्वेटर पहनने का सोचूँगा, मगर उससे पहले नहीं करूँगा। मैं उन तीन लड़कियों को मैसेज देना चाहता हूँ कि आपको ठंड लग रही है, तो फिर राहुल गाँधी को भी ठंड लग रही है। जिस दिन आपने स्वेटर पहन लिया, उस दिन राहुल गाँधी ने भी स्वेटर पहन लिया।”

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी 7 सितंबर, 2022 से ही भारत जोड़ो यात्रा पर हैं। इस दौरान राहुल ज्यादातर समय टी-शर्ट में ही दिखे हैं। यहाँ तक कि ठंड के दौरान भी वह टी-शर्ट पहने हुए दिखाई दिए। पहले कॉन्ग्रेस वालों ने इसके लिए उन्हें ‘महामानव’ प्रदर्शित किया, उसके बाद जब पत्रकारों ने सवाल पूछा तो वायनाड के सांसद ने उलटे पूछ दिया कि आपने स्वेटर क्यों पहना है? जब पत्रकार ने ठंड को कारण बताया तो राहुल गाँधी बोले, “नहीं, इसका कारण यह नहीं है कि सर्दी है। इसका कारण यह है कि आप सर्दी से डरते हो। मैं सर्दी से डरता नहीं हूँ।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गया में विष्णुपद मंदिर, बोधगया महाबोधि मंदिर कॉरिडोर: काशी विश्वनाथ के जैसा बजट, बिहार से लेकर उड़ीसा तक टूरिज्म पर बड़े ऐलान

केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा, "मैं प्रस्ताव करती हूँ कि बिहार में राजगीर और नालंदा के लिए एक व्यापक विकास पहल की जाएगी। हम ओडिशा में पर्यटन को बढ़ावा देंगे।"

₹3 लाख तक की आय पर 0% टैक्स, स्टैंडर्ड डिडक्शन ₹50000 से ₹75000 हुआ: जानिए करदाताओं के लिए बजट 2024 में क्या-क्या, TDS भरने...

3 लाख रुपए तक की आय पर 0%, 7 लाख तय की आय पर 5%, 10 लाख तक की आय पर 10%, 12 लाख तक की आय पर 15%, 15 लाख तक की आय पर 20% और इससे ऊपर की आय पर 30% टैक्स लगेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -