Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिजिस राज्य में हिंदुओं की शोभायात्रा पर होता था पथराव, उसी राज्य में अब...

जिस राज्य में हिंदुओं की शोभायात्रा पर होता था पथराव, उसी राज्य में अब 600 मंदिरों का होगा पुर्नोद्धार-खाटू श्याम का बनेगा कॉरिडोर: वे कौन हैं जो कहते हैं कि BJP के आने से नहीं बदलते हालात?

राजस्थान के इस बजट में ₹100 करोड़ की धनराशि सीकर में स्थित खाटू श्याम मंदिर के विकास के लिए दी गई है। यहाँ देश भर से करोड़ों श्रृद्धालु आते हैं। इस मंदिर में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए इन्फ्रा बनाया जाएगा

राजस्थान की भजनलाल शर्मा की भाजपा सरकार ने अपना पहला पूर्ण बजट पेश कर दिया है। राज्य की उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री दीया कुमारी ने वित्त वर्ष 2024-25 के लिए राज्य का यह बजट पेश किया। इस बजट में महिलाओं और हिन्दू आस्था पर भी विशेष ध्यान रखा गया है।

राजस्थान की उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी ने बुधवार (11 जुलाई, 2024) को यह बजट राजस्थान विधानसभा में पेश किया। इस बजट में कई महत्वपूर्ण योजनाओं और कामों का ऐलान किया गया। इसमें राजस्थान में महिलाओं के विकास को लेकर विशेष प्रावधान किए गए हैं।

बजट में महिलाओं के लिए लखपति दीदी योजना लाने की घोषणा की गई है। इस योजना के तहत राजस्थान में 15 लाख महिलाओं को फायदा पहुँचेगा। इस योजना के अंतर्गत महिलाओं को कौशल विकास से जोड़ा जाएगा। हर साल 3 लाख महिलाओं को इससे सशक्त किया जाएगा।

महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों से जोड़ कर उन्हें कौशल सिखाए जाएँगे। इसके बाद उन्हें अपना काम चालू करने के लिए आसान कर्ज दिलाया जाएगा। यह कर्ज ₹1 लाख का होगा और इसे छोटे उद्योग के लिए दिया जाएगा। यह योजना केंद्र सरकार की है, जिसे अब और आगे बढ़ाया जा रहा है।

राजस्थान सरकार ने कामकाजी महिलाओं के लिए जिलों में हॉस्टल बनाने की घोषणा की है। इसके अलावा बालिका सैनिक स्कूल भी बनाए जाएँगे। गर्भवती महिलाओं के लिए भी मुफ्त जाँच के लिए वाउचर दिए जाएँगे। महिलाओं के अन्य भी कई योजनाओं की घोषणा की गई है।

मंदिरों के लिए विशेष बजट

राजस्थान की भजनलाल सरकार ने राज्य में मंदिरों के पुनरोत्थान के लिए भी विशेष बजट जारी किया है। राजस्थान के इस बजट में ₹100 करोड़ की धनराशि सीकर में स्थित खाटू श्याम मंदिर के विकास के लिए दी गई है। यहाँ देश भर से करोड़ों श्रृद्धालु आते हैं। इस मंदिर में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए इन्फ्रा बनाया जाएगा। यहाँ खाटू श्याम कॉरिडोर विकसित होगा, इसे काशी विश्वनाथ और महाकाल कॉरिडोर के तर्ज पर बनाया जाएगा।

इसके अलावा राजस्थान के प्रसिद्ध मंदिर जीनमाता का भी विकास किया जाएगा। शाकम्भरी मंदिर का भी पुनरोद्धार होगा। राज्य के 600 मंदिरों के लिए भी ₹13 करोड़ का बजट पेश किया गया है। मंदिरों में दीपावली और रामनवमी त्योहारों के मौके पर सजावट की जाएगी।

कॉन्ग्रेस ने भगवा पर लगाई थी रोक

2024 लोकसभा चुनाव के दौरान जयपुर शहर लोकसभा क्षेत्र से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार प्रताप सिंह खाचरियावास ने वकील मंगल सिंह के माध्यम से जिला मजिस्ट्रेट में लिखित शिकायत दायर कर दावा किया था कि परकोटा के बाजारों में लोकसभा चुनाव 2024 में एक विशेष पार्टी को फायदा पहुँचाने के लिए भगवा ध्वज लगाए गए हैं। उन्होंने इसे आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करार दिया था।

इसके बाद रातोंरात नगर निगम ने झंडे उतरवा दिए थे। हवामहल से बिधायक बालमुकुंदाचार्य ने ने कलक्टर से शिकायत कर ये ध्वज वापस लगाने की माँग की थी। उन्होंने कहा था कि कॉन्ग्रेस को भगवा ध्वज और राम नाम से आपत्ति है। इस मामले में हिन्दू संगठनों ने जम कर विरोध किया था। इससे पहले कॉन्ग्रेस सरकार के दौरान राजस्थान में हिन्दू शोभा यात्राओं पर पथराव भी होता था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -