Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति'शरजील इमाम के खिलाफ सभी केस वापस लो' - बरखा दत्त की Sheroes उतरीं...

‘शरजील इमाम के खिलाफ सभी केस वापस लो’ – बरखा दत्त की Sheroes उतरीं ‘देशद्रोही’ के समर्थन में

"हम सभी शरजील इमाम के साथ एकजुटता में खड़े हैं, उनके खिलाफ सभी मामलों को तुरंत रद्द करने की माँग करते हैं। हम मीडिया और पुलिस के इस्लामोफोबिक व्यवहार की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं।"

नागरिकता संशोधन कानून के ख़िलाफ़ देश भर में विरोध कर रहे लोगों की मंशा धीरे-धीरे अब साफ हो चुकी है। शरजील इमाम की वायरल स्पीच ने इन लोगों के मनसूबों का खुलासा कर दिया है। इस बीच जामिया की उस आयशा रेना और लदीदा की सच्चाई से भी पर्दा उठ गया है, जिसे पिछले महीने तक बरखा दत्त असली शीरो (Shero, हीरो की स्त्रीलिंग) के रूप में पेश कर रही थीं और उसके कट्टरपंथी रवैये का खुलकर समर्थन कर रहीं थीं।

दरअसल, भारत से असम को काटने की बात करने वाले शरजील इमाम पर दर्ज हुए केसों को आयशा ने वापस लेने की माँग उठाई है। आयशा का मानना है कि शरजील के ख़िलाफ़ असम और उत्तर प्रदेश की पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज की है, वो निंदाजनक है।

बरखा दत्त की इस शीरो के अनुसार शरजील सिर्फ़ नागरिकता संशोधन कानून का मौख़िक आलोचक है और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जो उसने असम के बारे में बयान दिया, उसे संघ के लोग और भाजपा प्रवक्ता गलत तरह से पेश कर रहे हैं।

Related image
बरखा दत्त की शीरोज़

आयशा अपने फेसबुक पर शरजील इमाम के साथ एकजुटता में खड़े करीब 30 लोगों का नाम उल्लेख करके लिखती हैं, “हम, जागरूक कार्यकर्ता, छात्र और शिक्षाविद्, शरजील इमाम के साथ एकजुटता में खड़े हैं और उनके खिलाफ सभी मामलों को तुरंत रद्द करने की माँग करते हैं। हम सीएए-विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मीडिया और पुलिस के इस्लामोफोबिक व्यवहार की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। हम देश भर में चल रहे एंटी-सीएए विरोध प्रदर्शनों के दौरान राज्य दमन के सभी पीड़ितों के लिए बिना शर्त समर्थन और एकजुटता प्रदान करते हैं।”

सोशल मीडिया पर शरजील के ख़िलाफ़ दर्ज केसों को वापस लेने की माँग उठाते हुए आयशा ये भी कहती है कि ये सब राज्य सरकार और संघ परिवार की कोशिशें हैं ताकि इस प्रोटेस्ट को खत्म किया जा सके। आयशा जब अपने इस्लामी ‘भाईजान’ शरजील के लिए खुल कर लिखती है तो लदीदा पीछे कैसे रहती! लदीदा ने इसके लिए ट्विटर का सहारा लिया। बातें वही लिखी, अपनी मानसिकता के अनुसार।

गौरतलब है कि बीते दिनों ऑपइंडिया ने शाहीन बाग के प्रोटेस्ट में कट्टरपंथी इस्लामी मानसिकता की भूमिका की पड़ताल की थी। जिसमें साफ हुआ था कि शाहीन बाग का प्रोटेस्ट कोई आम प्रोटेस्ट नहीं है। बल्कि ये सोची-समझी साजिश है, जिसे रचने वाले शरजील जैसे कट्टरपंथी लोग हैं। और अब इन जैसे ‘देशद्रोहियों’ को समर्थन किससे मिल रहा है? उनसे जो ला इलाहा इल्ललाह का नारा बुलंद करती है और जो ऐसा नहीं करता है, उसे काफिर मानती है।

बता दें कि इससे पहले आयशा रेना 25 जनवरी को भी शरजील इमाम और शरजील उस्मानी के समर्थन में आवाज उठा चुकी है। इस दौरान आयशा ने दोनों को अपना भाई बंधु बताते हुए कहा था कि वे केवल फासीवादी सरकार से लड़ रहे हैं। इसलिए उनके ख़िलाफ़ आवाज़ उठाना बंद हो जाना चाहिए।

‘हम असम को हिंदुस्तान से परमानेंटली काट देंगे’ – शाहीन बाग के ‘मास्टरमाइंड’ की खुलेआम धमकी, वीडियो Viral

पुराना Pak परस्त है संविधान और ‘भारत’ से घृणा करने वाला शरजील इमाम, हिन्दुओं को निकालना चाहता है

‘अरेस्ट करने को पुलिस टीम भेज दी है’ – असम को भारत से काटने वाले ‘इमाम’ पर अलीगढ़ SSP का आदेश
जिसने दी असम को हिंदुस्तान से काटने की धमकी, उस ‘इमाम’ के खिलाफ दर्ज होगा देशद्रोह का मुकदमा

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘और गिरफ़्तारी की बात मत करो, वरना सरेंडर करने वाले साथियों को भी छुड़ा लेंगे’: निहंगों की पुलिस को धमकी, दलित लखबीर को बताया...

दलित लखबीर की हत्या पर निहंग बाबा राजा राम सिंह ने कहा कि हमारे साथियों को मजबूरन सज़ा देनी पड़ी, क्योंकि किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की।

CPI(M) सरकार ने महादेव मंदिर पर जमाया कब्ज़ा, ताला तोड़ घुसी पुलिस: केरल में हिन्दुओं का प्रदर्शन, कइयों ने की आत्मदाह की कोशिश

श्रद्धालुओं के भारी विरोध के बावजूद केरल की CPI(M) सरकार ने कन्नूर में स्थित मत्तनूर महादेव मंदिर का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,325FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe