Tuesday, October 19, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइमरान खान बार-बार 'फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन' वाला ट्वीट क्यों 'कॉपी-पेस्ट' कर रहे? खौफ का...

इमरान खान बार-बार ‘फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन’ वाला ट्वीट क्यों ‘कॉपी-पेस्ट’ कर रहे? खौफ का कारण बनी भारतीय सेना

"मैं फिर से दोहरा रहा हूँ कि IOJK (जम्मू-कश्मीर, जिसे पाकिस्तान लगातार भारत के कब्जे वाला जम्मू और कश्मीर लिखता है) में चल रहे नरसंहार से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए भारत की ओर से फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन चलाया जा रहा है।"

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान सोशल मीडिया से लेकर प्रेस वार्ता में लगभग 6 माह से भारत पर आरोप लगाते देखे जा रहे हैं कि भारत कश्मीर में फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन (छद्म युद्ध) की तैयारी कर रहा है।

आज ही ट्विटर पर Jeff M Smith ने एक ट्वीट करते हुए भी इस बारे में लिखा है कि यह छठी बार है जब पकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट किया है कि भारत पिछले अगस्त से कश्मीर में झूठा फ्लैग ओपरेशन शुरू करने की तैयारी कर रहा है। इसका मतलब क्या है? क्या उन्हें (इमरान खान) लगता है कि किसी को इस बात पर यकीन है?

उन्होंने आशंका जताते हुए लिखा है कि सम्भव है कि पाकिस्तान इस बात की तैयारी कर रहा हो कि जब कभी वो आतंकी हमला होगा तो इमरान खान के ये ट्वीट उन्हें बचाने का काम करेंगे।

इमरान खान ने भारत पर फ्लैग ऑपरेशन करने का सबसे ताजा फर्जी दावा मई 21 की अर्धरात्रि 12 बजकर 6 मिनट पर एक ट्वीट में किया है। इमरान खान ने इस ट्वीट में लिखा है –

“मैं फिर से दोहरा रहा हूँ कि IOJK में चल रहे नरसंहार से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए भारत की ओर से फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन चलाया जा रहा है।”

फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन: छद्म युद्ध

उल्लेखनीय है कि फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन का मतलब ऐसी सैन्य या सामरिक गतिविधियों से होता है, जहाँ पर किसी भी ऑपरेशन को अंजाम देने वाले की पहचान को पूरी तरह से छिपा दिया जाता है। इसके साथ ही, इस तरह के ऑपरेशन को अंजाम देने वाला शख्स यदि पकड़ा जाता है, तो उसमें अपनी भूमिका से स्पष्ट रूप से मना कर दिया जाता है।

इस तरह के किसी भी ऑपरेशन को अंजाम देने वालों को इस बात की पूरी जानकारी होती है कि यदि वे पकड़े गए तो सरकार उन्‍हें किसी तरह से भी स्‍वीकार नहीं करेगी। इन्हें ही ‘कवर्ट ऑपरेशन’ भी कहा जाता है।

वास्तव में यह पहली बार नहीं है जब इमरान खान ने ऐसा दावा किया हो। यह बात अलग है कि हाल ही के कुछ दिनों में इमरान खान की ओर से ऐसे ट्वीट की मात्रा बढ़ी है।

इमरान खान के लम्बे समय से चले आ रहे फर्जी छद्म युद्ध के भय पर एक नजर

1 – अगस्त, 2019

भारत पर फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन करने की सम्भावना पर पाकिस्तानी प्रधानमन्त्री इमरान खान ने गत वर्ष अगस्त के माह में ट्वीट किया था। इसमें इमरान खान ने लिखा था – “मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय को आगाह करना चाहता हूँ कि इस बात की पूरी सम्भावना है कि भारत सरकार IOJK (जम्मू-कश्मीर, जिसे पाकिस्तान लगातार भारत के कब्जे वाला जम्मू और कश्मीर लिखता है) में हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन की घटनाओं को दबाने के लिए फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन का प्रयास करेगा।”

2 – दिसम्बर, 2019

गत वर्ष दिसम्बर माह में दूसरी बार इमरान खान ने ऐसी सम्भावना की फिर से आशंका व्यक्त की थी। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा- “मोदी सरकार के पिछले 5 वर्षों में, भारत अपने हिंदूवादी वर्चस्व की फासीवादी विचारधारा के साथ हिंदू राष्ट्र की ओर बढ़ रहा है। अब नागरिक संशोधन अधिनियम के साथ, उन सभी भारतीयों को जो एक बहुलतावादी भारत चाहते हैं, विरोध करने लगे हैं और यह एक जन आंदोलन बन रहा है।”

इसके अगले ट्वीट में आदतन इमरान खान ने लिखा- “जैसा कि IOJK (इण्डिया ओक्युपाइड जम्मू-कश्मीर) में भारतीय कब्जे वाली सेनाओं की घेराबंदी जारी है और इसे हटाने पर खून-खराबे की आशंका है। जैसे-जैसे ये विरोध बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे भारत से पाक को खतरा भी बढ़ता जा रहा है। भारतीय सेना प्रमुख का बयान एक फॉल्‍स फ्लैग ऑपेरेशन की हमारी चिंताओं को बढ़ाता है।”

3 – जनवरी, 2020

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को बीच-बचाव के लिए प्रार्थना करते इमरान खान ने ट्वीट में लिखा –

“जैसा कि भारतीय सेना की ओर से एलओसी के पार नागरिकों को निशाना बनाना और मारना जारी है, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के कश्मीर विवाद के संयुक्त राष्ट्र मध्यस्थता (UN mediation of the Kashmir dispute) को भारत को LOC के IOJK से बाहर जाने की अनुमति देने की तत्काल आवश्यकता है। हमें भारतीय फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन का डर है।”

एक और ट्वीट करते हुए इमरान खान ने लिखा – “मैं भारत और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को स्पष्ट करना चाहता हूँ कि अगर भारत ने LOC के पार नागरिकों को मारने वाले अपने सैन्य हमलों को जारी रखा, तो पाकिस्तान को LOC पर मूक दर्शक बने रहना मुश्किल होगा।”

4 – मई 06, 2020

मई माह में इमरान खान ने पहला ट्वीट 6 मई को करते हुए लिखा –

“मैं पाकिस्तान को निशाना बनाने के प्रयासों में भारत के फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन के बहानों के बारे में दुनिया को आगाह कर रहा हूँ। एलओसी के पार ‘घुसपैठ’ के भारत द्वारा लगाए जा रहे नवीनतम आधारहीन आरोप इस खतरनाक एजेंडे का हिस्सा हैं। भारतीय कब्जे के खिलाफ स्वदेशी कश्मीरियों का विरोध भारत द्वारा कश्मीरियों के उत्पीड़न और क्रूरता का प्रत्यक्ष परिणाम है…”

“…आरएसएस-भाजपा गठबंधन की फासीवादी नीतियाँ गंभीर जोखिमों से भरी हैं। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भारत के ऐसे कदमों से दक्षिण-एशिया में शांति और सुरक्षा को भंग करने के लिए कार्यवाही करनी चाहिए।”

5 – मई 17, 2020

अपने देश में कोरोना वायरस की स्थिति से निपटने के तौर-तरीक़ों को लेकर आलोचना झेल रहे इमरान ख़ान ने गत रविवार (मई 17, 2020) को ट्विटर पर एक के बाद एक कई ट्वीट किए।

इमरान खान ने कहा कि मोदी सरकार ‘बर्बर शक्ति प्रयोग’ और ‘अमानवीय तौर-तरीक़ों’ के ज़रिए जम्मू-कश्मीर पर ‘ग़ैर-क़ानूनी कब्जा’ रखना चाहती है। इमरान ख़ान ने ट्विटर पर लिखा –

“IOJK के बारे में मोदी, आरएसएस से प्रभावित सिद्धांतों के ज़रिए नीतियाँ बनाते हैं और ये बेहद स्पष्ट है: पहला, ग़ैर-क़ानूनी कब्ज़े के ज़रिए कश्मीरियों को आत्म-निर्णय के अधिकार से वंचित करना। दूसरा, उन्हें मनुष्य से कमतर आँकना और उनके साथ वैसा बर्ताव करना।”

पाकिस्तानी अख़बार ‘द डॉन’ के अनुसार, इमरान ख़ान ने मोदी सरकार के कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के फ़ैसले पर भी सवाल उठाते हुए इसे ‘अमानवीय लॉकडाउन’ ठहराया।

ट्वीट की कतारों में इमरान खान ने एक बार फिर लगे हाथ जिक्र करते हुए भारत की ओर से फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन की आशंका व्यक्त कर दी।

6 – मई 21, 2020

सबसे ताजा ट्वीट में इमरान खान ने लिखा –

“मैं फिर से दोहरा रहा हूँ कि IOJK में चल रहे नरसंहार से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए भारत की ओर से फॉल्‍स फ्लैग ऑपरेशन चलाया जा रहा है।”

भारतीय सेना का मिशन है इमरान खान के भय का कारण

वास्तव में, इमरान खान को जो भय सता रहा है, उसके पीछे सबसे बड़ा कारण कश्मीर घाटी में भारतीय सेना द्वारा किए जा रहे आतंकवादियों के सफाया है। पाकिस्‍तान को लगने लगा है कि कश्‍मीर में आतंकियों के समूल नाश के अपने मिशन के साथ ही भारत, पाकिस्‍तान में बैठे उनके आकाओं और आतंकी कैंपों को भी खत्‍म करने के लिए कोई ऑपरेशन को अंजाम दे सकता है।

इमरान खान के भीतर छद्म युद्ध को लेकर यह भय गत वर्ष भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से गहराता गया है। भारत ने पुलवामा में हुए आतंकी हमले की प्रतिक्रिया में पाकिस्‍तान की सीमा में घुसकर सर्जिकल स्‍ट्राइक को अंजाम दिया था।

इस स्ट्राइक में पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्‍तान में एयर स्‍ट्राइक कर कई आतंकी ठिकानों को नष्‍ट किया था। हाल ही में भारतीय सेना ने घाटी में मौजूद कई बड़े आतंकवादियों को पकड़ने, मार गिराने से लेकर उनके गुप्त ठिकानों का भी पर्दाफाश कर हिजबुल मुजाहिद्दीन जैसे आतंकी संगठनों को लाचार कर के रख दिया है।

यही कारण है कि इमरान खान अब फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन के भय वाले अपने पुराने ट्वीट को ही दोबारा ‘कॉपी-पेस्ट’ कर के खुद की फजीहत छुपाने की कोशिश कर रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe