Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयराजदूत की बेटी को अगवा किए जाने के बाद अफगानिस्तान ने पाकिस्तान से सारे...

राजदूत की बेटी को अगवा किए जाने के बाद अफगानिस्तान ने पाकिस्तान से सारे राजनयिक बुलाए

सिलसिला अलीखिल को 16 जुलाई को इस्लामाबाद में अज्ञात लोगों ने अगवा कर लिया था। अज्ञात स्थान पर प्रताड़ित करने के बाद उन्हें इस्लामाबाद के ब्लू एरिया में तहजीब बेकरी के पास छोड़ दिया गया था।

इस्लामी मुल्क पाकिस्तान से अफगानिस्तान ने अपने राजदूत स​हित सभी राजनयिकों को रविवार (18 जुलाई 2021) को वापस बुला लिया। सिलसिला अलीखिल को अगवा कर प्रताड़ित किए जाने के बाद यह कदम उठाया गया है। सिलसिला पाकिस्तान में अफगान राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की बेटी हैं। अगवा कर उन्हें कई घंटे तक टॉर्चर किया गया और फिर सड़क किनारे फेंक दिया गया था।

अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है, “राजदूत की बेटी के अपहरण के बाद अफगानिस्तान ने राजदूत और वरिष्ठ राजनयिकों को पाकिस्तान से तब तक के लिए वापस बुला लिया, जब तक कि अपहरण के दोषियों की गिरफ्तारी और उन पर मुकदमा चलाने सहित सभी सुरक्षा खतरों का समाधान नहीं हो जाता।” बयान में आगे कहा गया है, “एक अफगान प्रतिनिधिमंडल मामले और सभी संबंधित मुद्दों का आकलन और पालन करने के लिए जल्द ही पाकिस्तान का दौरा करेगा, निष्कर्षों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

अफगान उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह ने स्वीकार किया कि अपहरण के मामले ने राष्ट्र की अंतरात्मा को घायल और प्रताड़ित किया था। उन्होंने ट्वीट किया, “राष्ट्रपति अशरफ गनी ने विदेश मंत्रालय को निर्देश दिया कि इस्लामाबाद से हमारे राजदूत को सभी वरिष्ठ राजनयिकों के साथ वापस बुला लें। अफगान राजदूत की बेटी के अपहरण और उसके बाद की यातना ने हमारे देश के मानस को ठेस पहुँचाई है। हमारे राष्ट्रीय मानस को प्रताड़ित किया गया है।”

पाकिस्तान में अफगान राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की बेटी सिलसिला अलीखिल का 16 जुलाई को इस्लामाबाद में अपहरण कर लिया गया था। अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया था कि सिलसिला को कैद के दौरान प्रताड़ित किया गया। इस्लामाबाद के जिन्ना सुपर से अज्ञात लोगों ने उनका अपहरण कर लिया था। अज्ञात स्थान पर प्रताड़ित करने के बाद उन्हें इस्लामाबाद के ब्लू एरिया में तहजीब बेकरी के पास छोड़ दिया गया था।

मेडिकल रिपोर्ट में बताया गया था कि सिलसिला को बर्बर तरीके से टॉर्चर किया गया। उसके पैरों की हड्डियों को तोड़ दिया गया है और कलाइयों में कई फ्रैक्चर हैं। उसके घुटनों में काफी चोट है। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक सिलसिला की कलाई में काफी जोर से रस्सी बाँधी गई थी और मुँह में कपड़ा ठूँसकर उसे बहुत बुरी तरह से पीटा गया था। मेडिकल रिपोर्ट में आशंका जताई गई थी कि सिलसिला के शरीर की कई और हड्डियाँ टूटी हो सकती हैं, जिसका पता एक्सरे और दूसरी जाँच के बाद चल सकेगा।

इस बीच, पाकिस्तानी प्रधान मंत्री इमरान खान ने कानून प्रवर्तन एजेंसियों, इस्लामाबाद पुलिस और आंतरिक मंत्री शेख रशीद को अपहरण मामले की जाँच 48 घंटे के भीतर करने का निर्देश दिया था। उन्होंने सभी एजेंसियों से आरोपितों को पकड़ने के लिए संघीय पुलिस के साथ मिलकर काम करने का भी अनुरोध किया। रविवार को अफगानों के एक बड़े समूह ने काबुल में पाकिस्तान दूतावास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने सिलसिला अलीखिल की रक्षा करने में विफल रहने के लिए पाकिस्तानी सेना के खिलाफ नारे लगाए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -