Thursday, July 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयएक मर्द ने 200 महिलाओं को किया गर्भवती, रिकॉर्ड्स में गड़बड़ी से बच्चों की...

एक मर्द ने 200 महिलाओं को किया गर्भवती, रिकॉर्ड्स में गड़बड़ी से बच्चों की हो गई अदला-बदली: ऑस्ट्रेलिया की IVF इंडस्ट्री के लिए नई समस्या

वहाँ पर इन सबके लिए जिम्मेदार प्रशासन ने स्पर्म डोनर्स और इससे गर्भवती हुई महिलाओं के जो रिकॉर्ड्स रखे हैं, उनमें गड़बड़ी सामने आई है। जेनेटिक सूचनाओं में गड़बड़ी से बड़ी समस्या सामने आई है।

ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहाँ एक ही शख्स के स्पर्म से 200 महिलाओं के गर्भवती होने की बात सामने आई है, जिसके अगम्यगमन या कौटुम्बिक व्यभिचार का खतरा बढ़ गया है। अर्थात, ये 200 बच्चे बड़े होंगे तो आपस में इनके शादी-विवाह का डर है, ये फिर इनके बच्चे आपस में शादी कर सकते हैं। मेडिकल विज्ञान मानता है कि खून के रिश्ते में शादी होने के बाद जो बच्चे पैदा होते हैं वो अनुवांशिक रोग से ग्रस्त हो सकते हैं।

वहाँ पर इन सबके लिए जिम्मेदार प्रशासन ने स्पर्म डोनर्स और इससे गर्भवती हुई महिलाओं के जो रिकॉर्ड्स रखे हैं, उनमें गड़बड़ी सामने आई है। जेनेटिक सूचनाओं में गड़बड़ी से बड़ी समस्या सामने आई है। क्वींसलैंड दुनिया की सबसे बड़ी IVF इंडस्ट्री में से है। कोरोना संबंधित दिशानिर्देशों और बढ़ती माँग के बीच अब वहाँ स्पर्म डोनेशन की कमी हो गई है। प्रत्येक 6 में से 1 परिवार ऑस्ट्रेलिया में परिवार शुरू करने में दिक्कतों का सामना करता है।

क्वींसलैंड की ये इंडस्ट्री कई मिलियन डॉलर की है। अब इनमें से 42% स्पर्म डोनेशन के रिकॉर्ड्स में गड़बड़ी सामने आई है। लोगों ने आरोप लगाया है कि उन्हें डोनर की मेडिकल स्थिति के बारे में कुछ नहीं बताया गया। इससे भ्रूण की पहचान में भी गड़बड़ी सामने आई है। कइयों का आरोप है कि वो जिस बच्चे का पालन-पोषण कर रहे हैं उनके बायोलॉजिकल अभिभावक कोई और हैं। बड़ी संख्या में स्पर्म डोनेशन को नष्ट भी किया गया है। ये तय मानक पर खड़े नहीं उतरे।

बड़ी मात्रा में संगहित डोनटेड स्पर्म को नष्ट करने का आदेश जारी किया गया है। ऑडिट में ये भी पता चला है कि निम्न गुणवत्ता वाले स्पर्म का भी बच्चा पैदा करने के लिए इस्तेमाल किया गया। एक ही डोनर कई क्लीनिकों में जाकर स्पर्म डोनेट करता है, ऐसे में उसके कितने परिवार होंगे इसके कोई रिकॉड्स गड़बड़ी की वजह से सामने नहीं आए हैं। सरकार के पास 200 से अधिक शिकायतें पहुँची हैं। सरकार अब इन परिवारों से बात कर के आगे का कदम उठाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -