Tuesday, January 26, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया जामिया के नाम पर बिल फाड़ने वाले नासिर आज़मी की खुली पोल, Zee Media...

जामिया के नाम पर बिल फाड़ने वाले नासिर आज़मी की खुली पोल, Zee Media ने दिया था परफॉर्मेंस सुधारने का अल्टीमेटम

Zee News के सीनियर प्रोड्यूसर ने कहा है कि हर कोई अपनी बेहतरी के लिए किसी भी संस्थान को छोड़ने के लिए स्वतंत्र होता है। लेकिन यहाँ सवाल बेहतरी का नहीं, बल्कि मौक़ा देखकर ख़ुद को शहीद दिखाने का है।

Zee Media के प्रोडक्शन हेड नासिर आज़मी ने रविवार (22 दिसंबर) को सोशल मीडिया पर दावा किया कि उन्होंने जामिया मिलिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए इस्तीफ़ा दे दिया है। नासिर का कहना था कि जेएनयू, कन्हैया कुमार, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और हाल ही में जामिया मिलिया इस्लामिया की घटनाओं को कवर करने के मामले में Zee News “विफल” रहा है।

उन्होंने अपने ट्वीट में भी ऐसा ही दावा किया।

लोगों की नज़र में आने के लिए नासिर आज़मी ने कुछ राजनीतिक दलों और राजनेताओं को टैग भी किया, जिससे उन्हें कुछ रीट्वीट मिल सकें।

लेकिन नासिर आज़मी के Zee Media छोड़ने की असल वजह कुछ और है, जो उन्होंने नहीं बताई।


Zee News के नासिर आज़मी को मिला था परफॉर्मेंस इम्प्रूवमेंट प्लान का नोटिस

ऑपइंडिया को सूत्रों ने बताया कि नासिर आज़मी को पहले ही एक महीने के लिए परफॉर्मेंस इम्प्रूवमेंट प्लान (PIP) में रखा गया था, क्योंकि उनके काम की परफार्मेंस मीडिया संस्थान के मानक पर खरी नहीं उतरती थी। इस बात को प्रमाणित करने के लिए ऊपर अपलोड किए दस्तावेज़ के अनुसार, उनका PIP टाइम 4 दिसंबर, 2019 से 4 जनवरी 2020 तक प्रभावी था।

22 दिसंबर को जब उन्होंने जामिया के छात्रों और अन्य लोगों के साथ नागरिकता संशोधन कानून के ख़िलाफ़ एकजुटता दिखाते हुए ट्वीट किया तो उन्होंने अपने PIP से जुड़े सच के बारे में किसी को कुछ नहीं बताया। शायद उन्हें यह लगा होगा कि उनका यह सच किसी के सामने तब तक नहीं आएगा, जब तक वो किसी से शेयर नहीं करेंगे। लेकिन सोशल मीडिया के युग में कुछ भी छिपाए नहीं छिपता।

Zee News के सीनियर प्रोड्यूसर अमित कुमार सिंह ने आज़मी के झूठ का पर्दाफ़ाश फेसबुक पर किया।

सिंह ने कहा कि आज़मी न केवल जामिया के छात्रों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं, बल्कि इस्लाम के नाम पर झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि हर कोई अपनी बेहतरी के लिए किसी भी संस्थान को छोड़ने के लिए स्वतंत्र होता है। लेकिन यहाँ सवाल बेहतरी का नहीं, बल्कि मौक़ा देखकर ख़ुद को शहीद दिखाने का है।

उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा कि उम्मीद नहीं थी कि जिस संस्थान ने आपको (नासिर आज़मी) 10 सालों से भी ज्यादा वक्त तक आसरा दिया, जहाँ की बदौलत आपकी दाल-रोटी चलती रही वहाँ से रुखसत होते समय आप अपने झूठे ज़मीर को आगे कर देंगे। पोस्ट में नासिर से पूछा गया है कि उन्होंने अपने फैसले की वजह जेएनयू, एएमयू, कन्हैया कुमार और जामिया को बताया है। लेकिन, जब इन जगहों पर घटनाएँ हुई तो उनका जमीर क्यों नहीं जागा? यह एहसास होने के बाद कि ज़ी मीडिया में ज्यादा दिन तक ठहरना मुमकिन नहीं है तो आपने जामिया के छात्रों और दूसरे लोगों को बेवकूफ़ बनाना शुरू कर दिया।

सिंह ने नासिर को फ़टकारते हुए लिखा कि आपके ज़मीर के मुताबिक़ 2016 में ही आपको ज़ी मीडिया को बाय-बाय बोल देना चाहिए था..लेकिन कौन छोड़ता है मोटी तनख्वाह को, वो भी लाखो की तनख्वाह को। लेकिन, यहाँ तो ज़मीर का मसला था ही नहीं, आपने तो ज़मीर के नाम पर दूसरों को बेवकूफ़ बनाना शुरू कर दिया..इस बारे में सोचिएगा। उन्होंने लिखा कि CAA और NRC के बारे में अफ़वाह फैलाने वालों में आप भी शामिल हैं… आपको सच्चाई मालूम है, इसलिए PIP का ये लेटर उनके लिए अटैच कर रहा हूँ, जो आपके बारे में जानते नहीं हैं।

‘तबरेज के बदले’ पर हसनैन का नफरत फैलाने वाला TikTok वीडियो, Zee Music ने कर दी छुट्टी

जामिया मिलिया के बाहर ANI पत्रकारों पर हमला, हॉस्पिटल भेजे गए: अन्य रिपोर्टरों से भी हो चुकी है बदसलूकी

जामिया में दंगाइयों ने ही लगाई थी बसों में आग: CCTV फुटेज जारी होने के बाद माफ़ी माँगेंगे सिसोदिया?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।
00:32:37

मीलॉर्ड! आज खुश तो बहुत होंगे आप: ऑपइंडिया एडिटर के चंद सवाल

शायद अब सुप्रीम कोर्ट को लगेगा कि औरों के भी संवैधानिक अधिकार हैं, लिब्रांडू मीडिया गिरोह इसे सफल आंदोलन करार देगा, जबकि पुलिस पर तलवारों से हमले हुए हैं!

लाल किला पर खालिस्तानी झंडा फहराने पर SFJ देगा ₹1.83 करोड़, पहुँच गई ‘किसानों’ की ट्रैक्टर रैली

दिल्ली में जारी 'किसानों' का विरोध प्रदर्शन अब हिंसा और अराजकता में बदल गया है। लाल किला तक किसानों की ट्रैक्टर रैली का जत्था पहुँच चुका है।

ITO पर पुलिसकर्मी को डंडों से घोंचा, कॉलर पकड़ कर हाथापाई और मारपीट: Video

हाथ में डंडे लिए इन किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिसकर्मी को सड़क पर घेर लिया गया और उनका कॉलर पकड़कर उनके साथ लाठी-डंडों से हाथापाई करने लगे।

DTC बस को तोड़ा, तलवारबाजी करते बढ़ रहे… पुलिस को धकियाते-रगेदते संसद और लाल किला की ओर ‘किसान’

घटना की वीडियो भी है। वीडियो में देख सकते हैं कि डीटीसी बस पर भारी भीड़ ने हमला किया है। उसे गिराकर तोड़ने का प्रयास हो रहा है।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।
- विज्ञापन -

 

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।
00:32:37

मीलॉर्ड! आज खुश तो बहुत होंगे आप: ऑपइंडिया एडिटर के चंद सवाल

शायद अब सुप्रीम कोर्ट को लगेगा कि औरों के भी संवैधानिक अधिकार हैं, लिब्रांडू मीडिया गिरोह इसे सफल आंदोलन करार देगा, जबकि पुलिस पर तलवारों से हमले हुए हैं!

उपद्रवी ‘अन्नदाता’ को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस जान-जोखिम में डालकर बैठी सड़क पर: जगह-जगह हो रहे भयंकर तोड़-फोड़

उपद्रव को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस जहाँ जान को जोखिम में डालकर सुरक्षा सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है। वहीं वामपंथी गिरोह सोशल मीडिया पर पुलिस को नेगेटिव दिखाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा।

लाल किला पर खालिस्तानी झंडा फहराने पर SFJ देगा ₹1.83 करोड़, पहुँच गई ‘किसानों’ की ट्रैक्टर रैली

दिल्ली में जारी 'किसानों' का विरोध प्रदर्शन अब हिंसा और अराजकता में बदल गया है। लाल किला तक किसानों की ट्रैक्टर रैली का जत्था पहुँच चुका है।

ITO पर पुलिसकर्मी को डंडों से घोंचा, कॉलर पकड़ कर हाथापाई और मारपीट: Video

हाथ में डंडे लिए इन किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिसकर्मी को सड़क पर घेर लिया गया और उनका कॉलर पकड़कर उनके साथ लाठी-डंडों से हाथापाई करने लगे।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

DTC बस को तोड़ा, तलवारबाजी करते बढ़ रहे… पुलिस को धकियाते-रगेदते संसद और लाल किला की ओर ‘किसान’

घटना की वीडियो भी है। वीडियो में देख सकते हैं कि डीटीसी बस पर भारी भीड़ ने हमला किया है। उसे गिराकर तोड़ने का प्रयास हो रहा है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe