Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसब्जी की दुकान पर डिजिटल पेमेंट कर UPI के मुरीद हुए जर्मनी के मंत्री,...

सब्जी की दुकान पर डिजिटल पेमेंट कर UPI के मुरीद हुए जर्मनी के मंत्री, खरीदी मिर्च: कहा – डिजिटल इंफ़्रास्ट्रक्चर भारत की सफलता की एक कहानी

जर्मनी के डिजिटल और परिवहन मंत्री वोल्कर विसिंग जी-20 सम्मेलन में भाग लेने भारत पहुँचे हैं। इस दौरान उन्होंने दिल्ली में एक सब्जी की दुकान पर मिर्च खरीदी।

जर्मनी के मंत्री वोल्कर विसिंग प्रधानमंत्री मोदी की महत्वाकांक्षी योजना ‘डिजिटल इंडिया’ से प्रभावित नजर आए। वह एक छोटी सी दुकान पर डिजिटल पेमेंट देखकर दंग रह गए। जर्मनी के दूतावास ने भी भारत में बढ़ते डिजिटलीकरण की तारीफ की। साथ ही इसे देश की सफलता की कहानी करार दिया।

दरअसल, जर्मनी के डिजिटल और परिवहन मंत्री वोल्कर विसिंग जी-20 सम्मेलन में भाग लेने भारत पहुँचे हैं। इस दौरान उन्होंने दिल्ली में एक सब्जी की दुकान पर मिर्च खरीदी। इसका भुगतान करने के लिए उन्होंने यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस यानि UPI का उपयोग किया। इसके कुछ वीडियो और फोटो भी सामने आए हैं। वीडियो में विसिंग को यूपीआई के जरिए पेमेंट करते देखा जा सकता है।

इस दौरान वोल्कर विसिंग काफी खुश नजर आए। भारत में बढ़ते UPI के उपयोग और विसिंग के अनुभव को लेकर जर्मनी के दूतावास ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा, “भारत की सफलता की कई कहानी है। इनमें से एक डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर भी है। UPI हर किसी को सेकंडों में लेनदेन करने में सक्षम बनाता है। लाखों भारतीय इसका इस्तेमाल करते हैं। जर्मनी के डिजिटल और परिवहन मंत्री ने खुद यूपीआई से पेमेंट कर इसकी सरलता का अनुभव किया। वह इसके मुरीद हो गए।”

बता दें कि वोल्कर विसिंग जी-20 में डिजिटल मंत्रियों की बैठक में शामिल होने 18 अगस्त को बेंगलुरु पहुँचे थे। उन्होंने 19 अगस्त को भारत के सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव समेत अन्य देशों के मंत्रियों के साथ बैठक की थी।

गौरतलब है कि UPI अब सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर के कई देशों में तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। साथ ही कई देश इसका उपयोग भी कर रहे हैं। यूपीआई को लेकर भारत ने  श्रीलंका, संयुक्त अरब अमीरात, सिंगापुर के साथ साझेदारी की है। वहीं जब प्रधानमंत्री मोदी फ्रांस दौरे पर थे तब उन्होंने कहा था कि UPI से पेमेंट को लेकर दोनों देशों के बीच साझेदारी हुई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -