Saturday, July 13, 2024
Homeव्हाट दी फ*'चन्द्रमा को घोषित करें हिन्दू राष्ट्र, शिव शक्ति प्वाइंट हो राजधानी': स्वामी चक्रपाणि बोले-...

‘चन्द्रमा को घोषित करें हिन्दू राष्ट्र, शिव शक्ति प्वाइंट हो राजधानी’: स्वामी चक्रपाणि बोले- जिहादी करें दावा, उससे पहले भारत के संसद में हो प्रस्ताव पास

वीडियो में स्वामी चक्रपाणि महाराज ने यह भी घोषणा की कि जब चंद्रमा की यात्रा सुविधाजनक हो जाएगी, तो महासभा द्वारा चंद्रमा पर शिव शक्ति बिंदु पर भगवान शिव और देवी शक्ति के लिए एक भव्य मंदिर बनाया जाएगा।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज ने रविवार (27 अगस्त) को एक वीडियो जारी कर ‘हिन्दू राष्ट्र’ की ऐसी माँग रखी कि सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया। दरअसल, भारत के चंद्रयान-3 मिशन की सफल सॉफ्ट लैंडिंग के बाद हिन्दू महासभा के चक्रपाणि महाराज ने माँग की है कि इससे पहले की जिहादी, आतंकी मानसिकता सहित, दूसरे धर्मों या देशों द्वारा चंद्रमा पर अपना दावा ठोका जाए चंद्रमा को ‘हिंदू राष्ट्र’ घोषित किया जाना चाहिए।

इतना ही नहीं उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर वीडियो पोस्ट कर अपनी माँग को सार्वजानिक कर दिया। अपने पोस्ट में उन्होंने इस बात पर जोर दिया है कि भारत को संसद में प्रस्ताव पारित कर चन्द्रमा को हिंदू राष्ट्र घोषित कर देना चाहिए। 

चक्रपाणि महाराज ने अपने वीडियो संदेश को सोशल मीडिया X पर पोस्ट करते हुए लिखा, ”संसद से चाँद को हिंदू सनातन राष्ट्र के रूप में घोषित किया जाए, चंद्रयान-3 के उतरने के स्थान “शिव शक्ति पॉइंट” उसकी राजधानी के रूप में विकसित हो, ताकि कोई आतंकी जिहादी मानसिकता का व्यक्ति वहाँ न पहुँच पाए।”

वीडियो में, उन्होंने चंद्रयान -3 अंतरिक्ष यान के लैंडिंग स्थल का नाम ‘शिव शक्ति पॉइंट’ रखने के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया, और इसे शिव शक्ति धाम का वैकल्पिक नाम भी बताया।

बता दें कि पीएम मोदी ने इसरो वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए चंद्रयान -3 मिशन की लैंडिंग साइट का नाम शिवशक्ति पॉइंट रखा है और चंद्रयान -2 की लैंडिंग साइट को अब तिरंगा के नाम से जाना जाएगा।

वहीं चक्रपाणि महाराज ने वीडियो में आगे बोलते हुए इस बात पर जोर दिया कि चंद्रमा पर एक हिंदू राष्ट्र की स्थापना की जानी चाहिए और शिव शक्ति पॉइंट या शिव शक्ति धाम को इसकी राजधानी के रूप में विकसित किया जाना चाहिए। उन्होंने जानकारी दी कि हिंदू महासभा ने इस संबंध में एक प्रस्ताव भी पारित किया है।

उन्होंने अपनी चिंता जताते हुए कहा, “चाँद को हिंदू राष्ट्र घोषित करने की जरूरत इसलिए भी है ताकि दूसरे लोग चाँद पर गजवा-ए-हिंद न चला सकें।” उन्होंने आग्रह किया कि ऐसा इससे पहले किया जाना चाहिए ताकि जिहादी मानसिकता वाला कोई व्यक्ति चंद्रमा पर कदम रखे और कट्टरवाद या इस्लामी आतंकवाद फैलाना न शुरू कर दे।

इसके लिए, उन्होंने हिन्दुओं की मान्यता का हवाला देते हुए, चंद्रमा के प्रति श्रद्धा की ओर भी इशारा किया और कहा कि यह भगवान शिव के माथे को सुशोभित करता है। इसके अतिरिक्त, उन्होंने कहा कि चंद्रमा के साथ हमारा गहरा और सदियों पुराना संबंध है और हम बोलचाल की भाषा में इसे चंदा मामा कहते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि चंद्रमा की शुद्धता और पवित्रता को बरकरार रखा जाना चाहिए और इसके लिए पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह यानी चंद्रमा को हिंदू या सनातन राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिए। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि वह इस संबंध में संसद और संयुक्त राष्ट्र को एक पत्र भेजेंगे।

गौरतलब है कि इस वीडियो में स्वामी चक्रपाणि महाराज ने यह भी घोषणा की कि जब चंद्रमा की यात्रा सुविधाजनक हो जाएगी, तो महासभा द्वारा चंद्रमा पर शिव शक्ति बिंदु पर भगवान शिव और देवी शक्ति के लिए एक भव्य मंदिर बनाया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में NDA की बड़ी जीत, सभी 9 उम्मीदवार जीते: INDI गठबंधन कर रहा 2 से संतोष, 1 सीट पर करारी...

INDI गठबंधन की तरफ से कॉन्ग्रेस, शिवसेना UBT और PWP पार्टी ने अपना एक-एक उमीदवार उतारा था। इनमें से PWP उम्मीदवार जयंत पाटील को हार झेलनी पड़ी।

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -