Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनपहले दिन ₹1 करोड़ को भी तरसी अर्जुन कपूर की 'कुत्ते': ऑडिएंस को ही...

पहले दिन ₹1 करोड़ को भी तरसी अर्जुन कपूर की ‘कुत्ते’: ऑडिएंस को ही दे रहे थे घुड़की, कहा था – बॉलीवुड ने बहुत बर्दाश्त किया

दक्षिण भारत में पिछले 3 दिनों में 4 बड़ी फ़िल्में रिलीज हुई हैं। तमिल इंडस्ट्री में 'थाला' अजीत कुमार की 'थुनीवु' बनाम 'थलापति' विजय की 'वरिसु' की टक्कर चल रही है।

अर्जुन कपूर की ‘कुत्ते’ बॉक्स ऑफिस पर रिलीज होते ही ‘डिजास्टर’ की श्रेणी में आ गई है। फिल्म ‘कुत्ते’ शुक्रवार (13 जनवरी, 2023) को सिनेमाघरों में रिलीज हुई। इस फिल्म में नसीरुद्दीन शाह और कुमुद मिश्रा के अलावा 3 अभिनेत्रियाँ तब्बू, कोंकणा सेन शर्मा और राधिका मदान भी हैं। इस फिल्म का निर्देशन आसमान भरद्वाज ने किया है जो वरिष्ठ फिल्म निर्देशक िशाल भरद्वाज के बेटे हैं। विशाल ‘मकबूल (2003)’, ‘ओंकारा (2006)’, ‘इश्किया (2010)’ और ‘हैदर (2014)’ जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं।

‘कुत्ते’ के बारे में बताया जा रहा है कि पहले दिन इसका बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 1 करोड़ से भी कम रहने की उम्मीद है। फिल्म के कहानी के सह-लेखन के साथ-साथ इसका संगीत भी विशाल भरद्वाज ने ही दिया है। साथ ही वो इसके निर्माताओं में से भी एक हैं। इतना कम बॉक्स ऑफिस कलेक्शन रहने का अर्थ है कि 20 करोड़ रुपए बजट वाली ये फिल्म अपने लागत का एक चौथाई भी लाइफटाइम में कमा ले तो ये बहुत बड़ी बात होगी।

दक्षिण भारत में पिछले 3 दिनों में 4 बड़ी फ़िल्में रिलीज हुई हैं। तमिल इंडस्ट्री में ‘थाला’ अजीत कुमार की ‘थुनीवु’ बनाम ‘थलापति’ विजय की ‘वरिसु’ की टक्कर चल रही है। दोनों ही फ़िल्में 100 करोड़ रुपए की कमाई की तरफ बढ़ रही है। उधर नंदमुरि बालाकृष्णा की फिल्म ‘वीरा नरसिंहा रेड्डी’ ने पहले ही दिन 48 करोड़ रुपए कमा कर इतिहास रच दिया है। ये उनका करियर बेस्ट है। उनके फैंस थिएटरों में ‘जय बलैय्या’ पर झूमते नजर आए।

अब इस फिल्म को टक्कर देने के लिए ‘मेगास्टार’ चिरंजीवी और ‘मास महाराजा’ रवि तेजा की तेलुगु फिल्म ‘वालटर वीरैया’ सिनेमाघरों में आ गई है। अर्जुन कपूर की फिल्म हिंदी में खास कम्पटीशन न होने के बावजूद पिट गई। अर्जुन कपूर ने कुछ दिनों पहले कहा था, “मुझे लगता है कि हमने बायकॉट के बारे में चुप रहकर गलती की और यह हमारी शालीनता थी लेकिन लोगों ने इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया है। मुझे लगता है कि हमने यह सोचकर गलती की है कि ‘हमारा काम खुद बोलेगा’।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -