Tuesday, July 23, 2024
Homeसोशल ट्रेंडहिंदुओं का पर्व है तो प्रदूषण पर ज्ञान दो… खुद धुआँ छोड़ते चार्टर्ड प्लेन...

हिंदुओं का पर्व है तो प्रदूषण पर ज्ञान दो… खुद धुआँ छोड़ते चार्टर्ड प्लेन में बैठ कर आ जाओ: कोहली की दोमुँही नीति, सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग

विराट कोहली हिन्दुओं को किस तरह दिवाली का त्यौहार मनाना चाहिए, प्रदूषण नहीं फैलाना चाहिए, इस पर सलाह देते हुए नजर आते हैं। लेकिन खुद चार्टर फ्लाइट से यात्रा करते समय प्रदूषण और पर्यावरण का खयाल गायब हो जाता है।

भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी विराट कोहली अपनी दोहरी नीति के लिए सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर हैं। यह मामला क्रिकेट से जुड़ा न होकर वेस्टइंडीज से उनकी भारत वापसी का है। वापसी चार्टर्ड प्लेन से। कोहली निशाने पर हैं क्योंकि वो प्रदूषण को लेकर दिवाली पर ज्ञान देते हैं।

विराट कोहली ने गुरुवार (3 अगस्त, 2023) को इंस्टाग्राम पर भारत की अपनी वापसी यात्रा की तस्वीरें साझा कीं, जिसमें उनकी चार्टर्ड प्लेन से उड़ान की चर्चा है। पोस्ट में कहा गया है कि ग्लोबल एयर चार्टर सर्विसेज ने स्टार क्रिकेटर के लिए एक विशेष उड़ान की व्यवस्था की और उन्होंने विमान से कुछ तस्वीरें पोस्ट कीं। जिसके बाद से वह  सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘X’ पर मौजूद ट्विटर यूजर्स के निशाने पर आ गए।

इसकी वजह कोई और नहीं बल्कि विराट कोहली का दिवाली के शुभ अवसर पर पटाखे फोड़ने को लेकर दिया गया प्रदूषण और कार्बन उत्सर्जन सम्बन्धी ज्ञान है। जबकि खुद अकेले यात्रा करने के लिए जब वह चार्टर्ड फ्लाइट लेते हैं तो यह भूल जाते हैं कि उनके चार्टर्ड उड़ानों के कारण होने वाले कार्बन उत्सर्जन की खतरनाक मात्रा पर्यावरण के लिए कितनी हानिकारक है। 

बता दें कि दिवाली पर कई दिग्गज सेलिब्रिटी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर दीवाली की शुभकामनाएँ देते हैं। इसी कड़ी में कई जो आमतौर पर बकरीद पर जीव हत्या पर मौन रहते हैं लेकिन दिवाली आते ही उनके अंदर वैज्ञानिक से लेकर पर्यावरणविद तक सब जाग जाता है। विराट भी उन्हीं में से एक हैं, जो हिन्दुओं को किस तरह दिवाली का त्यौहार मनाना चाहिए, यह सलाह देते हुए नजर आए थे। 

विराट कोहली ने पिछले साल दिवाली पर 18 सेकंड का एक वीडियो पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने कहा था, “मेरी तरफ से आपको और आपके परिवार को बहुत-बहुत शुभकामनाएँ। भगवान आपको इस दिवाली शांति, समृद्धि और खुशी प्रदान करें। कृपया याद रखें कि पटाखे न फोड़ें, पर्यावरण की रक्षा करें और इस शुभ अवसर पर एक साधारण दीए और मिठाई के साथ अपने प्रियजनों के साथ घर पर मस्ती करें। भगवान आप सबका भला करे। अपना ख्याल रखिएगा।”

अब जब वह खुद चार्टर फ्लाइट से यात्रा कर रहे हैं तो प्रदूषण और पर्यावरण का खयाल गायब है। इसको लेकर सोशल मीडिया यूजर्स ने उन्हें आड़े हाथों लिया। नारायण हरिहरन नाम के यूजर्स ने लिखा, “कहाँ गया एयर पॉल्यूशन? अच्छा हाँ वह केवल दीपावली पर याद आता है।”

मून ज़ू नाम के यूजर्स ने पोस्ट किया, “वह और उसकी पत्नी अकेले ही कुछ गाँवों की तुलना में अधिक CO2 उत्सर्जन करते हैं, फिर भी त्योहार पर वह आम लोगों को ग्लोबल वार्मिंग पर मुफ्त ज्ञान देते हैं।”

विराट कोहली की दोमुँही सोच और कृत्य पर कई सोशल मीडिया यूजर्स ने लताड़ लगाई है। लोगों ने इंस्टाग्राम से लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर भी स्टार क्रिकेटर को उनके डबल स्टैण्डर्ड के लिए घेरा है। यहाँ आप कुछ और ट्वीट देख सकते हैं।

खेल की बात करें तो विराट कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज में शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने 500वें अंतरराष्ट्रीय मैच में शानदार शतक जमाया। वेस्टइंडीज सीरीज में कोहली एकदिवसीय श्रृंखला के केवल पहले मैच में ही खेले थे और अन्य वरिष्ठ खिलाड़ियों के साथ, उन्हें टी-20 मैचों के लिए आराम दिया गया है इसलिए वह भारत लौट आए। चार्टर्ड प्लेन से आने लेकिन दीवाली पर ज्ञान बखारने को लेकर अपनी दोहरे चरित्र वाली हरकतों के कारण वह निशाने पर हैं। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -