Thursday, October 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतिहाड़ में बंद यासीन मलिक की बीवी ने इस्लामाबाद के जलसे में पढ़ी भारत...

तिहाड़ में बंद यासीन मलिक की बीवी ने इस्लामाबाद के जलसे में पढ़ी भारत विरोधी कविता

अपने सम्बोधन के दौरान मशाल मलिक ने भारत विरोधी सुर अलापा। उन्होंने कश्मीर को 'भारत के कब्जे वाला क्षेत्र' कहा और 'कश्मीर की आजादी' की माँग की। टेरर फंडिंग मामले में पति की गिरफ़्तारी के बाद मशाल ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस बुला कर रोने-धोने का नाटक किया था।

पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कश्मीरी अलगाववादी यासीन मलिक की पत्नी मशाल मलिक ने पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में आयोजित इस
कार्यक्रम में मशाल मलिक ने एक कविता भी पढ़ी। इस कविता में ‘भारत द्वारा कश्मीर में किए जा रहे अत्याचार की चर्चा’ थी। ये वही मशाल मलिक हैं, जिन्होंने अपने पति यासीन मलिक के जेल जाने के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस बुला कर रोने-धोने का नाटक किया था।

मशाल मलिक ने जिस कार्यक्रम में हिस्सा लिया, उसमें पाकिस्तानी वक्ताओं ने अपना अधिकतर समय भारत के ख़िलाफ़ बोलने में लगाया। भारत सरकार और सेना के ख़िलाफ़ भी काफ़ी ग़लतबयानी की गई। अपने सम्बोधन के दौरान मशाल मलिक ने भी भारत विरोधी सुर अलापा। उन्होंने कश्मीर को ‘भारत के कब्जे वाला क्षेत्र’ कहा और ‘कश्मीर की आजादी’ की माँग की। बता दें कि यासीन मलिक अभी दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल में बंद है।

उसकी गिरफ़्तारी के बाद मशाल मलिक ने अपनी 7 वर्षीय बेटी को प्रेस कॉन्फ़्रेंस में लाकर इमोशनल ब्लैकमेलिंग की कोशिश की थी। यासीन मलिक को एनआईए ने टेरर फंडिंग से जुड़े मामले में गिरफ़्तार किया था। यासीन और मशाल की शादी इस्लामाबाद में ही हुई थी। इस समारोह में पाक अधिकृत जम्मू-कश्मीर के कथित प्रधानमंत्री सहित पाकिस्तान व कश्मीर के कई नेता व अलगाववादी शामिल हुए थे।

यासीन मलिक की पत्नी द्वारा इस्लामाबाद में पाकिस्तानी स्वतंत्रता समारोह में हिस्सा लेने के बाद यह बहस और तेज़ हो गई है कि आखिर भारत सरकार इन अलगाववादियों को इतने दिनों से बर्दाश्त क्यों कर रही थी? अभी कुछ महीनों पहले तक इन्हें सरकार से सुरक्षा भी प्राप्त थी, जिसे गृह मंत्रालय ने वापस ले लिया। संसद में अमित शाह ने कहा था कि इन अलगावादियों के ख़ुद के बच्चे तो विदेशों में रह रहे हैं लेकिन ये कश्मीरी युवाओं के हाथों में पत्थर थमा देते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वर्ल्ड कप में ये ड्रामे होते हैं, दिखावे की जरूरत नहीं’: क्विंटन डिकॉक ने डिटेल में बताया क्यों नहीं टेका घुटना

डिकॉक ने बयान में कहा कि जब भी सब वर्ल्ड कप में जाते हैं तो ऐसा कोई न कोई ड्रामा होता ही है। ये चीजें अच्छी बात नहीं है।

‘बीजेपी दशकों तक रहेगी मजबूत, PM मोदी की ताकत का अंदाजा नहीं लगा पा रहे राहुल गाँधी’: प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का दबदबा बना रहेगा, बीजेपी आने वाले कई दशकों तक राजनीति में मजबूत ताकत बनी रहेगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
132,529FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe