Tuesday, July 23, 2024
Homeव्हाट दी फ*'हम कुत्ते हैं, हमें हमारी पहचान दो': रेलवे स्टेशन के बाहर डॉगी जैसे कपड़ों...

‘हम कुत्ते हैं, हमें हमारी पहचान दो’: रेलवे स्टेशन के बाहर डॉगी जैसे कपड़ों में जमा हुए सैकड़ों लोग, लगे भौंकने; जानिए जर्मनी में क्यों हुआ अजीबोगरीब जमावड़ा

साल 2016 में 'द सीक्रेट लाइफ ऑफ ह्यूमन पिप्स' नामक एक डॉक्यूमेंट्री रिलीज की गई थी। इस डॉक्यूमेंट्री में ऐसे लोगों के जीवन को दिखाया गया था, जो कुत्तों की तरह कपड़े पहनकर रहना पसंद करते हैं। इसमें यूरोप भर से कई सारे लोग शामिल हुए थे। इन लोगों ने अपना नाम भी कुत्तों की तरह रख लिया था।

जर्मनी की राजधानी बर्लिन में अजीबोगरीब घटना सामने आई है। यहाँ एक रेलवे स्टेशन के बाहर सैकड़ों लोग इकट्ठा हुए और फिर कुत्तों की तरह भोंकना शुरू कर दिया। ये लोग खुद को एक कुत्ते के रूप में पहचान दिलाने के लिए इकट्ठा हुए थे। इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वायरल वीडियो बर्लिन के पोट्सडेमर प्लाट्ज रेलवे स्टेशन का है। यहाँ ‘कैनाइन बीइंग्स’ ग्रुप द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। यह ग्रुप खुद को कुत्ता समझने वाले लोगों के अधिकारों के लिए आवाज उठाता है।

वायरल वीडियो में लोगों को कुत्तों की तरह आवाज निकलाते और भोंकते सुना जा सकता है। साथ ही लोग कुत्तों की तरह दिखने के लिए नकली मुँह, पूँछ व कपड़े पहने दिखाई दे रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम में करीब 1000 लोग शामिल हुए थे।

हालाँकि, कार्यक्रम के वीडियो को लेकर एक्स कम्युनिटी (पूर्व में ट्विटर) एक अलग ही कहानी बता रहा है। एक्स कम्युनिटी का कहना है कि वीडियो फोल्सम यूरोप का है। इसमें समलैंगिक पुरुष शामिल हुए थे। इसमें शामिल हुए लोग खुद को कुत्ता नहीं समझते, लेकिन लोगों ने कुत्तों की तरह दिखने वाले कपड़े पहने हुए थे।

रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि बर्लिन में यह कार्यक्रम जापान में एक आदमी के कुत्ता बनने की खबर सामने आने के बाद आयोजित किया गया। दरअसल, जापान में रहने वाले एक व्यक्ति ने खुद को कुत्ते की तरह दिखाने के लिए 22,000 डॉलर यानि करीब 18 लाख रुपए खर्च किए थे। यह व्यक्ति आम लोगों से दूर रहना पसंद करता है और इसे टोको के नाम से जाना जाता है।

टोको का यूट्यूब पर ‘आई वॉन्ट टू बी एनिमल’ (I want to be animal) नामक चैनल है। इसके 56,000 से अधिक सब्सक्राइबर हैं। टोको ने करीब 1 साल पहले एक वीडियो शेयर कर बताया था कि वह बचपन से ही कुत्ता बनना चाहता था। इसके अलावा कई मीडिया रिपोर्ट्स में टोको के कुत्ता बनने के सपने को लेकर बताया गया है।

टोको ने अपना यह सपना पूरा करने के लिए जापानी कंपनी ज़ेपेट से एक क्रूड कॉली आउटफिट यानि कुत्ते की तरह दिखने वाला कपड़ा खरीदा था। जेपेट आमतौर पर टीवी विज्ञापनों और फिल्मों के लिए कॉस्ट्यूम डिजाइन और मैन्यूफैक्चरिंग का काम करती है।

गौरतलब है कि साल 2016 में ‘द सीक्रेट लाइफ ऑफ ह्यूमन पिप्स’ नामक एक डॉक्यूमेंट्री रिलीज की गई थी। इस डॉक्यूमेंट्री में ऐसे लोगों के जीवन को दिखाया गया था, जो कुत्तों की तरह कपड़े पहनकर रहना पसंद करते हैं। इसमें यूरोप भर से कई सारे लोग शामिल हुए थे। इन लोगों ने अपना नाम भी कुत्तों की तरह रख लिया था। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

25000 ग्रामीण बसावटों के लिए सड़क, कोसी-मेची के जुड़ने से किसानों को फायदा: बजट 2024 में इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए ₹1111111 करोड़, राज्यों को भी...

बजट 2024-25 में इंफ्रास्ट्रक्चर पर जोर है। इसके साथ ही पहाड़ी राज्यों में बादल फटने और लैंड स्लाइड से हुई हानि के लिए भी प्रावधान है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -