Thursday, September 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत:...

तालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत: भारत के बनाए बाँध को भी बचाया

अमेरिकी हवाई हमलों की मदद से अफगान बलों ने राजमार्गों के करीब के इलाकों को तालिबानी कब्जे से छुड़ा लिया है। भारतीय मदद से बने सलमा डैम पर हमले को भी नाकाम कर दिया है।

अफगानिस्तान में तालिबानी कट्टरपंथियों को पाकिस्तान से मदद मिलने की बात लगातार कही जाती रही है। अब अफगानिस्तानी सेना ने दुनिया के सामने इसके सबूत भी रखे हैं। रिपोर्टों के अनुसार पिछले कुछ दिनों में अफगान सेना ने अमेरिकी मदद से तालिबान के खिलाफ लड़ाई में अहम बढ़त हासिल की है। कई गाँवों और राजमार्गों को तालिबान के चंगुल से मुक्त करा लिया है। उस सलमा बाँध पर भी हमले को नाकाम कर दिया है, जिसे भारत की मदद से बनाया गया है। अफगानी सेना की कार्रवाई में तालिबानियों के साथ पाकिस्तानी भी मारे गए हैं। ये पाकिस्तानी सेना से जुड़े थे और उनके आईकार्ड मिले हैं।

अफगानिस्तान नेशनल डिफेंस सिक्योरिटी फोर्सेस (ANDSF) अमेरिकी सहयोग से लगातार तालिबान को पीछे धकेल रही है। अफगानिस्तान से पूरी तरह बाहर होने के पहले अमेरिका लड़ाकू और ड्रोन विमानों की सहायता से तालिबानी इलाकों पर एयर स्ट्राइक कर रहा है। इस कार्रवाई में सैकड़ों की संख्या में तालिबानी मारे गए हैं। इससे पहले तालिबान ने अफगानिस्तान के 85% क्षेत्र पर कब्जे का दावा किया था। लेकिन अब अफगानिस्तान की सेना ने कई गाँवों और राजमार्गों से सटे इलाकों में उसे पीछे धकेल दिया है। अफगानिस्तान के गजनी, तकहार, कंधार, हेलमंद और बघलान समेत 20 प्रांतों में अफगानिस्तानी सेना ने अपना प्रभाव बढ़ा लिया है।

पहले खबर आई थी कि तालिबान एक रणनीति के तहत अफगानिस्तान के अंदर इंफ्रास्ट्रक्चर को तबाह करने में लगा हुआ है। साथ ही उसके लड़ाके सड़कों समेत सैन्य चौकियों पर भी अपना कब्जा जमाना चाहते हैं ताकि अफगानिस्तान की सेना को एक्शन लेने से रोका जा सके। तालिबान की इसी रणनीति के पीछे पड़ते हुए अफगानिस्तान की सरकार ने मयमाना-अकीना, हैरातन-काबुल-तोरखाम, स्पिन बोल्डाक-कंधार शहर-लश्करगाह और इस्लाम कला-हेरात राजमार्गों की सुरक्षा को बढ़ा दिया है। तालिबान की इस रणनीति में पाकिस्तान को भी सहयोगी माना जा रहा है क्योंकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ISI द्वारा अफगानिस्तान में भारत के द्वारा निर्मित इंफ्रास्ट्रक्चर को निशाना बनाने की बात कही जा रही थी।

इसी क्रम में तालिबान ने भारत के द्वारा निर्मित और वित्तीय सहायता प्राप्त हेरात में स्थित सलमा बाँध पर भी तालिबानियों द्वारा हमला किया। अफगानिस्तान की सेना ने इस हमले को नाकाम कर दिया। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अफगानिस्तान की सेना द्वारा सलमा बाँध की सुरक्षा में की गई कार्रवाई में कई तालिबानी लड़ाकों के मारे जाने और घायल होने की खबर है।

पिछले कुछ समय से अफगानिस्तान में अशान्ति फैलाने के उद्देश्य से पाकिस्तान द्वारा तालिबान को सहयोग दिए जाने की बात भी सामने आ रही है। ANDSF द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार कई पाकिस्तानी सैन्य अधिकारियों के मारे जाने की भी खबर है। अफगानी सेना की कार्रवाई में जावेद नाम का पाकिस्तानी सेना का एक अधिकारी मारा गया है। जावेद अफगानिस्तान के लोगार, पकटिया और पक्तिका में तालिबान का नेतृत्व कर रहा था। अफगानी सेना ने कई पाकिस्तानियों को मारने का दावा किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

गले पर V का निशान, चलता पंखा… महंत नरेंद्र गिरि के ‘सुसाइड’ पर कई सवाल, CBI जाँच को योगी सरकार तैयार

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले की CBI जाँच कराने की सिफारिश की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe