Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबुर्के में लाई गई मरियम, गले में फंदा डाल कुर्सी पर खड़ा किया, 19...

बुर्के में लाई गई मरियम, गले में फंदा डाल कुर्सी पर खड़ा किया, 19 साल की बेटी से कुर्सी को लात मरवाई ताकि झूलकर मर जाए: ईरान का ये कैसा कानून

मरियम ने प्रताड़नाओं से तंग आकर 2009 में शौहर की हत्या कर दी थी। उस समय उसकी बेटी 6 साल की थी। मरियम को फाँसी दिए जाने से कुछ हफ्ते पहले ही उसकी बेटी को इस घटना के बारे में बताया गया।

ईरान का इस्लामी कानून एक बार फिर विवादों में है। मरियम करीमी नाम की एक महिला को उसकी ही 19 साल की बेटी से फाँसी दिलवाई गई है। मरियम ने प्रताड़नाओं से तंग आकर शौहर का कत्ल कर दिया था। इसके बाद उसे मौत की सजा सुनाई गई थी।

रिपोर्टों के अनुसार फाँसी देने के लिए मरियम को बुर्के में लाया गया। गले में फंदा डाल एक कुर्सी के सहारे खड़ा किया गया। फिर उसकी बेटी से कुर्सी को लात मरवाई गई ताकि फंदे से झूलकर उसकी मौत हो जाए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक 2009 में मरियम ने अपने शौहर की हत्या कर दी थी। निकाह के बाद से ही वह मरियम को प्रताड़ित करता था। उसे मारता-पीटता था। भूखा रखता था। शौहर के जुल्म के बारे में मरियम ने अपने अब्बा इब्राहिम को बताया। इब्राहिम ने दामाद को समझाने की काफी कोशिश की। लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। यहाँ तक कि वह मरियम को तलाक देने को तैयार नहीं था।

आखिर में मरियम ने अपने अब्बू के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद मरियम करीमी और उसके अब्बा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। शरिया अदालत ने दोनों को फाँसी की सजा सुनाई। फाँसी पर लटकाने से पहले ही इब्राहिम की मौत हो गई। हत्या के वक्त मरियम की बेटी 6 साल की थी। उसे दादा-दादी के घर भेज दिया गया। दादा-दादी उसे बताते रहे कि वह अनाथ है। उसके अम्मी-अब्बू की मौत हो चुकी है। मरियम को फाँसी पर लटकाने से कुछ हफ्ते पहले ही उसकी बेटी को इस घटना के बारे में बताया गया।

द सन’ के मुताबिक, मरियम को फाँसी इस साल 13 मार्च में दी गई थी। लेकिन यह बात अब दुनिया के सामने आई है। बताया जा रहा है कि बेटी ने मरियम को माफ करने से इनकार कर दिया था। यह भी कहा जा रहा है कि अपनी ही अम्मी को फाँसी देने का दबाव उस पर प्रशासन ने डाला था।

गौरतलब है कि ईरान में आँख के बदले आँख जैसा कानून है। इस बर्बर कानून को किसास (Qisas Law) कहते हैं। इसके अलावा यहाँ ‘ब्लड मनी’ का भी कानून है। ब्लड मनी के तहत मृतक के रिश्तेदारों से दोषी को दी जाने वाली सजा के बारे में पूछा जाता है। इसमें रिश्तेदार दोषी को फाँसी की सजा दे सकते हैं। इसके अलावा वो मौत के बदले में पैसा भी ले सकते हैं और उनके पास माफी देने का विकल्प भी होता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -