Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनाखून उखाड़े, कील ठोंकी, नंगा किया: डायन बता स्कॉटलैंड में मार डाले गए 2500,...

नाखून उखाड़े, कील ठोंकी, नंगा किया: डायन बता स्कॉटलैंड में मार डाले गए 2500, एक्ट हटा पर 285 साल बाद भी इल्जाम कायम

सन 1590 में जिलीस डनकन नामक एक गरीब लड़की पर कुछ लोगों ने डायन होने का इल्जाम लगाया और फिर उंगली मोड़ने वाले औजार से उसकी उंगली कुचल डाली। फिर उसे रस्सी से बांधा गया और नंगा करके शरीर को छील दिया गया...

सदियों पहले स्कॉटलैंड में कुछ औरतों को डायन और कुछ पुरुषों को जादू-टोना करने वाला कहकर उन्हें मारने का जघन्य अपराध हुआ। कभी उनके नाखून उखाड़े गए, कभी गला घोंटा गया तो कभी उन्हें जिंदा जलाया गया। तमाम प्रताड़नाओं को सहने के बाद सैंकड़ों पीड़ितों ने दम तोड़ा और कई गिरफ्तार हुए। अब सदियों बाद ‘द विचिस ऑफ स्कॉटलैंड’ नामक समूह ने ये माँग उठाई है कि उन पीड़िताओं पर लगे ‘डायन होने के’ इल्जामों को खत्म किया जाना चाहिए। इस संबंध में इस समूह ने स्कॉटलैंड संसद तक अपनी याचिका दी है, जिसे समर्थन भी मिला है।

डेलीमेल की रिपोर्ट के अनुसार, सन् 1590 में जिलीस डनकन नामक एक गरीब लड़की की चीखों ने सबको दहला दिया था। मगर, एडिनबर्ग के पूर्व में स्थित एक शहर ट्रानेंट के अधिकारी और उसकी टीम को उस लाचार लड़की पर दया नहीं आई। उन्होंने उस पर जादू-टोना करने वाली डायन होने का इल्जाम मढ़ा और फिर उंगली मोड़ने वाले औजार से उसकी उंगली कुचल डाली। फिर उसे रस्सी से बांधा गया और नंगा करके शरीर को छील दिया गया। उसके साथ ये बर्बरता करने वालों ने अपनी क्रूरता को जायज ठहराने के लिए दावा किया था कि गिलिन के गले में शैतान का निशान था।

मौजूदा जानकारी बताती है कि स्कॉटलैंड में एक समय में डायन बताकर या जादू-टोना करने वाले कहकर, करीब 4000 लोगों (84% महिलाएँ) को गिरफ्तार किया गया था और इनमें 2500 से ज्यादा की हत्या कर दी गई थी। ये पूरा आँकड़ा 1563 से 1736 के बीच का है। ये वहीं अंतराल है जब विचक्राफ्ट एक्ट स्कॉटलैंड में अस्तित्व में आया और बाद में उसे वापस ले लिया गया। इस एक्ट के आने के पीछे की वजह थी किसी अनहोनी का किसी दूसरे पर इल्जाम मढ़ा जा सके।

इस एक्ट के तहत तमाम लोग मारे गए। एक बुजुर्ग महिला एग्नेस सैंपसन को लेकर बताया जाता है कि उन्हें नींद की समस्या थी जिसकी वजह से उनकी मति भ्रमित हो जाती थी। अधिकारियों ने इस बुजुर्ग को भी गिरफ्तार किया और इन्हें होने वाली हैलुसिनेशन की समस्या को सबूत के तौर पर पेश किया कि वो डायन हैं। बाद में उन्हें कोठरी में बंद करके दीवार से चिपका कर रखा गया। साथ ही उनके मुँह में चार नुकीले काँटे डाले गए।

एक डॉ जॉन थे जो पेशे से स्कूल मास्टर थे उन्हें भी जादू टोना करने के आरोप में पकड़ा गया था। इसके बाद उन्हें नाखून नोच दिए गए और उनकी जगह लोहे की कील घुसा दी गई। बाद में उंगली तोड़ने वाले औजार से उनकी उंगली भी कुचल दी गई और पैर को ऐसे जूतों में फंसा दिया गया जिसे पिंडली की हड्डियों को कुचलने के लिए डिजाइन किया गया था। ये तीनों बर्बरता साल 1591 की बाते हैं जिनके शरीर को भीड़ के सामने कैसलहिल में जलाया गया। इनके अलावा ऐसे कई लोग थे जिन्हें जिंदा जला दिया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -