Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिबाँह चढ़ाकर मेरी ओर बढ़े कॉन्ग्रेस सांसद, सोमवार को देखूँगी: स्मृति ईरानी

बाँह चढ़ाकर मेरी ओर बढ़े कॉन्ग्रेस सांसद, सोमवार को देखूँगी: स्मृति ईरानी

उन्नाव मामले पर चर्चा के दौरान कॉन्ग्रेस के दो सांसदों टीएम प्रतापन और डीन कोरियाकोस पर स्मृति ईरानी के साथ अभद्रता करने का आरोप है। भाजपा ने बिना शर्त माफी की मॉंग की है।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में अपने साथ हुई घटना पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा है कि सदन में कुछ पुरुष सांसद मेरी ओर बॉंह चढ़ाकर आए। उनमें से एक ने कहा कि स्मृति ईरानी बोल क्यों रही है? उन्होंने कहा कि जो कुछ हुआ उससे वे स्तब्ध हैं। क्या बीजेपी का सांसद होना उनकी गलती है। सोमवार को देखूॅंगी कि महिलाओं के हक में बोलने के लिए विपक्ष मुझे क्या सजा देता है।

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को लोकसभा में कॉन्ग्रेस ने उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता को जलाए जाने का मामला उठाया था। इस दौरान कॉन्ग्रेस के दो सांसदों टीएम प्रतापन और डीन कोरियाकोस पर स्मृति ईरानी के साथ अभद्रता करने का आरोप भाजपा ने लगाया है। भाजपा ने बिना शर्त माफी की मॉंग की है।

संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सांसदों का धमकी भरे अंदाज में ईरानी के सामने जाकर अपनी बात कहना गलत है। दोनों को इसके लिए बिना शर्त माफी माँगनी चाहिए। कॉन्ग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि जब यह मामला हुआ उस समय वह सदन में नहीं थे और उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है। वह सदस्यों से बात करेंगे। वहीं ईरानी की पीछे वाली सीट पर बैठी भाजपा की संगीता देव ने कहा कि कांग्रेस के दोनों सांसद आस्तीन चढ़ाकर मारने के अंदाज में महिला एवं बाल विकास मंत्री के पास आए थे।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ईरानी के बोलने के दौरान कॉन्ग्रेस के कुछ सांसदों ने जैसे हरकत की वह निंदनीय है और उन्हें इसके लिए माफी मॉंगनी चाहिए। इससे पहले उन्नाव का मामला उठाते हुए अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि आज हम एक तरफ राम मंदिर बनाने वाले हैं, दूसरी तरफ देश में ‘सीताएं’ जलाई जा रही हैं। जवाब में ईरानी ने कहा कि बलात्कार जैसी घटनाओं पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। इस मुद्दे पर ईरानी और कांग्रेस के कुछ सदस्यों के बीच तीखी नोकझोंक हो गई। ईरानी ने इसका जवाब देते हुए विपक्षी सांसदों से कहा कि आप यहॉं मुझ पर चिल्ला रहे हैं। इसका मतलब है कि आप एक महिला के साथ खड़ा नहीं होना चाहते और न ही मुद्दे पर बात करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में जब पंचायत चुनाव के दौरान विरोधियों को चुप कराने के लिए रेप का इस्तेमाल राजनैतिक तौर पर किया गया तब आप चुप थे।

आज तक की रिपोर्ट के अनुसार ईरानी ने कहा कि आज बंगाल के एक सांसद यहॉं मंदिर का नाम ले रहे थे। हैदराबाद-उन्नाव की घटना के बारे में बोल रहे थे। लेकिन, मालदा पर क्यों चुप्पी साध कर बैठे हैं। मालदा का जिक्र होते ही विपक्षी सदस्यों ने हॅंगामा शुरू कर दिया। टीएमसी के सदस्यों ने पूछा कि बताइए क्या हुआ? जवाब में ईरानी ने कहा कि बंगाल का अखबार पढ़िए। मालदा में रेप को राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया गया।

नचनिया, रंगा-बिल्ला के आगे मुजरा करने वाली… स्मृति ईरानी पर कॉन्ग्रेस समर्थक का आपत्तिजनक कमेंट

किसानों की जमीन हड़पने वाले न दें नसीहत: प्रियंका गाँधी की स्मृति ईरानी ने की बोलती बंद

स्मृति ईरानी का हुआ प्रमोशन, संसद में मोदी-शाह के साथ बैठेंगी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रहे मदन लोकुर से पेगासस ‘इंक्वायरी’ करवाएँगी ममता बनर्जी, जिस NGO से हैं जुड़े उसे विदेशी फंडिंग

पेगासस मामले की जाँच के लिए गठित आयोग का नेतृत्व सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर करेंगे। उनकी नियुक्ति सीएम ममता बनर्जी ने की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,324FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe