Wednesday, July 17, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'बेगम हलाला के बाद तुरंत वापस कर दी जाती है': फिर वायरल हुआ खतना...

‘बेगम हलाला के बाद तुरंत वापस कर दी जाती है’: फिर वायरल हुआ खतना एक्सपर्ट हाजी लल्लू का विजिटिंग कार्ड, जानिए सच

सोशल मीडिया में एक विजटिंग कार्ड वायरल है। इस पर लिखा है 'हमारे यहाँ बेगम हलाला करने के बाद तुरंत वापस कर दी जाती है'। कार्ड पर मोबाइल नंबर के साथ कानपुर के खतना एक्सपर्ट हाजी लल्लू का नंबर भी है। क्या है इसका सच?

सोशल मीडिया में एक विजटिंग कार्ड वायरल हो रहा है। इस पर लिखा है ‘हमारे यहाँ बेगम हलाला करने के बाद तुरंत वापस कर दी जाती है’। कार्ड पर मोबाइल नंबर के साथ एक तस्वीर भी छपी है। तस्वीर में दिख रहे शख्स कानपुर के रहने वाले हाजी लल्लू हैं जो ‘खतना एक्सपर्ट’ बताए जा रहे हैं।

यह पहला मौका नहीं है जब सोशल मीडिया में यह विजटिंग कार्ड वायरल हुआ है। हाजी लल्लू ने ऑपइंडिया से बातचीत में इसे किसी की किसी की शरारत करार दिया है। उन्होंने बताया है कि उनके खतने वाले विजिटिंग कार्ड को किसी ने एडिट कर उस पर हलाला वाली लाइन लिख वायरल कर दी है। इस संबंध में उन्होंने पुलिस से शिकायत करने की बात भी कही है।

हाजी लल्लू ने ऑपइंडिया को बताया कि वे मूल रूप से कानपुर के बाबूपुरवा थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। उनका खानदानी काम खतना करना है। लगभग 70 साल के हो चुके हाजी लल्लू को खतना करते हुए 50 साल हो चुके हैं। वे अब तक हजारों लोगों का खतना कर चुके हैं। ऐसे लोग भी हैं जिनकी 3 पीढ़ियों का खतना हाजी लल्लू ने किया है। साल 2012 में हाजी लल्लू ने अपना विजिटिंग कार्ड छपवाया था।

खतना स्पेशलिस्ट को बना दिया हलाला एक्सपर्ट

हाजी लल्लू के अनुसार लगभग 1 साल पहले किसी ने उनके विजिटिंग कार्ड को एडिट कर दिया। एडिटेड कार्ड में ऊपर की तरफ एक लाइन बढ़ा दी गई। इस लाइन में ‘हमारे यहाँ बेगम हलाला करने के बाद तुरंत वापस कर दी जाती हैं’ लिख दिया गया। हाजी लल्लू बताया कि यह एडिटेड कार्ड वायरल होने के बाद उन्हें लगातार फोन कॉल देश के अलग-अलग हिस्सों से आ रहे हैं।

हाजी लल्लू के मुताबिक उनको फोन करने वालों में हिन्दू और मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग हैं। वो हाजी से हलाला के बावत सवाल भी करते हैं। हाजी लल्लू के मुताबिक जब वो जवाब दे कर थक गए तो उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने का फैसला किया। उन्होंने दावा किया कि 17 फरवरी 2024 को उन्होंने बाबूपुरवा थाना जाकर SHO से अपना कार्ड एडिट करने वाले पर कार्रवाई की माँग की।

बच्चों से ले कर 75 साल तक के बुजुर्ग का भी खतना

हाजी लल्लू ने हमें बताया कि वो बच्चों से ले कर 75 साल तक के वृद्ध व्यक्ति तक का खतना कर चुके हैं। गरीबों से हाजी लल्लू खतने का 100 रुपए और अमीरों से वो 1500 रुपए तक चार्ज करते हैं। उनका दावा है कि उनकी प्रसिद्धि के चलते शहर में अक्सर लोग उनके यहाँ ही खतना करवाने आते हैं। 18 फरवरी 2024 को भी हाजी ने 4 लोगों का खतना करने का दावा किया। उन्होंने यह भी कहा कि खतने को ले कर उनकी प्रसिद्धि अल्लाह की देन है।

मनमोहन सिंह के मंच से दे चुके हैं सम्बोधन

हाजी लल्लू ने बताया कि वे पार्षदी का चुनाव बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर लड़ चुके हैं। उनका यह भी कहना है कि एक बार वे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ भी मंच साझा कर चुके हैं। तब मनमोहन सिंह चुनाव प्रचार के लिए कानपुर आए थे। हाजी खुद को कानपुर से कॉन्ग्रेस के पूर्व सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जयसवाल का करीबी बताते हैं। बकौल हाजी लल्लू उनका दिल्ली भी अक्सर आना-जाना लगा रहता है। उन्होंने आशंका जताई है कि उनके बढ़ते राजनैतिक कद और रसूख से जलन रखने वाले किसी शख्स ने ही उनका कार्ड एडिट कर वायरल किया है।

हाजी पहलवान के नाम से भी जानते हैं लोग

खतने के अलावा हाजी लल्लू जड़ी-बूटी बेचने का भी काम करते हैं। उनको हाजी पहलवान नाम से भी जाना जाता है। हाजी लल्लू का दावा है कि जवानी में उन्होंने खूब कुश्ती लड़ी है। उन्होंने यहाँ तक कहा कि कई बड़े-बड़े डॉक्टर भी उनसे खतना संबंधी मामलों में सलाह लेते हैं। हालाँकि हाजी लल्लू का कहना है कि बढ़ती उम्र की वजह से वे अब बहुत ज्यादा कहीं आते-जाते नहीं हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -