Tuesday, July 16, 2024
Homeवीडियोचीनी ऐप कैसे चुराते हैं आपके डेटा: अजीत भारती की विस्तृत रिपोर्ट | Ajeet...

चीनी ऐप कैसे चुराते हैं आपके डेटा: अजीत भारती की विस्तृत रिपोर्ट | Ajeet Bharti on India blocking 59 Chinese apps

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इस पर बयान जारी करते हुए बताया कि ये सारे ऐप्स भारत की संप्रभुता, अखंडता, राष्ट्रीय प्रतिरक्षा, राष्ट्रीय सुरक्षा और पब्लिक ऑर्डर पर खतरा बन कर उभरा है। ये गंभीर चिंता का विषय है। इस पर जल्द कदम उठाने की जरूरत है।

भारत सरकार ने टिकटॉक समेत 59 ऐप को बैन कर दिया। इसमें सेल्फी लेने वाले ऐप से लेकर, शॉर्ट वीडियो बनाने वाले, फाइल शेयर करने वाले और प्राइवेसी को खंडित करने वाले ऐप हैं। आपको पता भी नहीं होता है और मोबाइल क्लीन करने, फास्ट करने के नाम पर आपके डेटा चुरा लिए जाते हैं।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इस पर बयान जारी करते हुए बताया कि ये सारे ऐप्स भारत की संप्रभुता, अखंडता, राष्ट्रीय प्रतिरक्षा, राष्ट्रीय सुरक्षा और पब्लिक ऑर्डर पर खतरा बन कर उभरा है। ये गंभीर चिंता का विषय है। इस पर जल्द कदम उठाने की जरूरत है। इसको लेकर सरकार को काफी समय पहले से आगाह किया जा रहा था। और आखिरकार भारत ने इसे बैन कर दिया। बहुत कम ऐसे देश हैं, जो ऐसे ऐप को बैन करने की सामर्थ्य रखते हैं।

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक कर के देखें।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -