Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजरूस में सैनिकों की मौत के बाद भी गर्भवती हो सकेंगी उनकी पत्नियाँ, यूक्रेन...

रूस में सैनिकों की मौत के बाद भी गर्भवती हो सकेंगी उनकी पत्नियाँ, यूक्रेन युद्ध में गए फौजियों का स्पर्म फ्रीज करने का फैसला

रूसी महिलाएँ अपने पतियों को यूक्रेन में लड़ाई के लिए भेजने के लिए इस शर्त पर तैयार हैं कि उनके स्पर्म को सुरक्षित रखा जाए।

रूस और यूक्रेन के बीच बीते 10 महीने से युद्ध जारी है। हालाँकि, इसके बाद भी इस युद्ध के खत्म होने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। वहीं, रूस ने यूक्रेन में 3 लाख सैनिकों की तैनाती करने का ऐलान किया है। इससे यूद्ध के और भी भीषण हो सकता है। ऐसे में, रूसी सरकार ने स्वास्थ्य नियमों में बदलाव करते हुए सैनिकों को क्लीनिक में स्पर्म फ्रीज कराने की सुविधा दी है। यह सुविधा पूरी तरह निःशुल्क है।

समाचार एजेंसी टास ने रूसी वकील संघ के अध्यक्ष इगोर ट्रूनोव के हवाले से कहा है कि सरकार ने स्पर्म फ्रीज करने के लिए क्रायोबैंक में बायोमैटेरियल के भंडारण और सैनिकों के बच्चे न होने की बीमारी के इलाज के लिए वित्तीय सहायता को मंजूरी दी है।

कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि रूसी महिलाएँ अपने पतियों को यूक्रेन में लड़ाई के लिए भेजने के लिए इस शर्त पर तैयार हैं कि उनके स्पर्म को सुरक्षित रखा जाए। इससे सैनिक की मौत के बाद भी वह स्पर्म के जरिए प्रेग्नेंट हो सकेंगीं। यह भी कहा जा रहा है कि यूक्रेन पर लगातार हमलों के बीच रूसी सेना को लगातार नुकसान हुआ है। इसलिए अब, रूस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध तेज करने के लिए 3 लाख सैनिकों की तैनाती का फैसला किया है।

गौरतलब है कि स्पर्म फ्रीजिंग की माँग को लेकर सबसे पहले मोस्कोवस्कीज कोम्सोमोलेट्स अखबार ने बीबीसी के रूसी संवाददाता स्टीव रोसेनबर्ग के हवाले से दावा किया था कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन के खिलाफ जारी युद्ध को आगे बढ़ाने के लिए स्पर्म फ्रीजिंग कर हैं।

उल्लेखनीय है कि इसी साल नवंबर में अमेरिकी जनरल मार्क मिले ने कहा था कि रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू होने के बाद से (फरवरी से नवंबर तक) लगभग 100000 (एक लाख) रूसी सैनिक या तो मारे गए हैं या फिर घायल हुए हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि यूक्रेनी सेना को भी लगभग ऐसा ही नुकसान हुआ है। वहीं, कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि इस युद्ध में कम से कम 10 हजार रूसी सैनिक मारे गए हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -