Thursday, June 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'20 साल में दोगुनी हो गई मुस्लिमों की जनसंख्या, संसद में उठी थी शरिया...

’20 साल में दोगुनी हो गई मुस्लिमों की जनसंख्या, संसद में उठी थी शरिया की माँग’: नेपाल के सांसद ने बताया – यहाँ के वामपंथी भी हिन्दू विरोधी, ISI भी सक्रिय – OpIndia Ground Report

नेपाल में बढ़ते वामपंथी दखल पर वहाँ के सांसद अभिषेक शाह ने कहा कि नेपाल की गरीबी का फायदा वामपंथ उठा रहा है और यही कम्युनिस्टों की सोच भी होती है।

हाल में कई रिपोर्टें आई हैं जो बताती हैं कि नेपाल से लगी भारत की सीमा पर तेजी से डेमोग्राफी में बदलाव हो रहा है। मस्जिद-मदरसों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जमीनी हालात का जायजा लेने के लिए 20 से 27 अगस्त 2022 तक ऑपइंडिया की टीम ने भारत से लगे नेपाल के इलाकों का दौरा किया। हमने नेपाल के दांग और कपिलवस्तु जिलों में जो कुछ देखा उस पर हमने नेपाल के कपिलवस्तु से सांसद अभिषेक प्रताप शाह से बात की। प्रस्तुत है इस इस कड़ी की 23वीं रिपोर्ट:

सांसद अभिषेक प्रताप शाह ने सीमा पर और नेपाल में बढ़ रही इस्लामी गतिविधियों की ख़बरों की पुष्टि की है। साथ ही उन्होंने भारत सरकार से इन मुद्दे पर विशेष ध्यान देने की अपील की। सांसद के मुताबिक, अंग्रेजों ने 1923 में भारत को नेपाल से अलग किया था और रातों-रात सीमा रेखा खींच दी गई थी। उन्होंने आगे बताया कि सीमा विभाजन के बाद भी जो जहाँ रह रहा था, वहीं अपने-अपने धर्म को मानते हुए रहना जारी रखा।

अभिषेक प्रताप के अनुसार, तब बॉर्डर पर हिन्दू-मुस्लिम आबादी संतुलित थी, लेकिन बाद में कुछ बाहरी और असामाजिक तत्वों ने इसे बदल डाला और अब असंतुलन साफ़ देखा जा सकता है।

यह रिपोर्ट एक सीरीज के तौर पर है। इस पूरी सीरीज को एक साथ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

मुस्लिमों में जनसंख्या पर नहीं है कोई रोक, 90% तस्कर इसी समुदाय से

अभिषेक प्रताप शाह ने हमें आगे बताया कि मुस्लिमों में आबादी बढ़ाने पर कोई रोक नहीं है, इस कारण हिन्दू नेपाल में कम होते चले गए। उन्होंने कहा कि पहले किसी को इसका एहसास नहीं हुआ लेकिन अब जब सब कुछ सामने नजर आने लगा तब हम लोग चिंतित हैं।

सांसद शाह के मुताबिक नेपाल में मुस्लिमों के कुछ खुराफाती तत्व अधिक से अधिक पैसा कमाने के लिए अपराधों में शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा कि अगर नेपाल और भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों का आँकड़ा निकाला जाए तो 90% नशे के अवैध कारोबारी मुस्लिम समाज से निकलेंगे।

नेपाल में 20 साल में डबल हो गई मुस्लिम आबादी

अभिषेक प्रताप ने कहा कि पिछले 20 साल के अंदर नेपाल में मुस्लिम आबादी में दोगुना हो गई है। उन्होंने बताया कि 20 साल पहले 4.5% मुस्लिम आबादी वाले नेपाल में अब 9% से अधिक मुस्लिम आबादी है। इसी के साथ सांसद ने आने वाले 20 वर्षों में मुस्लिम आबादी कई गुना और बढ़ जाने की आशंका जताई।

अभिषेक प्रताप शाह ने कहा कि नेपाल में मुस्लिम जनसंख्या सिर्फ भारत से लगे सीमावर्ती और तराई इलाकों में ही नहीं बल्कि सुदूर पहाड़ी क्षेत्रों में बहुत तेजी से बढ़ रही है। सांसद के मुताबिक, पहाड़ी लोग काफी सीधे और सज्जन होते हैं और वो मुस्लिम समुदाय की मीठी और चिकनी-चुपड़ी बातों में आ जाते हैं। अभिषेक प्रताप ने जानकारी दी कि नेपाल में भी लव जिहाद जैसी घटनाएँ सामने आने लगी हैं।

अभिषेक प्रताप के मुताबिक, नेपाल के उत्तरी इलाकों में रोहिंग्याओं की काफी बड़ी तादाद में घुसपैठ हुई है। उन्होंने कहा कि ये घुसपैठ इसलिए हो गई क्योंकि रोहिंग्याओं की शक्ल-सूरत उत्तरी नेपाल के निवासियों से थोड़ी-बहुत मिलती जुलती है।

कभी 1 मस्जिद थी राजधानी काठमांडू में, आज हैं 12

अभिषेक प्रताप ने कहा कि नेपाल के हालत हमारे लिए सावधानी का अलार्म बजा रहे हैं। उनके मुताबिक, कभी नेपाल की राजधानी काठमांडू में सिर्फ 1 मस्जिद हुआ करती थी आज उसी शहर में 12 मस्जिदें हैं। सांसद के मुताबिक, ये तमाम मस्जिदें कभी सुन्नी तो कभी वहाबी के नाम पर बनाई जा रही हैं।

सांसद अभिषेक प्रताप ने आगे बताया कि भले ही नेपाल गरीब देश कहा जाता हो लेकिन यहाँ के मुस्लिम अपनी जकात का पैसा मस्जिद और मदरसों में लगाते है। इसी के साथ उन्होंने ये भी माना कि इबादतगाहों के लिए विदेश से भी धन आ रहा है। सांसद के माना कि नेपाल की चमकती मस्जिदें और मदरसे इसी पैसे की बदौलत हैं।

नेपाल के मुस्लिम सांसदों ने संसद में माँगा था शरिया क़ानून

अभिषेक प्रताप शाह के मुताबिक, लगभग 7 साल पहले जब उनकी मौजूदगी में नेपाल की संसद में संविधान बनाया जा रहा था तब तब नेपाल के मुस्लिम सांसदों ने सदन में अपने लिए शरिया कानून की माँग उठाई थी। उन्होंने आगे बताया कि इस माँग का नेपाल की हर पार्टी के मुस्लिम सांसद ने सदन में हाथ उठा कर समर्थन भी किया था और हाँ में हाँ मिलाई थी। शाह ने ये भी बताया कि कुल लगभग 260 सदस्यीय नेपाली सदन में फिलहाल लगभग 20 मुस्लिम सांसद हैं, जिसमें महिलाएँ भी शामिल हैं।

सांसद शाह ने आगे बताया कि अभी नेपाल के कई लोग मुस्लिमों से जुड़ी तमाम बातों को नजरअंदाज कर रहे हैं लेकिन जब यहाँ भी फ़्रांस जैसे हालात बन जाएँगे तब सबकी समझ में आ जाएगा। उन्होंने कहा कि फ्रांसीसी लोग मौज मस्ती वाले लोग थे और उन्हें एहसास ही नहीं था कि कभी ये दिन भी आएगा। शाह के मुताबिक, उनके संसदीय क्षेत्र में लगभग हर साल हिन्दू मुस्लिम विवाद होता है जिसमें कई बार तो मुझे भी फँसाने की साजिश रची गई।

मुस्लिम अपराधी चंद पैसो में खरीद लेते हैं नेपाली प्रशासन को, नेपाल का भी वामपंथी हिन्दू विरोधी

सांसद अभिषेक शाह के मुताबिक, कपिलवस्तु में हर साल होने वाले दंगों को भले ही वामपंथी करवाते हैं लेकिन उसको अंजाम मुस्लिम वर्ग के लोग देते हैं। सांसद शाह ने कहा कि तस्करी आदि अपराधों से पैसे जमा रखने वाले मुस्लिम अपराधी अपराध कर के भी छूट जाते हैं क्योंकि वो नेपाली प्रशासन को कुछ पैसों में खरीद लेते हैं। सांसद ने ये भी कहा कि जो व्यक्ति दंगों के बाद आरोपितों पर कार्रवाई की माँग करता है, उसी पर केस दर्ज कर दिया जाता है।

अभिषेक शाह के अनुसार, दुनिया का हर वामपंथी हिन्दू धर्म का विरोधी है जिसमें नेपाल के कम्युनिस्ट भी शामिल हैं। उनका मानना है कि हिन्दू राष्ट्र का दर्जा और नेपाल के राजा को हटाने का एजेंडा नेपाली वामपंथियों का ही था। शाह का दावा है कि नेपाल से होने वाली लगभग हर भारत विरोधी साजिश में यहाँ के वामपंथियों का ही हाथ होता है। सांसद के अनुसार, पाकिस्तान से आया अवैध पैसे धर्मांतरण जैसे कामों में लग रहा है लेकिन भारत के विरोध में चीन और पाकिस्तान दोनों ने पहले से ही हाथ मिला रखा है।

नेपाली राजनीति में मुस्लिमों की अच्छी दखल

अभिषेक ने बताया कि वर्तमान समय में नेपाल की केंद्रीय और प्रादेशिक राजनीति में कई मुस्लिम सक्रिय है। उन्होंने जानकारी दी कि मुस्लिमों के लिए सरकार बजट भी पास करती है और इसी के साथ मदरसों के लिए अनुदान भी जारी होता है।

अभिषेक प्रताप ने बताया, “कालांतर में नेपाल के अंदर सीमा पर भारत में देवरिया जिले से आए मिर्जा दिलशाद बेग जैसे अपराधियों ने अपने ठिकाने बना डाले। शुरू में बाहरी लोगों ने आ कर यहाँ व्यापार आदि के बहाने पैर जमाए और बाद में और लोगों को बसा लिया। आज जो कुछ भी दिख रहा उसके पीछे ये एक बड़ी वजह रही। भारत सरकार को नेपाल पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है क्योकि शायद अब दिल्ली की प्राथमिकता में यूरोपीय और अमेरिका जैसे देश शामिल हो गए हैं।”

अभिषेक प्रताप शाह का कहना है कि भले ही यूरोपीय देश व्यापारिक नजरिए से भारत के लिए लाभप्रद हों पर नेपाल सुरक्षा की दृष्टि से भारत के लिए अहम है। सांसद ने माना कि नेपाल में भारत विरोधी सोची-समझी साजिश के तहत माहौल बनाया जा रहा है।

नेपाली शासकों ने खुद को समझा अंग्रेजों के बराबर और भारतीयों को गुलाम

सांसद शाह की मानें तो नेपाल की फ़ौज अंग्रेजों की तरफ से लड़ी थी, इस वजह से अंग्रेज उन्हें अतिरिक्त इज्जत देते थे। शाह के मुताबिक, इस वजह से नेपाल के पूर्व शासकों ने खुद को अंग्रेजो के बराबर मान लिया और उनके नजरिए में भारतीय उनके गुलाम ही रहे। सांसद का मानना है कि कहीं न कहीं उस सोच को यहाँ नेपाल में हवा दिलाई गई और इसी वजह से कइयों के मन में भारत विरोध भावनाएँ भड़कीं।

लिपुलेख सीमा विवाद का खुलासा करते हुए सांसद अभिषेक प्रताप शाह ने कहा कि वो विवाद नेपाली प्रधानमंत्री ओली द्वारा जानबूझ कर खड़ा किया गया था। अभिषेक शाह ने कहा कि विवाद खड़ा करने की टाइमिंग तब रखी गई थी, जब भारत में धारा 370 हटी थी। शाह ने बताया कि के पी ओली को भरोसा दिलाया गया था कि अगर भारत से हालत बिगड़े तो नेपाल की मदद के लिए चीनी फ़ौज भेज दी जाएगी। शाह के मुताबिक, धारा 370 आने से चीन की सीपैक परियोजना को झटका लगा है।

वामपंथ उठाता है गरीबी का फायदा, ISI भी सक्रिय

नेपाल में बढ़ते वामपंथी दखल पर वहाँ के सांसद अभिषेक शाह ने कहा कि नेपाल की गरीबी का फायदा वामपंथ उठा रहा है और यही कम्युनिस्टों की सोच भी होती है। भारत के शाहीन बाग़ के पीछे भी कम्युनिस्ट भी थे क्योकि कम्युनिस्टों को भारत से हमेशा विरोध रहा है। उन्होंने कहा कि जो वामपंथी भारत की छाती पर बैठ कर के भारत का गला दबा सकते है उनके लिए नेपाल कौन सी दूर की बात है।

अभिषेक प्रताप ने माना कि नेपाल में पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI एक लम्बे समय से सक्रिय है। उनके मुताबिक, ISI न सिर्फ सीमा पार आतंकवाद को बढ़ावा देती है बल्कि वो नकली नोटों जैसे कारोबार को भी चला रही है।

दोनों देशों का बने साझा गश्ती दल

सांसद शाह ने सुरक्षा के लिए दोनों देशों की साझा पेट्रोलिंग टीम बनाने की माँग की और बताया कि इस माँग को वो दिल्ली में भी उठा चुके हैं। शाह के मुताबिक, सीमाएँ खुली होने के चलते कोई भी अपराधी आराम से दोनों देशों में कहीं भी अपराध कर के भाग सकता है और प्रत्यर्पण संधि न होने के चलते बाद में अपराधी को पकड़ने में बहुत दिक्कतें आती हैं। सांसद ने बताया कि ये फ़ोर्स सीमा के 20 किलोमीटर तक अधिकृत की जाएँ और यदि ऐसा हुआ तो सीमावर्ती इलाकों में बहुत कुछ सुधारा जा सकता है।

योगी आदित्यनाथ के CM बनने के बाद बहुत बदलाव

अभिषेक शाह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए उन्हें भारत की नेपाल हितों के प्रति सबसे गंभीर शख्सियत बताया। उन्होंने बताया कि UP में योगी सरकार बनने के बाद नेपाल से बॉर्डर पार करने वाले अपराधियों की UP पुलिस तुरंत धर-पकड़ करती है। शाह का मानना है कि योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद भारत और नेपाल के रिश्तों में काफी सुधार आया है क्योंकि नेपाल की ज्यादातर सीमा UP से ही लगी हुई है। सांसद के मुताबिक नेपाल के भारत समर्थक लोग मोदी के बाद योगी को प्रधानमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं और उसके बाद दोनों देशों के रिश्ते और मजबूत होंगे।

अभिषेक शाह ने कहा कि नवम्बर 2022 में एक बार फिर से नेपाल में चुनाव होने जा रहे हैं और इस बार नेपाली जनता चुनावों में ओली की वामपंथी पार्टी को शिकस्त देगी। नेपाल के फिर से हिन्दू राष्ट्र बनने की संभावनाओं पर सांसद अभिषेक ने कहा, “आज भी हमारी राष्ट्रीय पशु गाय है और तमाम विरोधों के बाद भी कोई नहीं जानता कि क्या पता हम फिर से इस देश को हिन्दू राष्ट्र बनाने में सफल रहें। हम ये भी चाहते हैं कि भारत और नेपाल एक साथ ही हिन्दू राष्ट्र बनें।”

पढ़ें पहली रिपोर्ट : कभी था हिंदू बहुल गाँव, अब स्वस्तिक चिह्न वाले घर पर 786 का निशान: भारत के उस पार भी डेमोग्राफी चेंज, नेपाल में घुसते ही मस्जिद, मदरसा और इस्लाम – OpIndia Ground Report

पढ़ें दूसरी रिपोर्ट : घरों पर चाँद-तारे वाले हरे झंडे, मस्जिद-मदरसे, कारोबार में भी दखल: मुस्लिम आबादी बढ़ने के साथ ही नेपाल में कपिलवस्तु के ‘कृष्णा नगर’ पर गाढ़ा हुआ इस्लामी रंग – OpIndia Ground Report

पढ़ें तीसरी रिपोर्ट : नेपाल में लव जिहाद: बढ़ती मुस्लिम आबादी और नेपाली लड़कियों से निकाह के खेल में ‘दिल्ली कनेक्शन’, तस्कर-गिरोह भारतीय सीमा पर खतरा – OpIndia Ground Report

पढ़ें चौथी रिपोर्ट : बौद्ध आस्था के केंद्र हों या तालाब… हर जगह मजार: श्रावस्ती में घरों की छत पर लहरा रहे इस्लामी झंडे, OpIndia Ground Report

पढ़ें पाँचवीं रिपोर्ट : महाराणा प्रताप के साथ लड़ी थारू जनजाति बहुल गाँव में 3 मस्जिद, 1 मदरसा: भारत-नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी का ये है ‘पैटर्न’ – OpIndia Ground Report

पढ़ें छठी रिपोर्ट : बौद्ध-जैन मंदिरों के बीच दरगाह बनाई, जिस मजार को पुलिस ने किया ध्वस्त… वो फिर चकमकाई: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी – OpIndia Ground Report

पढ़ें सातवीं रिपोर्ट : हनुमान गढ़ी की जमीन पर कब्जा, झारखंडी मंदिर सरोवर में ताजिया: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, असर UP के बलरामपुर में – OpIndia Ground Report

पढ़ें आठवीं रिपोर्ट : पुरातत्व विभाग से संरक्षित जो जगह, वहाँ वक्फ की दरगाह-मजार: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुसीबत में बौद्ध धर्मस्थल – OpIndia Ground Report

पढ़ें नौवीं रिपोर्ट : 2 मीनारों वाली मस्जिदें लोकल, 1 मीनार वाली अरबी पैसे से… लगभग हर गाँव में मदरसे: नेपाल बॉर्डर के मौलाना ने बताया इसमें कमीशन का खेल – OpIndia Ground Report

पढ़ें दसवीं रिपोर्ट : SSB बेस कैंप हो या सड़क, गाँव हो या खेत-सुनसान… हर जगह मस्जिद-मदरसे-मजार: UP के बलरामपुर से नेपाल के जरवा बॉर्डर तक OpIndia Ground Report

पढ़ें 11वीं रिपोर्ट : हिंदू बच्चों का खतना, मंदिर में शादी के बाद लव जिहाद और आबादी असंतुलन के साथ बढ़ते पॉक्सो मामले: नेपाल बॉर्डर पर बलरामपुर जिले में OpIndia Ground Report

पढ़ें 12वीं रिपोर्ट : गाँवों में अरबी-उर्दू लिखे हुए नल, UAE के नाम की मुहर: ज्यादा दाम देकर जमीनें खरीद रहे नेपाली मुस्लिम – OpIndia Ground Report

पढ़ें 13वीं रिपोर्ट : नए बने ओवरब्रिज के नीचे मज़ार-कर्बला, सड़क किनारे मस्जिद-मदरसे-दरगाह: नेपाल के बढ़नी बॉर्डर हाइवे पर ‘हरा रंग’ हावी – OpIndia Ground Report

पढ़ें 14वीं रिपोर्ट : 4 और 14 वाली नीति से एकतरफा बढ़ रही आबादी… उस गाँव में मस्जिद बनाने की कोशिश, जहाँ नहीं एक भी मुस्लिम’ : UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

पढ़ें 15वीं रिपोर्ट: फ़ारसी में ‘गरीब नवाज स्कूल’ का बोर्ड, उस पर बने चाँद-तारे… घरों-दुकानों में लहरा रहे इस्लामी झंडे, सड़क से सटी हुई मजारें: UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

पढ़ें 16वीं रिपोर्ट: ’10 km में 20 गाँव मुस्लिम बहुल, हिन्दू दब कर मनाते हैं अपने त्योहार’: नेपाल सीमा के ग्राम प्रधान ने बताया – गरीब दिखने वाले मुस्लिमों के पास भी बहुत पैसे: UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

पढ़ें 17वीं रिपोर्ट: 150 मदरसे, 200 मस्जिदें… नेपाल सीमा से 15 km के दायरे का हाल, जानिए बॉर्डर के उन गाँवों की स्थिति जो बन गए हैं मुस्लिम बहुल: UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

पढ़ें 18वीं रिपोर्ट: ‘संयुक्त अरब अमीरात एसोसिएशन’ के नल से UP-नेपाल बॉर्डर पर पानी, सिद्धार्थनगर का मुस्लिम बहुल बाजार डुमरियागंज है सप्लायर: OpIndia Ground Report

पढ़ें 19वीं रिपोर्ट: ‘नेपाल से अपराधी को पकड़ कर लाना Pak से लाने के बराबर’: सीमा पर तैनात रहे DSP ने बताया – नेपाल पुलिस नहीं दिखाती हमारे जैसी सक्रियता – OpIndia Ground Report

पढ़ें 19वीं रिपोर्ट: रामजन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष का मंदिर लैंड जिहाद का शिकार: बॉर्डर UP-नेपाल का… लेकिन जमीन कब्जा के लिए फिलिस्तीनी मॉडल – OpIndia Ground Report

पढ़ें 20वीं रिपोर्ट: ‘मस्जिद-मदरसे-मजार हैं ठिकाने, बाहरी लोगों से भरे पड़े’ : भारत-नेपाल बॉर्डर के 5 Km दोनों तरफ साजिश की पट्टी – OpIndia Ground Report

पढ़ें 21वीं रिपोर्ट: ‘खाली जगह घेर कर बना देते हैं मजार, फिर कहते हैं ये सदियों पुरानी है’: नेपाल सीमा के विधायक ने माना बॉर्डर क्षेत्र में जमीनों के अधिकतर ख़रीददार मुस्लिम – OpIndia Ground Report

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -