Tuesday, April 20, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया सरकारी योजनाओं में नहीं होगा फर्जीवाड़ा, घुसपैठ रुकेगा: NDTV के इस वीडियो से समझें...

सरकारी योजनाओं में नहीं होगा फर्जीवाड़ा, घुसपैठ रुकेगा: NDTV के इस वीडियो से समझें NPR के फायदे

"ये अपनी तरह की सबसे बड़ी कवायद है। इस बार जनगणना अधिकारी आपके घर 2 फॉर्म लेकर आएँगे- एक हाउस लिस्टिंग का और दूसरा एनपीआर का फॉर्म होगा। 15 साल से ऊपर की उम्र का हर व्यक्ति इस रजिस्टर में होगा। एनपीआर के कई फ़ायदे होंगे। ये पहचान पत्र सरकारी योजनाओं में ख़ास कर के काम आएगा।"

नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) को लेकर केंद्र सरकार ने अहम घोषणा की है। इसके लिए 3941.35 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किए जाने के साथ ही सरकार ने बताया है कि 1 अप्रैल 2020 से इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। जहाँ एक तरफ मीडिया का गिरोह विशेष विपक्षी नेताओं के साथ मिल कर भ्रम फैलाने में लगा हुआ है, वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने स्पष्ट कर दिया है कि एनपीआर का एनआरसी से कोई लेनादेना नहीं है। एनडीटीवी के रवीश कुमार कई बार एनआरसी को लेकर लोगों के बीच डर का माहौल पैदा करने का प्रयास कर चुके हैं।

जैसा की हम पहले ही आपको बता चुके हैं एनपीआर की प्रक्रिया पहली बार यूपीए-2 की सरकार के दौरान पूरी की गई थी। तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल इस रजिस्टर में नाम दर्ज कराने वाली पहली सदस्य थीं। कॉन्ग्रेस ने ही इसे एनआरसी से जोड़ा था। आश्चर्य यह कि तब एनडीटीवी जैसे न्यूज़ चैनलों को एनपीआर काफ़ी महत्वपूर्ण लगा था। इस बारे में एनडीटीवी का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें एनडीटीवी की निधि कुलपति एनपीआर के फायदों के बारे में समझा रही हैं। आप भी इस वीडियो को देखें:

इस वीडियो में एनडीटीवी ने बताया था कि सरकार इस बार (2010-11 में) जनगणना के साथ एक और अहम कार्य कर रही है। एनडीटीवी ने बताया कि देश के हरेक व्यक्ति के डिटेल्स इसमें होंगे और इसके जरिए ही लोगों को विशेष पहचान पत्र मिलेगा। एनडीटीवी ने तब इसका महिमामंडन करते हुए इसे दुनिया के सबसे बड़े जनसंख्या रजिस्टर की संज्ञा दी थी। अपनी रिपोर्ट में एनडीटीवी ने बताया था:

“एनपीआर में क़रीब 120 करोड़ लोगों के नाम होंगे। इसे तैयार करने में 3540 करोड़ रुपए ख़र्च आएगा। ये अपनी तरह की सबसे बड़ी कवायद है। लोगों के फोटो खींचे जाएँगे और दसों उँगलियों के बायोमेट्रिक निशान लिए जाएँगे। इस बार जनगणना अधिकारी आपके घर 2 फॉर्म लेकर आएँगे- एक हाउस लिस्टिंग का और दूसरा एनपीआर का फॉर्म होगा। 15 साल से ऊपर की उम्र का हर व्यक्ति इस रजिस्टर में होगा। एनपीआर के कई फ़ायदे होंगे। इसके जरिए ही ‘यूनिक आइडेंटिटी कार्ड’ मिलेगा। ये पहचान पत्र सरकारी योजनाओं में ख़ास कर के काम आएगा।”

एनडीटीवी ने एनपीआर का गुणगान करते हुए बताया था कि इसके जरिए सरकारी योजनाओं में फर्ज़ीवाड़े को रोकना आसान हो जाएगा। साथ ही एनडीटीवी ने समझाया था कि किस तरह एनपीआर तैयार होने के बाद अवैध घुसपैठ रोकने में भी कामयाबी मिलेगी। चैनल ने आगे बताया कि यह भारत में रह रहे लोगों का डेटाबेस होगा। इससे अवैध रूप से रह रहे लोगों की पहचान होगी। एनडीटीवी ने जनता से अपील करते हुए कहा था- ध्यान रखे, इस रजिस्टर में आपका नाम ज़रूर होना चाहिए, क्योंकि ये आपके बहुत काम आएगा।

भाजपा ने नहीं, कॉन्ग्रेस की सरकार ने NPR को NRC से जोड़ा था: 9 साल बाद मोदी सरकार ने अलग किया

NPR का पहला डाटा किसका: जिसके लिए कॉन्ग्रेसी मंत्री ने कहा था- इंदिरा गाँधी की रसोई सँभालती थी

1 अप्रैल से NPR: घर-घर जाकर जुटाया जाएगा डाटा, मोदी सरकार ने ₹8500 करोड़ की दी मंजूरी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी की 400 साल पुरानी परंपरा: बाबा मसाननाथ मंदिर में मोक्ष की आकांक्षा में धधकती चिताओं के बीच नृत्य करती हैं नगरवधुएँ

काशी की महाशिवरात्रि, रंगभरी एकादशी, चिता भस्म की होली के बाद एक और ऐसी प्राचीन परंपरा जो अपने आप में अनूठी है वह है मणिकर्णिका घाट महाश्मशान में बाबा मसाननाथ के दर पर नगरवधुओं का नृत्य।

सुबह का ‘प्रोपेगेंडाबाज’ शाम को ‘पलटी मारे’ तो उसे शेखर गुप्ता कहते हैं: कोरोना वैक्सीन में ‘दाल-भात मूसलचंद’ का क्या काम

स्वदेशी वैक्सीन पर दिन-रात अफवाह फैलाने वाले आज पूछ रहे हैं कि सब को वैक्सीन पहले क्यों नहीं दिया? क्या कोरोना वॉरियर्स और बुजुर्गों को प्राथमिकता देना 'भूल' थी?

बोया पेड़ बबूल का, आम कहाँ से होएः दिल्ली में CM केजरीवाल के ‘मैं हूॅं ना’ पर मजदूरों की बेबस भीड़ क्यों भारी

केजरीवाल ने मज़दूरों से अपील करते हुए 'मैं हूॅं ना' के शाहरुख़ खान स्टाइल में कहा: सरकार आपका पूरा ख़याल रखेगी। फिर भी वही भीड़ क्यों?

‘भारत में कोरोना के डबल म्यूटेशन ने दुनिया को चिंता में डाला’: मीडिया द्वारा बनाए जा रहे ‘डर के माहौल’ का FactCheck

'ब्लूमबर्ग' की रिपोर्ट में दावा किया गया कि भारत के इस डबल म्यूटेशन ने दुनिया को चिंता में डाल दिया है। जानिए क्या है इसके पीछे की सच्चाई।

‘सरकार पर विश्वास नहीं’: मजदूरों ने केजरीवाल की नहीं सुनी, 5 लाख ने पकड़ी ट्रेन-बस टर्मिनल पर 50000; दिल्ली से घर लौटने की मारामारी

घर वापसी की यह होड़ केजरीवाल सरकार की साख पर सवाल है। यह बताती है कि दिल्ली के सीएम की बातों पर मजदूरों को भरोसा नहीं है।

कोरोना से लड़ाई में मजबूत कदम बढ़ाती मोदी सरकार: फर्जी प्रश्नों के सहारे फिर बेपटरी करने निकली गिद्धों की पाँत

गिद्धों की पाँत फिर से वैसे ही बैठ गई है। फिर से हेडलाइन के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह के सहारे वक्तव्य दिए जा रहे हैं। नेताओं द्वारा फ़र्ज़ी प्रश्न उठाए जा रहे हैं। शायद फिर उसी आकाँक्षा के साथ कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई हार जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

पुलिस अधिकारियों को अगवा कर मस्जिद में ले गए, DSP को किया टॉर्चरः सरकार से मोलभाव के बाद पाकिस्तान में छोड़े गए बंधक

पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की सरकार के साथ मोलभाव के बाद प्रतिबंधित इस्लामी संगठन TLP ने अगवा किए गए 11 पुलिसकर्मियों को रिहा कर दिया है।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe